योगी सरकार ने बदले नियम, सुरेश रैना, अनुराग कश्यप से लेकर नवाजुद्दीन तक से छिनेगी पेंशन?

Monday, 23 July 2018 08:54

उत्तर प्रदेश सरकार ने पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की सरकार में यश भारती व पद्म सम्मान पाने वालों को पेंशन देने के लिए बनी नियमावली में संशोधन किया है और पेंशन की राशि 50 हजार से घटाकर 25 हजार रुपये प्रति माह कर दी है। यही नहीं, यश भारती से सम्मानित सरकारी सेवकों, सरकार के पेंशनरों और आयकरदाताओं को इस पेंशन का लाभ नहीं मिलेगा। संत-महंत मुख्यमंत्री ने इससे पहले यश भारती पेंशन को बंद करने का निर्णय लिया था, लेकिन भाजपा के अंदर से बढ़ते दबाव के बाद योगी सरकार ने पेंशन नियमावली में संशोधन करते हुए यश भारती सम्मान पेंशन की राशि आधी घटाकर इसे चालू रखने का फैसला लिया है। इस फैसले का असर पुरस्‍कार से सम्‍मानित मशहूर नामों पर पड़ेगा जिनमें क्रिकेटर सुरेश रैना, आरपी सिंह, फिल्‍म निर्माता अनुराग कश्‍यप, एक्‍टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी, नसीरुद्दीन शाह शामिल हैं।

सरकार ने संशोधन के बाद यश भारती पुरस्कार व पेंशन संबंधी आवेदन की तिथि बढ़ाते हुए 31 जुलाई कर दी है। 31 जुलाई के बाद प्राप्त होने वाले आवेदनपत्रों पर संस्कृति विभाग द्वारा विचार नहीं किया जाएगा। अखिलेश सरकार में यश भारती एवं पद्म सम्मान से सम्मानित लोगों के लिए मासिक पेंशन नियमावली-2015 जारी की गई थी। इसके तहत यश भारती सम्मान से सम्मानित लोगों को 50 हजार रुपये मासिक पेंशन दी जाती थी। लेकिन प्रदेश की सत्ता में परिवर्तन का लाभ मिलने के बजाय यश भारती सम्मानितों को हानि हुई।

योगी सरकार ने इस पेंशन को बंद करने का निर्णय लिया था, भाजपा पदाधिकारी समेत कुछ नेताओं ने मुख्यमंत्री को खुला पत्र लिखकर यश भारती पेंशन दोबारा शुरू करने की मांग की थी। अब सरकार ने यश भारती सम्मान को जारी रखने, लेकिन अखिलेश सरकार में जारी की गई मासिक पेंशन नियमावली-2015 में संधोशन करते हुए मासिक पेंशन नियमावली-2018 जारी कर दी है।

प्रमुख सचिव (संस्कृति) जितेंद्र कुमार की ओर से जारी नियावली के मुताबिक, यश भारती एवं पद्म पुरस्कारों से सम्मानित ऐसे लोग पेंशन पात्र नहीं होंगे, जो सरकारी पेंशन पा रहे हों, सरकारी सेवा में कार्यरत हों या आयकर दाता हों। यही नहीं, आवेदकों की जन्मभूमि और कर्मभूमि उत्तर प्रदेश ही होनी चाहिए। ऐसे पात्र लोगों को जीवन भर प्रतिमाह 25 हजार रुपये पेंशन दी जाएगी। वित्तीय वर्ष के प्रारंभ में पेंशनर को जीवित होने का प्रमाण पत्र देना होगा। पेंशन की स्वीकृति के लिए निर्धारित प्रारूप पर निदेशक संस्कृति को आवेदन देना होगा।

संस्कृति विभाग के निदेशक शिशिर कुमार ने बताया कि विभाग द्वारा यश भारती पुरस्कार से संबंधित महानुभाव, जिनको पूर्व से पेंशन प्राप्त हो रही थी, उनसे कुछ अतिरिक्त सूचनाएं विभाग द्वारा आवेदन प्रारूप के माध्यम से मांगी गई थी। इस संदर्भ में उनको पेंशन देने के लिए विभाग द्वारा प्रेषित किए गए आवेदन प्रारूप प्राप्त होने की अंतिम तिथि 4 जुलाई से एक सप्ताह निर्धारित की गई। फिर विभाग में आवेदन पत्र प्राप्त होने की अंतिम तिथि 22 जुलाई तक की गई। लेकिन बहुत से लोगों के आवेदनपत्र विभाग में अब तक प्राप्त नहीं हो सके, जिससे आवेदनोत्र जमा करने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 31 जुलाई तक किए जाने का निर्णय लिया गया है।

जीमेल यूजर को साइबर खतरे की चेतावनी

Monday, 23 July 2018 08:52

 जीमेल यूजर को गूगल मेल के नए फीचर को लेकर सतर्क किया गया है कि इस फीचर का लाभ उठाकर ऑनलाइन धोखाधड़ी की जा सकती है। कंपनी ने अप्रैल में अपनी नई डिजाइन पेश की थी, जिसमें कई सारे नए फीचर हैं। 

नए ब्रांड 'कांफिडेन्शियल मोड' में संदेशों का स्वत: जवाब देने के अलावा स्वयं ईमेल को नष्ट करने के भी फीचर हैं। 

एक्सप्रेस डॉट को डॉट यूके की शनिवार की रपट के अनुसार, यह कांफिडेन्शियल मोड की सुरक्षा को लेकर आशंकाएं बनी हुई हैं। 

घरेलू सुरक्षा विभाग ने संभावित खतरों को लेकर चेतावनी जारी की है। 

डीएचएस के प्रवक्ता लेसली फुलोप ने कहा, "हमने गूगल से संपर्क करके उनकी सेवाओं से संबंधित खुफिया जानकारी दी है और साइबर सुरक्षा में अपने आपसी हितों को बढ़ाने के लिए साझेदारी की है।"

जीमेल की नई डिजाइन से घोटालेबाज झूठा गुप्त ईमेल भेजकर चालबाजी से यूजर की सवंदेनशील जानकारी ले सकता है।

--आईएएनएस

उप्र में आंशिक बदली छाई, बारिश के आसार

Monday, 23 July 2018 08:52

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ व आसपास के जिलों में सोमवार सुबह आंशिक बदली छाने और तेज हवायें चलने से गर्मी व उमस से राहत मिली है। मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटों के दौरान कुछ जगहों पर बारिश होने की संभावना है। 

उप्र मौसम विभाग के निदेशक जे.पी गुप्ता के अनुसार, दिन में आंशिक बदली का असर रहेगा। बीच-बीच में धूप भी निकेलेगी लेकिन गर्मी व उमस से राहत रहेगी। दिन का अधिकतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस रहने की उम्मीद है। 

गुप्ता ने बताया कि आर्द्रता का स्तर भी 70 फीसदी के आससपास दर्ज किया जाएगा जिससे उमस कम रहेगी। 

मौसम विभाग के अनुसार, सोमवार को लखनऊ का न्यूनतम तापमान 18 डिग्री सेलिसस दर्ज किया गया जबकि अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

लखनऊ के अतिरिक्त सोमवार को वाराणसी का न्यूनतम तापमान 20 डिग्री, कानपुर का 21.3 डिग्री, इलाहाबाद का 25 डिग्री, गोरखपुर का 22 डिग्री और झांसी का 25.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

--आईएएनएस

चीन के शेयर गिरावट के साथ खुले

Monday, 23 July 2018 08:50

चीन के शेयर सोमवार को गिरावट के साथ खुले। शंघाई कंपोजिट बेंचमार्क 0.5 फीसदी की कमजोरी के साथ 2,815.2 अंकों पर खुला।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, शेनझेन कंपोनेंट सूचकांक 0.68 फीसदी की कमजोरी के साथ 9,188.46 पर खुला।

चाइनेक्स्ट सूचकांक 1.08 फीसदी की कमजोरी के साथ 1,592.24 पर रहा।

--आईएएनएस

दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर पर फर्जी डिग्री मामले में आरोप गठित

