लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आज 49वां जन्मदिन है। हर साल की तरह इस बार भी वह बगैर किसी आयोजन के रोजाना की तरह बैठकें कर रहे हैं। जन्मदिन के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें बधाई दी है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है, "यूपी के मेहनती मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जन्मदिन की शुभकामनाएं। उनके नेतृत्व में राज्य हर क्षेत्र में नई ऊंचाइयां हासिल कर रहा है। राज्य के लोगों के जीवन में बड़ा सुधार आया है। भगवान उन्हें लंबी और स्वस्थ जीवन दे।"

उधर मुख्यमंत्री ने भी अपने गुरू को याद करते हुए लिखा है, "गगन मंडल मैं ऊंधा कूबा तहां अमृत का बासा। सगुरा होइ सु भरि भरि पीवै निगुरा जाइ पियासा। गोरखबानी शिवावतारी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी के चरणों में सादर प्रणाम। महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी अपनी कृपा से समस्त संसार को अभिसिंचित करें, सबका कल्याण करें।"

ज्ञात हो कि योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के साथ-साथ गोरखपुर के प्रसिद्घ गोरखनाथ मंदिर के महन्त भी हैं। इन्होंने 19 मार्च 2017 को प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की बड़ी जीत के बाद यूपी के 21वें मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

करीब ढाई दशकों से योगी आदित्यनाथ को नजदीक से कवर करने वाले पत्रकार गिरीश पांडेय ने बताया, "उनका प्रकृति के प्रति अनुराग अनुपम है। यह शायद उनको विरासत में मिला है। इसकी वजह शायद प्राकृतिक रूप से बेहद संपन्न देवभूमि उत्तराखंड से उनका ताल्लुक होना और उनके स्वर्गीय पिता को वन विभाग में नौकरी (रेंजर) करने है। उनके इस प्रेम का विस्तार बच्चों, जानवरों और गायों तक हैं। यही वजह है कि मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके निर्देश एवं निजी रुचि से हर साल पौधारोपण का रिकॉर्ड बना। गोरखनाथ मंदिर परिसर की हरियाली में और इजाफा हुआ।"

बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने 1998 से 2017 तक भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया और 2014 लोकसभा चुनाव में भी यहीं से सांसद चुने गए थे। साथ ही वे गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महन्त अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी हैं।

योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले स्थित यमकेश्वर तहसील के पंचुर गांव में हुआ था। उनके पिता आनन्द सिंह बिष्ट फ रेस्ट रेंजर थे।

--आईएएनएस

मुंबई: निर्देशक रितम श्रीवास्तव का कहना है कि वेब सीरीज रक्तांचल का ओरिजनल ट्रैक इसके नरेटिव कथा में आत्मा और ड्रामा को जोड़ता है। श्रीवास्तव ने कहा, " 'राक्तांचल' को एक बड़े कैनवास पर लगाया गया है और हम हर उस तत्व को शामिल करना चाहते हैं, जो इस सीरीज के लिए सम्मान के साथ इसके मायने को भी जोड़ता है।"

उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि इन ओरिजनल ट्रैक के साथ हमने नरेटिव में विभिन्न क्षणों के लिए बहुत सारी आत्मा और ड्रामा को जोड़ा है। हमने संगीत के साथ-साथ भावनाओं को भी जोड़ा है।"

इसमें ओरिजनल ट्रैक हैं - 'मेहरबान', 'ठुमरी' और 'मेरे जलवे'। इन गीतों को कहानी में महत्वपूर्ण बिंदुओं पर फोकस किया किया गया है, गीतों के बोलों का उपयोग ²श्यों और चरित्र के मूड की प्रगति को बताने के लिए किया है।

शो में विजय सिंह और वसीम खान के किरदार सत्ता के काले पक्ष को प्रदर्शित करते हैं।

यह क्राइम ड्रामा वास्तविक घटनाओं से प्रेरित है जो उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में अस्सी के दशक में हुआ था। यह उस समय के आसपास का है जब राज्य में विकास कार्य टेंडर के माध्यम से वितरित किए जाते थे।

'रक्तांचल' में क्रांति प्रकाश झा, निकितिन धीर, विक्रम कोचर, प्रमोद पाठक, चितरंजन त्रिपाठी, सौंदर्या शर्मा, रोन्जिनी चक्रवर्ती, बसु सोनी और कृष्णा बिष्ट शामिल हैं। सीरीज एमएक्?स प्लेयर पर स्ट्रीम होती है।

