डायबिटीज और किडनी की बीमारियों से निजात दिला सकता है आम का पत्ता

आम के फल के तमाम स्वास्थ्य संबंधी फायदे होते हैं लेकिन इनकी पत्तियां भी कम फायदेमंद नहीं होती हैं। इसमें कैफिक एसिड जैसे फिनॉलिक, मैगीफेरिन जैसे पॉलिफिनॉल्स, गैलिक एसिड, फ्लेवोनोइड्स और कई अस्थाई यौगिकों जैसे घटक पाए जाते हैं। ये सभी गुण आम को अच्छा एंटी-डायबिटीक, एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी-एलर्जिक प्राकृतिक उत्पाद बनाते हैं। आम के पत्तों का अर्क डायबिटीज और अस्थमा के इलाज में प्राचीन काल से उपयोग किया जाता है। आइए जानते हैं कि आम की पत्तियों का इस्तेमाल किन-किन रोगों के उपचार में असरदार होता है।

आंखों के लिए – आम की पत्तियां डायबिटीक रेटिनोपैथी का बेहतर इलाज होती हैं। फलों के साथ आम की पत्तियों में भी विटामिन ए पाया जाता है। इस वजह से ये आंखों के लिए बेहतरीन औषधि होते हैं।

ब्लड शुगर – आम की पत्तियां ब्लड शुगर को भी नियंत्रित करने में मददगार होती हैं। आम के पत्तों में टैनिन नाम का तत्व पाया जाता है। यह शरीर में इंसुलिन के उत्पादन और ग्लूकोज का स्तर बढ़ाकर ब्लड शुगर का स्तर कम करते हैं।

कोलेस्ट्रॉल कम करने में- आम के पत्ते फाइबर, पैक्टिन और विटामिन सी से भरपूर होते हैं। यह शरीर में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करते हैं। आम के फल में फ्लेवोनॉइड्स होते हैं जो लिपिड लेवल को कम करके धमनियों को स्वस्थ बनाते हैं।

किडनी की सेहत के लिए – डायबिटीज के चलते किडनी फेल होना बेहद आम है। अनियंत्रित ब्लड शुगर लेवल से यह बड़ी समस्या सबसे पहले होती है। आम का सेवन करने से इस समस्या से बचने में काफी मदद मिलती है। आम की पत्तियों से किडनी में पथरी की समस्या को हल करने और किडनी को सेहतमंद रखने में मदद मिलती है। इसी तरह यह आपको पित्ताशय की पथरी से निजात पाने और लिवर को सेहतमंद रखने में भी मदद करता है।

ऐसे करें इस्तेमाल – हल्के हरे रंग के छोटे आकार के आम के पत्तों को तोड़ लें और उन्हें अच्छे से धोएं। इन्हें छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर चबाएं। आम के कुछ पत्तों को तोड़कर रात भर के लिये बर्तन में भिगो दें। सुबह इसका सेवन करें। इसका सेवन खाली पेट ही करें। पत्तियों को धो कर धूप में सुखाएं और पाउडर बना लें। इस पाउडर की एक चम्मच मात्रा एक गिलास पानी में मिलाकर पी लें। रोज सुबह एक चम्मच सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है।