Monday, 23 July 2018 08:48

दिल्ली सरकार के पूर्व कानून मंत्री व आप विधायक जितेंद्र सिंह तोमर की कथित एलएलबी की डिग्री मामले में दिल्ली के पटियाला हाउस के अतिरिक्त मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने आरोप गठित कर दिया। अब तोमर समेत मुंगेर के बीएनएस इंस्टीच्यूट आफ लीगल स्टडीज और तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के नौ अधिकारियों व कर्मचारियों पर मुकदमा चलेगा। जिसकी सुनवाई की पहली तारीख 27 अगस्त को तय की गई है। यह जानकारी दिल्ली के थाना हौजखास के एसएचओ सतिंदर सांगवान ने दी है। इन्होंने ही इस मामले को शुरू से और गहराई से जांच कर आरोप पत्र कोर्ट में दायर किया था। इनके मुताबिक 27 अगस्त से मुकदमे में गवाहों के बयान दर्ज होने शुरू हो जाएंगे। आरोप पत्र में जिन लोगों के नामों का जिक्र किया गया था वे सभी शनिवार 21 जुलाई को पाटियाला हाउस में मौजूद थे।

अदालत ने जिनके खिलाफ आरोप गठित किए है उनके नाम जितेंद्र सिंह तोमर , बड़े नारायण सिंह, डा. रजी अहमद, डा. राजेन्द्र सिंह ( इन तीनों के दस्तखत से ही तोमर को प्रोविजनल डिग्री जारी की गई थी), निरंजन शर्मा, दिनेश कुमार श्रीवास्तव , अनिल कुमार सिंह , जनार्दन प्रसाद और सदानंद राय है। इससे पहले तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय अपनी जरूरी प्रक्रिया मसलन आंतरिक जांच , परीक्षा बोर्ड , सीनेट , सिंडिकेट की बैठक और राजभवन बगैरह की अनुमति हासिल कर तोमर की कथित एलएलबी की डिग्री को रद्द कर चुका है। और फर्जी डिग्री हासिल करने के बाबत विश्वविद्यालय ने एफआईआर भी दर्ज कराई है। जिसमें तोमर जमानत पर है। यूं तोमर ने भी पटना उच्च न्यायालय में डिग्री रद्द करने के खिलाफ अपील दायर कर रखी है।

जिसमें इनका आरोप है कि बगैर मेरा पक्ष जाने विश्वविद्यालय ने एक तरफा कर्रवाई कर डिग्री रद्द कर दी। पटना हाईकोर्ट ने तोमर का पक्ष सुनने का आदेश विश्वविद्यालय के कुलसचिव को दिया। तोमर इनके सामने बीते महीने अपने पांच वकीलों के साथ भागलपुर पहुंचे थे। दरअसल , जितेंद्र सिंह तोमर की फर्जी डिग्री होने का खुलासा एक सूचना के अधिकार के तहत लखनऊ के अवध विश्वविद्यालय से मांगी गई जानकारी के जवाब से हुआ। इसमें विश्वविद्यालय ने साफ तौर से इंकार करते हुए कहा कि तोमर को स्नातक विज्ञान की डिग्री यहां से जारी नहीं हुई है। इसी आधार पर फरवरी 2015 को दिल्ली हाईकोर्ट में तोमर की डिग्री को चुनौती दी गई।

तोमर ने अवध विश्वविद्यालय की स्नातक डिग्री के आधार पर मुंगेर के विश्वनाथ सिंह इंस्टीच्यूट आफ लीगल स्टडीज में बतौर नियमित छात्र की हैसियत से दाखिला लिया था। यह तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के तहत आता है। दिलचस्प बात कि इनके यहां जमा किया माइग्रेशन सर्टिफिकेट भी आरोपपत्र में जाली करार दिया गया है। जो बुंदेलखंड विश्वविद्यालय का है। तोमर ने 1994-1998 सत्र का विद्यार्थी होने का दावा किया। कानून की परीक्षा इस सत्र में पास होने के बाद 15 सितंबर 2012 को विश्वविद्यालय ने डिग्री दी। इसी डिग्री पर उन्होंने वकालत करने का लाइसेंस लिया। जिसे इस मुकदमेंबाजी की वजह से बार काउंसिल ने लाइसेंस को निलंबित कर दिया। ऐसा सतिंदर सांगवान बताते है।

उसी दौरान कोर्ट ने भागलपुर विश्वविद्यालय से डिग्री के बाबत जानकारी मांगी थी। तो दिल्ली हाईकोर्ट में एक शपथ पत्र दायर किया । जिसमें साफ लिखा कि निर्गत प्रिविजनल डिग्री संख्या 3687 दिनांक 29 जुलाई 1999 संजय कुमार चौधरी के नाम से है। जो मुंगेर के तारापुर के आरएस कालेज से राजनीति विज्ञान प्रतिष्ठा विषय के इम्तहान में सफल होने पर जारी की है।

आंखों के डार्क सर्कल्स से पाना चाहते हैं छुटकारा तो अपनाएं ये कारगर घरेलू उपाय

Monday, 23 July 2018 08:45

आजकल की भागदौड़ वाली जिंदगी में हर कोई इतना व्यस्त हैं कि वो अपनी रोजमर्रा की दिनचर्या पर ध्यान नहीं दे पाते और सही रहन-सहन और सही खान-पान ना मिल पाने के कारण हमारे शरीर को उचित पोषण नहीं मिल पाता है। इसके अलावा पूरी नींद भी अक्सर नहीं मिल पाती है। जिसके कारण आंखों के नीचे काले घेरों की समस्या का सामना करना पड़ता है। कई महिलाएं इससे छुटकारा पाने के लिए आलू और खीरे के टुकड़े अपनी आंखों पर रखती हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि ठंडे दूध और बादाम तेल का मिश्रण भी काले घेरे को प्रभावी तरीके से कम कर सकता है। आइए आज हम आपको आंखों के नीचे पड़ने वाले डार्क सर्कल्स से छुटकारा पाने के घरेलू उपायों के बारे में बताते हैं।

बादाम तेल: इसमें विटामिन ई होता है जो आंखों के डार्क सर्कल को कम करने में मदद करता है। बादाम तेल आँखों की नाजुक त्वचा के लिए बेहतर होता है। इसका इस्तेमाल रात को सोने से पहले करना चाहिए। रात भर इसे लगा रहने दें। सुबह अपना चेहरा साफ़ पानी के साथ धों लें।

टमाटर: आंखों के नीचे से डार्क सर्कल दूर करने के लिए टमाटर सबसे कारगर उपाय है। यह नेचुरल तरीके के साथ आंखों के काले घेरे को खत्म करता है। इसके साथ आपकी त्वचा कोमल और फ्रेश बनी रहती है।

गुलाब जल: अपनी आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स को दूर करने के लिए गुलाब जल में भीगी रूई के फाहे का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे आप आंखें बंद करके अपनी पलकों पर रखें।

ग्रीन टी बैग: ग्रीन टी बैग एंटीऑक्सीडेंट और टैनिंस से भरपूर होता है, जो त्वचा के रंग को हल्का करने और सूजन कम करने में सहायक होता है। इसके अलावा कैमोमाइल टी बैग भी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो त्वचा को साफ करने जैसे गुणों से समृद्ध होता है।

ठंडा दूध: दूध लैक्टिक एसिड, अमीनो एसिड, एंजाइम, प्रोटीन और कई एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। इसलिए ठंडा दूध भी आंखों के नीचे के काले घेरे को दूर कर सकता है।

सेब: सेब टैनिक एसिड से भरपूर होता है, जो प्राकृतिक रूप से त्वचा का रंग हल्का करता है। यह विटामिन बी, विटामिन सी और पोटैशियम से युक्त भी होता है, जो त्वचा को गहराई से पोषण देने के लिए जाना जाता है।

अलवर मॉब लिंचिंग: पीड़ित को अस्‍पताल ले जाने की बजाए पहले पुलिसवालों ने पी चाय

Monday, 23 July 2018 08:40

अलवर : अलवर में गोरक्षा के नाम पर भीड़ ने पीट-पीट कर अकबर नाम के व्यक्ति की जान ले ली. इस मामले में अब तक तीन लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है. भीड़ की हिंसा दिनों दिन डरा रही है और अगर इस हिंसा में पुलिस की लापरवाही भी शामिल हो जाए तो ये और ख़तरनाक हो जाती है. अलवर में गो तस्करी के शक में एक शख़्स की पिटाई से मौत के मामले में पुलिस की भूमिका पर उठते सवाल के बीच मामले की जांच सीनियर अफ़सर को सौंप दी गई है. एडिशनल एसपी क्राइम और विजिलेंस के एडिशनल एसपी अब इस मामले की जांच करेंगे यानी स्थानीय पुलिस की भूमिका सवालों के घेरे में आने के बाद स्थानीय पुलिस के हाथ से जांच छीन ली गई है.