--आईएएनएस

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को लोगों से विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पृथ्वी की जैव विविधता को संरक्षित करने का आग्रह करते हुए कहा कि हमें वनस्पति और जीवों को सुनिश्चित करने के लिए सामूहिक रूप से यथासंभव कार्य करने की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री मोदी ने एक ट्वीट में कहा, "विश्व पर्यावरण दिवस पर हम अपनी पृथ्वी की समृद्ध जैव विविधता के संरक्षण के लिए अपनी प्रतिज्ञा को दोहराते हैं। आइए हम पृथ्वी पर साझा करने वाली वनस्पतियों और जीवों को सामूहिक रूप से सुनिश्चित करने के लिए जो भी संभव हो वह करें।"

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा, "हम आने वाली पीढ़ियों के लिए और भी बेहतर पृथ्वी छोड़ सकते हैं।"

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट में अपने 'मन की बात' एपिसोड के अंश भी संलग्न किए हैं, जिसमें उन्होंने जैव विविधता के बारे में बात की थी।

गौरतलब है कि विश्व पर्यावरण दिवस हर साल 5 जून को मनाया जाता है। और इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस की थीम जैव विविधता (बायोडायवर्सिटी) है।

पिछले महीने 'मन की बात' के कार्यक्रम में उन्होंने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा था, "इस वर्ष के विश्व पर्यावरण दिवस का विषय जैव विविधता है। वर्तमान परिस्थितियों में यह विषय विशेष रूप से प्रासंगिक है।"

उन्होंने आगे कहा, "पिछले कुछ हफ्तों में लॉकडाउन के दौरान जीवन की गति थोड़ी धीमी हो गई है, लेकिन इसने हमें प्रकृति व हमारे आसपास की जैव विविधता की समृद्धता पर आत्मनिरीक्षण करने का अवसर दिया है।"

प्रधानमंत्री ने जल संरक्षण पर भी जोर दिया था और कहा, "हम बार-बार इस बात को सुनते हैं कि जल ही जीवन है! यदि जल है तो कल है, लेकिन हमारे पास जल के प्रति भी एक जिम्मेदारी है। हमें वर्षा जल को बचाना होगा।"

--आईएएनएस

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने एक साल के भीतर होने वाले राज्य विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए राज्यभर के पार्टी कार्यकर्ताओं से जुड़ने के लिए और उन तक अपनी पहुंच बनाने के लिए वर्चुअल माध्यमों का सहारा लिया है। गौरतलब है कि कोविड-19 के कारण चुनाव को अभी तक स्थगित करने को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

राज्य की मुख्यमंत्री और तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी आज शाम को 2021 चुनाव के लिए पार्टी के प्रचार अभियान के लिए ब्लूप्रिंट को लेकर पार्टी विधायकों, सांसदों, जिला अध्यक्षों और अन्य नेताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करने वाली हैं।

इस उच्च स्तरीय बैठक में बनर्जी कोरोना संकट और उसके बाद के 'नए सामान्य' परिस्थितियों पर चर्चा करेंगी। गौरतलब है कि कोविड-19 से दुनिया भर में सामाजिक भीड़ को लेकर समीकरण पूरी तरह बदल गए हैं।

पार्टी सूत्रों ने कहा कि तृणमूल सुप्रीमो आगामी चुनावों से पहले राज्य भर के सभी मतदाताओं के साथ जुड़ने के लिए पूरी तरह से नई अभियान नीति बनाएंगी, क्योंकि कोविड -19 की स्थिति को देखते हुए बैठक, रैली निकालने जैसे कार्यों को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया जाएगा।

सूत्रों ने आगे बताया कि पार्टी जनता तक पहुंचने के लिए अपने सोशल मीडिया टूल पर अधिक ध्यान केंद्रित करने की योजना बना रही है। इसके लिए जमीनी स्तर के कार्यकतार्ओं को भी जिलों में मतदाताओं से जुड़ने के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग करने को लेकर और वर्चुअल अभियान चलाने को लेकर प्रशिक्षण दिया जाएगा।