आईजी के मुताबिक, इस पहलू की भी जांच की जाएगी कि आख़िर पुलिस ने रकबर को अस्पताल ले जाने में इतनी देर क्यों कर दी? दरअसल शुक्रवार और शनिवार की रात गो तस्करी के शक में रकबर और असलम की भीड़ ने पिटाई कर दी थी. असलम भाग निकला, लेकिन रकबर पिटता रहा. पुलिस मौक़े पर पहुंची, लेकिन रकबर को अस्पताल ले जाने की जगह ढाई घंटे से ज़्यादा समय तक यहां-वहां घुमाती रही, फिर थाने ले गई.

घायल रकबर लगातार कहता रहा कि वो दर्द में है लेकिन पुलिस उसे तुरंत अस्पताल न ले जाकर पहले गाय के लिए गाड़ी का इंतज़ाम करने में लगी रही. यही नहीं रास्ते में गाड़ी रोक कर चाय पी और फिर अस्पताल ले जाने की जगह थाने ले गई. जब पुलिस रकबर को लेकर अस्पताल पहुंची तब तक उसकी मौत हो चुकी थी. इस बीच पुलिस थाने में रकबर के साथ क्या हुआ इस पर पर्दा अभी नहीं उठा है, लेकिन अब आरोप लग रहा है कि थाने में जो हुआ उसकी वजह से रकबर की जान गई.  इस मामले में एक चश्मदीद का कहना है कि गाड़ी में पुलिस रकबर को पीट रही थी, गालियां दे रही थी. इस बीच पुलिस ने अब तक तीन लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है. इन सभी पर हत्या का मामला दर्ज हुआ है. कोर्ट ने तीनों को 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. मृतक रकबर का परिवार आरोपी पुलिसवालों पर कार्रवाई की मांग कर रहा है.

 तफ़्तीश में जानकारी मिली है कि रकबर भीड़ के हाथों जितना घायल नहीं हुआ उससे ज़्यादा वो पुलिस की हिरासत में हुआ और यही उसकी जान जाने की वजह बनी. यही नहीं, पुलिस घायल रकबर को सीधे अस्पताल भी नहीं ले गई, बल्कि ढाई घंटे से ज़्यादा समय तक यहां वहां घुमाती रही, थाने ले गई. वो अस्पताल तब पहुंचा जब उसकी मौत हो चुकी थी. इस बीच पुलिस थाने में रकबर के साथ क्या हुआ इस पर पर्दा अभी नहीं उठा है. लेकिन अब आरोप लग रहा है कि थाने में जो हुआ उसकी वजह से रकबर की जान गई. अब ख़ुद पुलिस की टीम इस मामले में संदेह के घेरे में है. संसद में भले ही मॉब लिंचिंग पर चिंता जताई जा रही हो लेकिन ज़मीनी हकीकत कुछ और ही है. एनडीटीवी ने पाया कि मामले में दर्ज एफआईआर के अनुसार पुलिस को देर रात 12:41 बजे घटना की सूचना मिली और पुलिस 1:20 बजे वहां पहुंची. एफआईआर के अनुसार नवल किशोर नाम के दक्षिण पंथी समर्थक ने पुलिस को फोन किया था.

पुलिस के साथ गए नव‍ल किशोर के अनुसार पुलिसवालों ने घायल के शरीर को धोया क्‍योंकि वह कीचड़ से सना था, उसके बाद उन्‍होंने कई अन्‍य काम किए. उनका पहला पड़ाव नवल किशोर का घर था, जहां से उन्‍होंने गाड़ी का इंतजाम किया ताकि गायों को स्‍थानीय गौशाला ले जाया जा सके. उनकी एक रिश्‍तेदार माया ने  बताया, 'मैंने शोर सुना. जब में बाहर आई, एक पुलिसवाला गाड़ी के अंदर एक व्‍यक्ति को पीट रहा था और गालियां दे रहा था.' जब उनसे पूछा गया कि क्‍या वह व्‍यक्ति तब भी जीवित था, उन्‍होंने हां में जवाब दिया.

इसके बाद वो चाय नाश्‍ते के लिए रुके. हालांकि घायल शख्‍स तकलीफ होने की बात कह रहा था, फिर भी पुलिसवालों ने करीब की दुकान से चाय मंगवाई और गायों को ले जाने वाली गाड़ी का इंतजार किया. दुकानदार ने बताया कि पुलिसवालों ने 4 चाय मंगवाई थी. नवल किशोर ने  बताया, 'उनका अगला पड़ाव पुलिस स्‍टेशन था जहां से वो गौशाला गए.' जब तब पुलिस ये सब कर रही थी तब तक उस शख्‍स की मौत हो गई. पुलिस तब उसे स्‍थानीय अस्‍पताल ले गई, मेडिकल रजिस्‍टर में 4 बजे सुबह का वक्‍त दर्ज है.

ट्राई के एक फैसले से भारत में बंद हो सकते हैं सभी iPhone, छह महीने का है वक़्त

Sunday, 22 July 2018 19:23

दुनिया की मशहूर टेक कंपनी एपल और दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के बीच कई महीनों से गतिरोध चल रहा है. ट्राई चाहता है कि स्पैम कॉल को रिपोर्ट करने के लिए एपल डीएनडी ऐप इंस्टॉल करे लेकिन एपल ने अपने यूजर्स की गोपनीयता सुनिश्चित करने के लिए ऐसा करने से इंकार कर दिया था. हालांकि, एक नया आदेश एपल को यह ऐप इंस्टॉल करने के लिए मजबूर कर सकता है. ऐसा न करने पर उसे भारतीय बाजार को खोने का जोखिम उठाना पड़ सकता है.

दरअसल, गुरुवार 19 जुलाई को ट्राई ने एक नया नियम शुरू किया है. इस नियम के मुताबिक सभी मोबाइल फोन्स ऐसे ऐप के साथ आने चाहिए जिससे यूजर्स को अनचाहे स्पैम कॉल और मैसेजेस को रिपोर्ट करने की अनुमति मिल सके. ट्राई ने गंभीर चेतावनियों के साथ कंपनियों को इसका अनुपालन करने के लिए छह महीने दिए हैं.

ट्राई ने 2017 में एंड्रॉइड के लिए एक डीएनडी ऐप लॉन्च किया था जो इसके लिए काम करेगा. लेकिन एपल ने इसे अपने स्टोर पर जगह नहीं दी है. कंपनी ने कभी भी थर्ड पार्टी के ऐप्स को अपने यूजर्स के कॉल लॉग और मैसेजेस को पढ़ने की अनुमति नहीं दी है और उन्होंने भारत के लिए भी यही पॉलिसी अपनाने का फैसला किया है.

दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) का साफ कहना है कि अगर अमेरिकी कंपनी एपल अपने फोन में इस ऐप को जगह नहीं देता है तो उसके फोन भारतीय नेटवर्क में काम करना बंद कर देंगे. इस मामले में एपल का कहना है कि डीएनडी ऐप यूजर्स के कॉल और मैसेजेस को रिकॉर्ड करने की अनुमति मांगता है, इससे यूजर्स की प्राइवेसी को खतरा है.

बता दें कि डू नॉट डिस्टर्ब ऐप को लेकर ट्राई और एप्पल आमने-सामने आ चुके हैं. अब यह देखना दिलचस्प होगा कि दोनों ही इस मामले में आगे क्या रूख अपनाते हैं.

स्टार नहीं, बस कलाकार बनने की कोशिश : जान्ह्वी कपूर

Sunday, 22 July 2018 19:21

फिल्म 'धड़क' से बॉलीवुड मेंोगाज कर चुकीं अभिनेत्री जान्ह्वी कपूर का कहना है कि फिल्म के सफल होने से उन्हें नहीं लगता है कि वह एक स्टार बन गई हैं लेकिन वह एक सर्वश्रेष्ठ कलाकार बनने की कोशिश कर रही हैं। 

जान्ह्वी ने शनिवार को मीडिया गेयटी-गैलेक्सी सिनेमाघर में अपने सह-कलाकार ईशान खट्टर और निर्देशक शशांक खेतान के साथ फिल्म को लेकर मीडिया से बात की।

'धड़क' को दर्शकों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल रही है और कहा जा रहा है कि जान्ह्वी सफल अभिनेत्री बनने की राह पर है। 

जब उनसे पूछा गया कि क्या 'धड़क' की सफलता से वह खुद को स्टार मानने लगी हैं तो उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि मैं अभी स्टार हूं, मैं बस एक कलाकार बनने की कोशिश कर रही हूं। "

अभिनेत्री ने बताया कि उन्हें सबसे अच्छी तारीफ निर्देशक शशांक खेतान से मिली है, जब शशांक ने उनसे कहा था कि उन्हें उन पर गर्व है, लेकिन फिल्म को जो जबरदस्त प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं, वह उनकी लिए सबसे बड़ी प्रशंसा है। 

'धड़क' ने रिलीज के पहले दिन ही 8.71 करोड़ रुपये की कमाई की। 

--आईएएनएस

सफलता नहीं उत्कृष्टता के पीछे भागती हूं : हुमा कुरैशी

Sunday, 22 July 2018 19:20

टीवी शो 'इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज' को जज करने के साथ ही कई फिल्म परियोजनाओं में व्यस्त अभिनेत्री हुमा कुरैशी का कहना है कि वह लोकप्रियता और तुरंत सफल होने जैसी बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं देती हैं, लेकिन बेहतरीन व उत्कृष्ट चीजों के पीछे भागती हैं। उन्हें तव्वजों देती हैं। 

हुमा ने आईएएनएस को बताया, "मेरा मानना है कि प्रासंगिक बने रहने के लिए लोगों को पर्याप्त मेहनत करनी चाहिए। व्यक्तिगत रूप से, मैं सफलता का पीछा नहीं करती। मैं उत्कृष्टता का पीछा करती हूं और यह मेरे लिए ज्यादा मायने रखता है।"

हुमा ने 2012 में बॉलीवुड में कदम रखा था और 'डेढ़ इश्किया', 'बदलापुर', 'जॉली एलएलबी-2' और हालिया रिलीज 'काला' जैसी फिल्मों में काम किया है। 

जी टीवी के शो 'इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज' को हुमा के अलावा अभिनेता विवेक ओबेरॉय और फिल्मकार उमंग कुमार भी जज करते हैं। 

मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू : सोनिया

Sunday, 22 July 2018 19:19

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाषण-शैली से उनकी मायूसी जाहिर होती है जो इस बात का सूचक है कि मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। सोनिया गांधी नई कांग्रेस कार्यकारिणी समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में शामिल हुईं और इसी दौरान उन्होंने यह बात कही। उन्होंने देश के गरीबों में भरी निराशा और आशंका के प्रति आगाह भी किया। सीडब्ल्यूसी पार्टी की सर्वोच्च निर्णायक संस्था है। 

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट के जरिए कहा, "सोनिया गांधी ने भारत के वंचितों और गरीबों की बढ़ती निराशा और आशंका के प्रति आगाह किया। उन्होंने मोदी की भाषण-शैली का जिक्र किया, जिसमें उनकी मायूसी झलकती है और इससे जाहिर होता है कि मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।"

बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी शामिल हुए। उन्होंने प्रधानमंत्री की निरंतर आत्म-प्रशंसा और जुमलेबाजी की संस्कृति को खारिज किया। 

मनमोहन सिंह ने कहा, "यह विकास के लिए जरूरी ठोस नीति के विरुद्ध है।"

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने के दावे को पूरा करने के लिए कृषि क्षेत्र में 14 फीसदी संवृद्धि दर की दरकार है, जो कहीं दिखती नहीं है। 

सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह नई कांग्रेस कार्यकारिणी समिति में वरिष्ठ सदस्य हैं। यही समिति इस साल होने वाले राज्यों के विधानसभा चुनावाओं के साथ-साथ 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की कोर टीम का गठन करेगी। 

--आईएएनएस

दिग्विजय 26 जुलाई को भोपाल में गिरफ्तारी देंगे

Sunday, 22 July 2018 19:16

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा विंध्य क्षेत्र में जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को कथित तौर पर देशद्रोही कहने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। दिग्विजय ने शिवराज को पत्र लिखकर कहा है कि अगर वह (दिग्विजय) देशद्रोही हैं तो उन पर कार्रवाई हो, वह स्वयं 26 जुलाई को भोपाल के टीटी नगर में गिरफ्तारी देने जाएंगे। 

दिग्विजय ने शनिवार को मुख्यमंत्री चौहान के नाम एक पत्र लिखा है, "आपने मुझ पर देशद्रोही होने का आरोप लगाया है, आप मुख्यमंत्री हैं, इस नाते प्रदेश की सीमाओं में राष्ट्र की एकता और अखंडता को अक्षुण रखना आपका संवैधानिक कर्तव्य है। देशद्रोह गंभीर आरोप है, एक पूर्व मुख्यमंत्री होने के नाते मैं आपसे आग्रह करता हूं कि देशद्रोह की किसी भी घटना को हल्के में न लें।"

अपने दो पृष्ठ के पत्र में दिग्विजय ने आगे लिखा कि उन्होंने संविधान की शपथ ली है, "हो सकता है कि आपको (चौहान) अपनी शपथ के पालन में कोई बाधा आ रही हो, लेकिन मैं इस शपथ का पालन करता हूं। इसलिए भारत माता की एकता और अखंडता की सुरक्षा के लिए मैंने खुद को कानून के हवाले करने का निर्णय लिया है। मैं 26 जुलाई को भोपाल के टीटी नगर थाने में खुद को पुलिस के हवाले करूंगा।"

दिग्विजय ने पत्र के साथ अखबारों की कतरनें भी भेजी हैं।

--आईएएनएस

मोदी सोमवार से होंगे अफ्रीकी देशों के पांच दिन के दौरे पर

Sunday, 22 July 2018 19:15

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार से तीन अफ्रीकी देशों के दौरे पर जा रहे हैं। प्रधानमंत्री के इस दौरे के दौरान भारत ब्रिक्स के तहत पहले महाद्वीप में द्विपक्षीय और उसके बाद बहुपक्षीय संवाद स्थापित करेगा। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "रवांडा, युगांडा और दक्षिण अफ्रीका के दौरे से अफ्रीका महाद्वीप के साथ हमारा संबंध और मजबूत होगा।"

पिछले कुछ वर्षो में अफ्रीकी देशों के साथ विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण अनुबंध हुआ है। पिछले चार साल में हमारे देश के राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री अफ्रीका के 23 दौरे कर चुके हैं। 

मंत्रालय ने बयान में कहा, "भारत की विदेश नीति में अफ्रीका को शीर्ष प्राथमिकता दी गई है।"

रवांडा और युगांडा के दौरे के दौरान रक्षा और कृषि क्षेत्र में सहयोग मोदी की प्राथमिकता होगी। इसके बाद वह ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) के सालाना शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने दक्षिण अफ्रीका जाएंगे।

मोदी का अफ्रीका का यह दूसरा दौरा होगा। इससे पहले वह 2016 में मोजाम्बिक, दक्षिण अफ्रीका, तंजानिया और केन्या के दौरे पर गए थे। 

प्रधानमंत्री 23 जुलाई को रवांडा पहुंचेंगे। पहली बार भारत के किसी प्रधानमंत्री का यह रवांडा का दौरा होगा। 

भारत ने रवांडा के साथ अपने रिश्तों को मजबूत किया है। इसे पूर्वी अफ्रीका के प्रवेश-द्वार के रूप में देखा जा रहा है और इसी के मद्देनजर पिछले साल जनवरी में भारत ने रवांडा के साथ रणनीतिक साझेदारी की। 

प्रधामंत्री के इस दौरे की जानकारी मीडिया को देते हुए विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) टी. एस. तिरुमूर्ति ने कहा, "भारत बहुत जल्द रवांडा में अपना पहला मिशन शुरू करेगा। रवांडा के लिए भारत के वर्तमान उच्चायुक्त का आवास युगांडा के कंपाला में है।"

भारत ने रवांडा को 40 करोड़ डॉलर का कर्ज दिया है और वहां भारत की ओर से प्रशिक्षण छात्रवृति कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

मोदी के इस दौरे के दौरान दो करार पर हस्ताक्षर किए जाने की उम्मीद है जिसमें एक औद्योगिक पार्क के लिए 10 करोड़ डॉलर और इतनी ही राशि कृषि और सिंचाई परियोजना के लिए प्रदान की जाएगी।

तिरुमूर्ति ने कहा, "हम रक्षा, डेयरी सहयोग, चमड़ा, कृषि और संस्कृति के क्षेत्र में भी अनुबंध होने की उम्मीद करते हैं।"

रवांडा में मोदी रवेरु मॉडल गांव का दौरा करेंगे और राष्ट्रपति कागामे के निरीक्षण में चलने वाले कार्यक्रम में हिस्सेदारी के तौर पर 200 गायों का उपहार प्रदान करेंगे। वहां सरकार की ओर से निर्धनतम परिवारों को डेयरी के लिए गाएं दी जाती है और भाईचारा बढ़ाने के लिए गाय की पहली बछिया लोग अपने पड़ोसी को उपहार के रूप में देते हैं। 

रवांडा से मोदी 24 जुलाई को युगांडा पहुंचेंगे, जो पिछले 21 साल में भारतीय प्रधानमंत्री का पहला द्विपक्षीय दौरा होगा।

तिरुमूर्ति ने बताया कि भारत और युगांडा के बीच रक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण पर ध्यान दिया जाएगा। वहां जिंजा में 2010 से भारतीय सेना का प्रशिक्षण दल तैनात है। 

युगांडा के राष्ट्रपति योवेई मुसेवेनी से मुलाकात और प्रतिनिधि स्तरीय वार्ता के बाद मोदी भारत और युगांडा के संयुक्त व्यापार कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। भारत के प्रधानमंत्री पहली बार युगांडा की संसद को संबोधित करेंगे। 

प्रधानमंत्री युगांडा में भारतीय समुदाय के सदस्यों को भी संबोधित करेंगे। 

तिरुमूर्ति ने कहा, "हमें उम्मीद है कि युगांडा को बिजली लाइन और सब-स्टेशन के लिए 14.1 करोड़ डॉलर और कृषि व डेयरी उत्पादन के लिए 6.4 करोड़ डॉलर प्रदान किए जाएंगे।"

मोदी अपने दौरे के आखिर में 25 जुलाई को युगांडा से दक्षिण अफ्रीका पहुंचेंगे।

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के अलावा, मोदी फरवरी में दक्षिण अफ्रीका की सत्ता संभालने वाले राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे।

दक्षिण अफ्रीका में ब्रिक्स नेताओं का 10वां शिखर सम्मेलन हो रहा है, जिसका विषय 'चतुर्थ औद्योगिक क्रांति में समावेशी विकास और साझी समृद्धि के लिए विकासशील देशों का सहयोग' रखा गया है। 

ब्रिक्स सम्मेलन में अफ्रीकी देशों के आमंत्रित समूह में रवांडा, युगांडा, टोगो, जांबिया, नामीबिया, सेनेगल, गैबन, इथोपिया, अंगोला और अफ्रीकन यूनियन चेयर शामिल हैं। 

अन्य आमंत्रित देशों में अर्जेटीना, तुर्की, इंडोनेशिया, जमैका और मिस्र शामिल हैं। 

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के इतर मोदी वहां चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से भी मुलाकात करेंगे। यह दोनों नेताओं के बीच एक साल के भीतर तीसरी मुलाकात होगी। 

--आईएएनएस

राहुल गांधी हों संयुक्त गठबंधन के प्रधानमंत्री उम्मीदवार : अमरिंदर

Sunday, 22 July 2018 19:13

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल गांधी को विपक्ष के संयुक्त गठबंधन का उम्मीदवार बनाने की जोरदार वकालत की है। अमरिन्दर ने कहा कि देश का नेतृत्व करने के लिए राहुल गांधी पूरी तरह समर्थ हैं और वह निश्चित तौर पर सफल प्रधानमंत्री सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को अगले वर्ष होने वाले संसदीय चुनाव के लिए विपक्षियों के साथ गठजोड़ की संभावनाएं तलाशनी चाहिए और राहुल गांधी को विपक्षी पार्टियों के संयुक्त मोर्चे का नेतृत्व करना चाहिए, ताकि भाजपा नेतृत्व वाली राजग सरकार को सत्ता से बाहर किया जा सके।

कांग्रेस कार्यकारिणी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के बाद अमरिंदर ने पत्रकारों से कहा कि लोकसभा चुनाव के लिए गठजोड़ के बारे में पार्टी की तरफ से राष्ट्रीय स्तर पर फैसला किया जाएगा और पार्टी की प्रांतीय इकाइयां उसी फैसले को अपनाएंगी। 

उन्होंने कहा, "विपक्ष के बीच गठजोड़ राष्ट्रीय स्तर के अनुकूल होना है और जो भी फैसला लिया जाएगा, वही राज्यों पर लागू होगा। पार्टी का गठजोड़ केंद्रीय नेतृत्व पर निर्भर होगा और वह हमें जहां कहेंगे, हम उसके अनुसार चलेंगे।"

अमरिन्दर ने कहा कि उन्होंने बैठक के दौरान पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदम्बरम के रुख से सहमति जताई, जिन्होंने कहा कि साल 2019 के चुनाव जीतने के लिए व्यापक स्तर पर गठजोड़ किया जाए। उन्होंने कहा, "जो चिदम्बरम ने कहा, मैंने उसका समर्थन किया। मेरा मानना है कि उन्होंने बहुत बढ़िया नुस्खा पेश किया है कि हमें अधिक से अधिक विपक्षी पार्टियों को एक मंच पर इकठ्ठा करना चाहिए।"

अमरिन्दर ने कहा कि देश के धर्मनिरपेक्ष चरित्र की बहाली के लिए सक्रिय सभी समान विचार वाली पार्टियों को अपने साझे हित, विशेषकर देश हित में एक मंच पर आना चाहिए।

लोकसभा चुनाव से पहले पंजाब में जनता के मूड के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा, "जनता का मूड कांग्रेस के पक्ष में है। गुरदासपुर और शाहकोट के उपचुनाव में रिकार्ड जीत के बाद कांग्रेस पार्टी अगले साल संसदीय चुनाव में भी शानदार जीत हासिल करेगी।"

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "मैंने हाईकमान से वादा किया है कि पंजाब उन्हें जीत हासिल करके देगा।" 

-- आईएएनएस

चुनाव के कारण की गई जीएसटी दरों में कटौती : चिदंबरम

Sunday, 22 July 2018 19:12

पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने रविवार को कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखकर जन-सामान्य के उपयोग की 100 वस्तुओं पर जीएसटी की दरों में कटौती की गई है। चिदंबरम ने ट्वीट के जरिए कहा, "जब चुनाव करीब आए, सरकार ने दरों में कटौती की। मेरा मानना है कि यह विभिन्न राज्यों में जल्दी-जल्दी चुनाव कराने के पक्ष में एक अच्छी दलील हो सकती है।"

फैसले को 'देर से आने वाली अक्लमंदी' बताते हुए उन्होंने सवाल किया कि यह फैसला पहले क्यों नहीं लिया गया।

चिदंबरम ने पूछा, "जीएसटी परिषद ने 100 मदों पर दरों में कटौती की। तीन महीने में रिटर्न दाखिल करने को मंजूरी दी। देर से आई अक्लमंदी। सरकार ने जुलाई 2017 में हमारी सलाह क्यों नहीं मानी?"

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में इस साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने शनिवार को रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन और छोटे टेलीविजन समेत कई मदों पर जीएसटी की दर 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर दी। परिषद ने सैनिटरी पैड को कर के दायरे से बाहर कर दिया।

कांग्रेस नेता चिदंबरम ने मौजूदा जीएसटी व्यवस्था को 'बगैर-सुधार' वाली और 'त्रुटिपूर्ण' बताते हुए तीन दर वाली व्यवस्था को तत्काल लागू करने की वकालत की।

उन्होंने कहा, "जीएसटी कानून में अनेक अन्य खामियां हैं। मुझे संदेह है कि सरकार के पास इन खामियों को दूर की इच्छाशक्ति या कौशल है।"

--आईएएनएस

इस्पात : पहली तिमाही में उत्पादन के मुकाबले करीब दोगुनी बढ़ी खपत

Sunday, 22 July 2018 19:11

चालू वित्त वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही में परिष्कृत इस्पात का उत्पादन पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 4.4 फीसदी बढ़कर 267.2 लाख टन हो गया। देश में हालांकि इस्पात की खपत बीती तिमाही में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 8.4 फीसदी बढ़कर 234.2 लाख टन हो गया। ये इस्पात मंत्रालय के आंकड़े हैं। 

वित्त वर्ष 2018-19 के शुरुआती तीन महीने में भारत से परिष्कृत इस्पात का निर्यात पिछले साल के मुकाबले 33.7 फीसदी घटकर 13.51 लाख टन रह गया, जबकि आयात आलोच्य अवधि में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 10.9 फीसदी बढ़कर 18.93 लाख टन हो गया। 

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया (सेल), भारतीय इस्पात निगम लिमिटेड (आरआईएनएल), टाटा स्टील लिमिटेड (टीएसएल), एस्सार, जेएसडब्ल्यू लिमिटेड और जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड ने मिलकर पहली तिमाही में बिक्री के लिए कुल 15.67 लाख टन इस्पात का उत्पादन किया जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 4.2 फीसदी अधिक है। 

चालू तिमाही के शुरुआती तीन महीने में कच्चा इस्पात (क्रूड स्टील) का उत्पादन पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 6.2 फीसदी वृद्धि के साथ 260.86 लाख टन रहा, जबकि खपत पिछले साल के मुकाबले 8.3 फीसदी की वृद्धि के साथ 80.97 लाख टन रही। 

--आईएएनएस

मैं पीएसजी को अपना 100 प्रतिशत दूंगा : नेमार

Sunday, 22 July 2018 18:41

ब्राजील के स्टार फारवर्ड नेमार ने माना कि वह फीफा विश्व कप में मिली हार से उबर चुके हैं और आगामी सीजन में फ्रेंच क्लब पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) के लिए अपना 100 प्रतिशत देंगे। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, नेमार ने विश्व कप में ब्राजील के लिए पांच मैचों में केवल दो गोल दागे। क्वार्टर फाइनल में ब्राजील को बेल्जियम के खिलाफ 1-2 से हार झेलनी पड़ी थी। 

नेमार ने कहा, "मेरे पास दुखी होने के कारण हैं क्योंकि हमारा सपना पूरा नहीं हो पाया। अब मुझे चार साल और इंतजार करना पड़ेगा लेकिन दुनिया यहां खत्म नहीं होती। मेरे पास मेरा परिवार है, मेरा क्लब है और मेरे पास दुखी हाने से ज्यादा खुश होने के कारण हैं।"

उन्होंने कहा, "मेरा जीवन आगे बढ़ता रहेगा और पीएसजी को मैं अपना 100 प्रतिशत दूंगा।"

विश्व कप के मैचों के दौरान 26 वर्षीय नेमार पर नाटक करने का भी अरोपा लगा और उनकी काफी आलोचना भी हुई। 

नेमार ने कहा, "मेरी हर चीज के लिए आलोचना की जाती है, जब मैं बोलता हूं या जब नहीं बोलता हूं लेकिन मुझे इसकी आदत हो गई है।"

उन्होंने यह भी माना कि वह फ्रांस के 19 वर्षीय फारवर्ड खिलाड़ी कीलियन एम्बाप्पे के साथ पीएसजी में दोबारा खेलने के लिए उत्सुक हैं। 

नेमार ने कहा, "हमने विश्व कप के दौरान मिलने की कोशिश की थी लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। मैं उन्हें बहुत पसंद करता हूं, हालांकि मैं खुद एक युवा खिलाड़ी हूं लेकिन मैं एम्बाप्पे के साथ अपना अनुभव साझा करता हूं ताकि वह और बेहतर हो पाएं।"

--आईएएनएस

40 साल के शौहर ने 21 साल की महिला को तीन तलाक दिया

Sunday, 22 July 2018 18:40

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में 21 साल की गर्भवती महिला ने दावा किया है उसके 40 साल के पति ने उसे तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया है। उसने ये भी कहा कि तीन तलाक के बाद उसने गुजारा भत्ता देने से भी इनकार कर दिया है। महिला का आरोप है कि ये तलाक सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का उल्लंघन है, जिसमें कहा गया है कि मुस्लिमों के बीच प्रचलित तीन तलाक की कुप्रथा असंवैधानिक है।

जबकि केंद्र सरकार ऐसा कानून बनाने की योजना बना रही है जिसमें महिला को तीन तलाक देने पर पुरुष को तीन साल की जेल की सजा दी जाए। पीड़ित महिला ने आरोप लगाया कि देहरादून के रायपुर इलाके में रहने वाले उसके पति रईस कुरैशी ने उसके गर्भवती होने के बावजूद उसे भरी बरसात में घर से निकाल दिया। अब महिला ने बजरंग दल के स्थानीय नेताओं से मदद की गुहार लगाई है। बजरंग दल के कार्यकर्ता पीड़ित महिला को लेकर पुलिस मुख्यालय पहुंचे थे।

बजरंग दल के नगर संयोजक विकास वर्मा ने बताया,”पीड़ित महिला हमारे पास तीन दिन पहले आई थी और अपनी आपबीती सुनाई। हमने उसकी मदद करने का फैसला किया। हम पीड़िता को लेकर पुलिस मुख्यालय में कानून और व्यवस्था विभाग के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) अशोक कुमार से मिलने आए ​हैं। उन्होंने हमें पूरा भरोसा दिलवाया है कि पीड़िता के साथ पूरा न्याय होगा।” वहीं एडीजी अशोक कुमार ने कहा,”ये मामला वाकई बेहद गंभीर है और पुलिस पीड़िता की हर संभव सहायता करेगी और उसकी हर मुश्किल को सुलझाने में मदद करेगी।”

पीड़ित महिला देहरादून शहर के मेहुवाला इलाके की रहने वाली है। उसने बताया कि रईस कुरैशी से उसकी शादी​ पिछले साल 28 अक्टूबर को हुई थी। ये उसकी दूसरी शादी थी। जबकि अपने पहले पति से वह आपसी रजामंदी से एक साल पहले अलग हो गई थी। महिला ने बताया कि उसके पहले पति को एचआईवी था। मेडिकल जांच में उसे एड्स होने की पुष्टि के बाद उन्होंने तलाक ले लिया था। महिला को पहले पति से 2 साल का बेटा है। उसे दूसरे पति रईस कुरैशी ने एक हफ्ते पहले तीन तलाक दे दिया था।

महिला ने बताया,”पहले पति से तलाक लेने के बाद मैं अपने दो साल के बेटे की देखरेख के लिए नौकरी करना चाहती थी। मैं एक साल पहले रईस कुरैशी के संपर्क में आई थी, उसने मुझे अपनी दुकान पर नौकरी दी थी। मेरा काम रायपुर इलाके में स्थित उसकी मीट की दुकान को संभालना था, जिसके बदले में मुझे 10 हजार रुपये महीना वेतन मिलता था।”

महिला ने बताया कि एक दिन दुकान पर कुरैशी का साला फुरक़ान आया। उसने मुझे दुकान की बिक्री की जानकारी मांगी और मेरे साथ बलात्कार कर दिया। महिला ने दावा किया,”मैंने इस घटना के बारे में रईस कुरैशी की पत्नी और फुरक़ान की बहन को बताया। अपने भाई को बचाते हुए उसने मुझ पर रईस कुरैशी के साथ अवैध संबंध रखने और रेप करने का आरोप लगाया।

इसके बाद मैंने स्थानीय पुलिस थाने में फुरक़ान के खिलाफ रेप का मामला दर्ज करवा दिया।” पीड़ित महिला ने बताया,”वारदात के कुछ ही महीने बाद रईस कुरैशी ने भी मेरा रेप किया। मैं रईस के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाना चाहती थी, लेकिन उसने मुझसे कहा कि वह मुझसे शादी करेगा। मैं मान गई और उसने मुस्लिम रीति-रिवाजों के साथ पिछले साल 28 अक्टूबर को मुझसे निकाह किया था।”

महिला ने बताया,”शादी के कुछ ही महीनों के बाद कुरैशी की पहली पत्नी ने मुझे मारना—पीटना शुरू कर दिया। वह मुझ पर घर से निकल जाने का दबाव बना रही थी। एक महीना पहले उसने मेरे ऊपर चाकू से हमला किया था। मेरे गर्भवती होने के बावजूद उसने मेरे पेट पर वार किया। इसके बाद मैंने उसके खिलाफ रायपुर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करवाया। सात दिन पहले रईस कुरैशी ने मुझे मीट की दुकान से आकर तीन तलाक दे दिया। उसने मुझसे मीट की दुकान से निकल जाने के लिए भी कहा।”

हालांकि महिला के पति से संपर्क कई कोशिशों के बाद भी नहीं हो सका। पीड़ित महिला ने बताया कि वह गरीब परिवार से आती है। उसके पिता को लकवा मार चुका है। वह लंबे समय से बिस्तर पर लेटे हुए हैं। जबकि उसकी मां को दिल की बीमारी है। उसके ऊपर पूरे घर को चलाने का भार है। उसके पांच भाई हैं, जिनके अपने परिवार हैं। इस तीन तलाक के कारण मेरी नौकरी भी जा चुकी है और अब मैं बेसहारा हो चुकी हूं।

रेलवे का हाल: किराया तक नहीं वसूल सका पुणे रेलवे डिविजन

Sunday, 22 July 2018 18:39

कैग ने अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया है कि सेंट्रल रेलवे, जिसमें पुणे डिविजन भी शामिल है, अपने राजस्व का 3.06 करोड़ रुपयावसूलने में नाकाम रही है। यह राजस्व प्राइवेट पार्टियों और टिकट बुकिंग क्लर्क से वसूला जाना था। शुक्रवार को संसद में पेश की गई अपनी वित्तिय वर्ष 2016-17 की एक रिपोर्ट में कैग ने बताया कि सेंट्रल रेलवे अपने 5 डिविजन में करीब 497 पार्टियों से ‘वे लीव’ चार्ज के बकाया करीब 6.55 करोड़ रुपए नहीं वसूल सका है। इन 5 डिविजनों में से पुणे डिविजन को सबसे ज्यादा 3.06 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है।

बता दें कि वे लीव चार्ज, वो चार्ज होता है, जिसमें रेलवे अपनी जमीन के लिमिटेड इस्तेमाल जैसे किसी घर के लिए रास्ता देने या फिर किसी अंडर ग्राउंड पाइपलाइन को रास्ता देने आदि के एवज में कुछ राशि चार्ज करता है। पुणे डिविजन साल 2011 से लेकर वित्तीय वर्ष 2016-17 तक 63 पार्टीज से अपना 3.06 करोड़ का वे लीव चार्ज वसूलने में नाकाम रहा। पुणे डिवीजन की तरह ही मुंबई और भुसावल डिविजन भी क्रमशः 95.58 लाख और 82 लाख रुपए के अपने वे लीव चार्ज नहीं वसूल पायी हैं। इसी तरह नागपुर डिविजन 2.53 करोड़ रुपए के वे लीव चार्ज लेने में नाकाम रही है।

पुणे डिविजन के प्रवक्ता मनोज झावर का कहना है कि जब से कैग का ऑडिट हुआ है, उसके बाद से बकाया राशि का 25 प्रतिशत वसूल लिया गया है और बाकी बकाया वसूलने के लिए डिविजन विभिन्न पार्टियों के संपर्क में है। वे लीव चार्ज के अलावा इन डिविजनों में बुकिंग क्लर्कों ने भी किराए की जमा रकम को भी डिपोजिट नहीं कराया है और अथॉरिटी भी इस रकम को रिकवर करने में अभी तक नाकाम हैं। सेंट्रल रेलवे का इस तरह बुकिंग क्लर्कों पर मार्च 2017 तक 56.27 लाख रुपए बकाया है।

मिशन 2019: वोटबैंक बढ़ाने के लिए राहुल गांधी की ये है रणनीति

Sunday, 22 July 2018 18:37

साल 2019 के लोकसभा चुनाव अब सिर पर हैं। चुनाव की तैयारियों की समीक्षा के लिए रविवार (22 जुलाई) को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कांग्रेस की नवगठित केंद्रीय कार्यसमिति की बैठक बुलाई थी। इस बैठक की अध्यक्षता राहुल गांधी ने की। ये बैठक संसद भवन के एनेक्सी में आयोजित की गई। इस बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पी. चिदंबरम, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के अलावा कई अन्य नेताओं ने भी शिरकत की।

इस बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने खुलकर भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों के महागठबंधन की पैरवी की। राहुल गांधी ने कहा,”पार्टी के वोटों के आधार को बढ़ाना हमारी सबसे बड़ी चुनौती है। हमें उन लोगों को तलाश करना होगा, जो हमेें वोट नहीं देते हैं। हमें ऐसी रणनीति विकसित करनी होगी जिससे हम उन तक पहुंच सकें और उनका भरोसा फिर से जीत सकें।” राहुल गांधी ने कांग्रेसजनों का आह्वान किया कि वे भारत के दबे-कुचले लोगों की लड़ाई लड़ें।

वहीं संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने समान विचारधारा वाली पार्टियों के बीच गठबंधन की पैरवी की और कहा कि इस प्रयास में हम सभी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ हैं। राहुल गांधी ने कहा कि नवगठित कांग्रेस कार्यसमिति अनुभव और जोश के तालमेल से लबरेज है। वहीं पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा,”मैं और दूसरे सभी कांग्रेसजन भारत के सामाजिक सद्भाव और आर्थिक विकास को बहाल करने के मुश्किल भरे काम को पूरा करने में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ हैं।”

कांग्रेस अध्यक्ष ने भारत के इतिहास में कांग्रेस की भूमिका और मौजूदा दौर में उसकी प्रासंगिकता के बारे में भी कांग्रेस जनों से चर्चा की। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह संवैधानिक संस्थाओं, दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों और गरीबों पर हमले कर रही है। पीएम मोदी के बयानों से उनकी हताशा साफ दिख रही है। मोदी सरकार के जाने की ‘उलटी गिनती’ शुरू हो गई है।

आपको बता दें कि कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने इसी हफ्ते 51 सदस्यीय कार्य समिति का गठन किया था, जिसमें 23 सदस्य, 18 स्थाई आमंत्रित सदस्य और 10 विशेष आमंत्रित सदस्य शामिल किए गए हैं। पुरानी कमेटी में शामिल वरिष्ठ नेताओं जैसे दिग्विजय सिंह, सीपी जोशी, जनार्दन द्विवेदी, सुशील कुमार शिंदे और ऑस्कर फर्नांडिस को जगह नहीं दी। राहुल ने नई सीडब्लूसी में युवा नेताओं और कुछ अन्य अनुभवी नेताओं को शामिल किया, जिनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, जतिन प्रसाद, तरुण गोगोई, सिद्धारमैया, शीला दीक्षित, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल हैं।

अमित शाह ने नेताओं को चेताया- सरकार है तो सब है, नहीं तो हवलदार भी ‘सैल्यूट’ नहीं करता

Sunday, 22 July 2018 15:25

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव और राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विधानसभा चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राजस्थान का दौरा किया और राज्य की बीजेपी वर्किंग कमेटी की बैठक को भी संबोधित किया। इस दौरान शाह ने पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को चुनाव में जीत पाने के लिए कई नसीहतें दीं। उन्होंने नेताओं को चेताते हुए एकजुट रहने की नसीहत दी। उन्होंने कहा कि सरकार है तो सब है, नहीं तो हवलदार भी ‘सैल्यूट’ नहीं करता।

शाह ने नेताओं से कहा कि वे अहंकार छोड़कर पार्टी के कार्यकर्ताओं की सुध लें, क्योंकि चुनाव में पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता ही जीत दिला सकते हैं। उन्होंने कहा कि 5 लाख सक्रीय कार्यकर्ता में से अगर हर कार्यकर्ता तीन लोगों का वोट भी पार्टी के पक्ष में करवा सकता है तो सरकार बन जाएगी।

इसके अलावा शनिवार को अमित शाह ने कार्यकर्ताओं और नेताओं से 18 घंटे काम करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि अगले विधानसभा चुनाव और लोकसभा में जीत पाने के लिए प्रतिदिन 18 घंटे काम करने की जरूरत है। इसके साथ ही शाह ने पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि वे जनता के बीच जाएं और सरकार द्वारा किए गए काम के बारे में उन्हें जानकारी दें। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान में पार्टी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ेगी और जीतेगी भी।

बता दें कि राजस्थान विधानसभा का कार्यकाल अगले साल जनवरी में खत्म हो रहा है। वहीं मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इस साल के अंत में चुनाव हो सकते हैं। शाह ने कहा कि बीजेपी राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी सरकार बनाएगी, वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही अगले पीएम भी बनेंगे। उन्होंने कहा, ‘तुष्टिकरण पर केंद्रित कांग्रेस कभी भी विकास की राजनीति करने वाली भाजपा का विकल्प नहीं हो सकती। दिन रात एक कर, बूथ स्तर तक संगठन को और मजबूत करके भाजपा को अजय बनाना हम सभी कार्यकर्ताओं का एक मात्र लक्ष्य होना चाहिए।’

 

अयोध्या में श्री राम की 153 मीटर ऊंची मूर्ति लगवाएगी योगी सरकार

Sunday, 22 July 2018 15:24

उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार अयोध्‍या में भगवान राम की 153 मीटर ऊंची प्रतिमा लगवाने जा रही है। फैजाबाद में पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने पत्रकारों के सामने यह जानकारी दी। जोशी के मुताबिक, योजना तैयार है और मुख्‍यमंत्री जल्‍द ही प्रतिमा की आधारशिला रखने अयोध्‍या जाएंगे। मंत्री ने बताया कि अयोध्‍या में लगभग 300 करोड़ रुपये की लागत से काम चल रहे हैं। अयोध्‍या के घाटों और राम की पैड़ी के सौंदर्यीकरण की प्रक्रिया जारी है। एक कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने फैजाबाद आईं जोशी ने कहा कि इस बार के दीपोत्‍सव में विदेशी अतिथियों को भी आमंत्रित किया गया है। उनके अनुसार, पिछले साल हुआ आयोजन जल्‍दबाजी में हुआ, मगर इस बार भव्‍य और अलौकिक छटा वाले दीपोत्‍सव का आयोजन होगा।

जोशी ने दावा किया कि उनके कार्यकाल में पर्यटन के क्षेत्र में उत्‍तर प्रदेश की हालत सुधरी है। बतौर मंत्री, कुंभ के चलते इलाहाबाद, वाराणसी और लखनऊ में पर्यटन विस्‍तार हुआ है। कुशीनगर में अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट की घोषणा को जोशी ने बड़ा कदम बताया।

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर पिछले महीने दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दास जी महाराज, उदासीन संगत ऋषि आश्रम के महंत भरत दास जी महाराज समेत अयोध्या के कई संतों ने लखनऊ में मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी। इस दौरान योगी ने साधु-संतों से कहा कि राम मंदिर का मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है, ऐसे में इस मुद्दे को लेकर कोई बयान न दिया जाए। मुलाकात के बाद संतों ने कहा कि योगी ने अयोध्या का पूरा विकास करने का आश्वासन दिया है।

अयोध्‍या के लिए भारतीय रेल ने भी नई ट्रेन शुरू की है। श्री रामायण एक्सप्रेस 14 नवंबर से रामायण सर्किट के प्रमुख गंतव्यों तक चलाई जाएगी। 800 सीटों वाली यह ट्रेन दिल्ली के सफदरगंज रेलवे स्टेशन से चलेगी। ट्रेन अपनी यात्रा तमिलनाडु के रामेश्वरम में 16 दिनों में पूरी करेगी। इस टूर पैकेज में भोजन, आवास, साइट सीइंग शामिल होगा। आईआरसीटीसी का एक टूर मैनेजर सभी प्रबंध करेगा और वह पर्यटकों के साथ ही यात्रा करेगा। दिल्ली के बाद ट्रेन अयोध्या, हनुमान गढ़ी रामकोट और कनक भवन मंदिर जाएगी। इसके साथ नंदीग्राम, सीतामढ़ी, जनकपुर, वाराणसी, प्रयाग, श्रीरंगवीरपुर, नासिक, हंपी और रामेश्वरम की यात्रा कराएगी।

घर पर बंदूक रखने की बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ी : संजय दत्‍त

Sunday, 22 July 2018 15:23

फिल्म ‘संजू’ की कहानी एक्टर संजय दत्त के जीवन पर आधारित है। फिल्म में संजय दत्त के लाइफ के उतार-चढ़ावों को दिखाया गया है। संजू को लेकर फिल्म समीक्षकों ने कहा था कि फिल्म के जरिए एक्टर की इमेज को सुधारने की कोशिश की गई है। हाल ही में WION को दिए इंटरव्यू में संजय दत्त ने कहा, ”कौन 50 करोड़ रुपए का निवेश अपनी इमेज को सुधारने में करेगा? मैंने फिल्ममेकर को सबकुछ बता दिया था इसके बाद उन्होंने फिल्म बनाने का फैसला लिया था। बायोपिक का आइडिया मान्यता का था, उसने ही निर्देशक से बात की थी जब मैं जेल में था।” साल 1993 के मुंबई ब्लास्ट के बाद संजय के घर से एक बंदूक बरामद हुई थी। उन्हें सख्त आतंकवाद विरोधी कानून टाडा (जिसे बाद में रद्द कर दिया गया) के तहत दोषी पाया गया था। इन धमाकों में 250 से ज्यादा लोग मारे गए थे। इस पर संजय दत्त ने कहा, ”मुझे अपने घर पर बंदूक रखने के लिए भारी कीमत चुकानी पड़ी है।”

संजय दत्त को साल 1993 में मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था, उस वक्त संजू बाबा कई सुपरहिट फिल्में दे चुके थे। मुंबई पुलिस को दिए बयान में संजय दत्त ने कहा था कि बाबरी मस्जिद विवाद के बाद उन्होंने अपने घर पर बंदूक परिवार की सुरक्षा के लिए रखी है। दत्त ने कई लीगल नोटिसों का भी सामना किया जिसके कारण उनकी पर्सनल से लेकर प्रोफेशनल लाइफ प्रभावित हुई। फिल्म संजू में उनके लीगल स्ट्रगल को भी दिखाया गया है। संजय ने कहा,”मैं आंतकवादी नहीं हूं, कृपया आप मेरा कंफेशन पढ़े। मुझे शस्त्र अधिनियम के तहत सजा सुनाई गई थी। लेकिन मैं भागा नहीं। मैं एक आदमी की तरह वापस आया और गिरफ्तारी का भी सामना किया।”

फिल्म ‘संजू’ का निर्देशन राजकुमार हिरानी ने किया है। फिल्म के निर्माता विधु विनोद चोपड़ा हैं। फिल्म की स्टारकास्ट की बात करें तो फिल्म में रणबीर कपूर ने संजय दत्त का रोल अदा किया है। इसके अलावा दिया मिर्जा, सोनम कपूर, अनुष्का कपूर, विक्की कौशल, जिम सरब और परेश रावल जैसे सितारे लीड भूमिका में हैं।

केजरीवाल सरकार पर 750 करोड़ के बस घोटाले का आरोप

Sunday, 22 July 2018 15:22

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने आम आदमी सरकार को धांधली के आरोपों में निशाने पर लिया है। दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने आरोप लगाया कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार 1000 ई-बसों की खरीद में करीब 750 करोड़ रुपए के घोटाले की तैयारी कर रही है। अजय माकन का आरोप है कि ईपीसीए ने अपनी रिपोर्ट में एक ई-बस की लागत करीब 75 लाख से लेकर 1.75 करोड़ प्रति बस लगायी गई, लेकिन दिल्ली सरकार प्रति बस की लागत 75 लाख रुपए अधिक दिखाकर यानि कि एक बस की कीमत 2.5 करोड़ रुपए दिखाकर इस घोटाले को अंजाम देना चाहती है।

इसके साथ-साथ माकन ने अपने आरोपों में कहा कि बेंगलुरु और हैदराबाद में बस चलाने के लिए प्राइवेट ऑपरेटर को 40 रुपए प्रति किलोमीटर की दर निर्धारित है, जिसमें ऑपरेटर को कोई सब्सिडी भी नहीं दी जाती है। वहीं दिल्ली की आप सरकार ने ऑपरेटर की दर 55 रुपए प्रति किलोमीटर तय कर रही है और साथ ही प्रति बस 1 करोड़ की सब्सिडी भी दे रही है। माकन यही नहीं रुके और कहा कि सीएम केजरीवाल ने दावा किया था कि प्रत्येक कैबिनेट बैठक की रिकॉर्डिंग हुआ करेगी, ताकि इसका सीधा प्रसारण किया जा सके और सरकार के काम और फैसलों में पारदर्शिता लायी जा सके। लेकिन अभी तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है। केजरीवाल सरकार ने कैमरे बंद करवाकर कैबिनेट की बैठक में 1000 ई-बसों की खरीद को मंजूरी दे दी।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि दिल्ली सरकार के वित्त और योजना विभाग ने सरकार के इस प्रस्ताव का यह कहकर विरोध भी किया था कि बिना डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के कैबिनेट 2500 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट को मंजूरी नहीं दे सकता। इसके अलावा इस प्रोजेक्ट में डिम्ट्स (दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टीमॉडल ट्रांजिट सिस्टम) को सलाहकार बनाए जाने का भी विरोध हो रहा है। दरअसल डिम्ट्स पर जल बोर्ड में वॉटर टैंकर डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम में धांधली का आरोप है। जिसके चलते दिल्ली सरकार द्वारा डिम्ट्स को ई-बसों की खरीद के प्रोजेक्ट में सलाहकार बनाने पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। वहीं कांग्रेस के आरोपों पर सत्ताधारी पार्टी आप ने इन आरोपों को आधारहीन बताकर खारिज कर दिया। आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि बसों की जो लागत बतायी जा रही है वह अनुमानित है। सरकार वैश्विक निविदा आमंत्रित करेगी और कोई भी कंपनी इसमें हिस्सा ले सकती है।

POPULAR ON IBN7.IN