तृणमूल सुप्रीमो ने यह बैठक केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की बिहार में होने वाली 7 जून को भाजपा की वर्चुअल रैली के मद्देनजर बुलाई है। इसमें शाह इंटरनेट के माध्यम से 60,000 बूथों पर पार्टी कार्यकतार्ओं को लाइव-स्ट्रीम से संबोधित करेंगे।

--आईएएनएस

भोपाल: मध्य प्रदेश में कोरोना संकट काल के दौरान आंगनवाड़ी केन्द्रों में दी जाने वाली सभी सेवाएं निरंतर जारी रखी गई हैं। इन सेवाओं में प्राथमिकता के आधार पर सभी हितग्राहियों विशेषकर बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाये रखने और उसे बेहतर करने के प्रयास जारी है। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आधिकारिक तौर पर दी जा गई जानकारी के अनुसार कोरोना के कारण आंगनवाड़ी केन्द्र बन्द रखे जाने की अवधि तक केन्द्र आने वाले तीन से छह वर्ष के बच्चों को गुणवत्ता युक्त रेडी टू ईट पोषण आहारप्रति हितग्राही प्रतिदिन के निर्धारित मानदण्ड से हर हफ्ते उपलब्ध कराया जा रहा है। सामान्य परिस्थियों में स्थानीय स्व-सहायता समूहों के माध्यम से उन्हें गर्म पका हुआ भोजन दिया जाता है।

बताया गया है कि प्रदेश में 42 हजार 266 स्व सहायता समूहों द्वारा स्थानीय स्तर पर रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार के रूप में सत्तू, पंजीरी, लडडू चूरा, पौष्टिक मिक्च र, गुड़ पापड़ी आदि तैयार कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से छह माह से छह वर्ष तक गर्भवती व धात्री महिलाओं को 15-15 दिवस के अन्तराल में उपलब्ध करवाया जा रहा है।

एक तरफ जहां बच्चों पर ध्यान दिया जा रहा है वहीं सभी पात्र हितग्राहियों को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 द्वारा निर्धारित प्रोटीन एवं कैलोरी मानक युक्त पूरक पोषण आहार प्रदान किया जा रहा है।

भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी एडवाइजरी के माध्यम से 10 वर्ष तक की आयु के बच्चों एवं गर्भवती माताओं को उच्च जोखिम की श्रेणी में रखते हुए आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं के अतिरिक्त घर से बाहर न जाने के एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की सलाह दी गई है।

कोरोना संक्रमण काल के चलते प्रदेश वापस लौटे परिवारों में छह माह से छह साल तक के लगभग डेढ़ लाख बच्चे और लगभग 40 हजार गर्भवती व धात्री महिलाएं भी हैं। इन सभी को भी पोषण आहार उपलब्ध कराया जा रहा है।

--आईएएनएस

अंबेडकरनगर (उत्तर प्रदेश): अंबेडकर नगर में एक पुलिस अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है, क्योंकि उनके स्थानांतरण के बाद उनके सहयोगियों ने उन्हें 'शाही' विदाई दी थी। मनोज सिंह बसखारी पुलिस स्टेशन में स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) के पद पर तैनात थे। कथित तौर पर भाजपा के एक स्थानीय विधायक की शिकायत पर बुधवार को उनका तबादला कर दिया गया था।

इसके बाद, सिंह को उनके सहयोगियों ने विदाई दी। इसके लिए उनके नेतृत्व में जुलूस निकाला, जिसमें पांच पुलिस बाइक और तीन पुलिस जीप शामिल थीं।

विदाई का वीडियो सोशल मीडिया पर गुरुवार को वायरल होने के बाद, अंबेडकरनगर के एसपी आलोक प्रियदर्शी ने सिंह को सोशल डिस्टेंसिंग के प्रतिबंधों का उल्लंघन करने के लिए निलंबित कर दिया और पूरी घटना की जांच भी शुरू कर दी है।

39 सेकंड के वीडियो में दिखाया गया है कि एसएचओ को शाही विदाई दी जा रही है और वर्दी में पुलिसकर्मी इस जुलूस का हिस्सा हैं। जुलूस में जीप को हॉर्न और सायरन बजाते हुए सुना जाता है।

एसपी ने एसएचओ के बसखारी से जैदपुर में स्थानांतरण को रूटीन बताते हुए कहा, "सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर व्यापक रूप से साझा किए गए वीडियो में किसी भी पुलिसकर्मी को फेस-मास्क पहने नहीं देखा गया। इसके अलावा वे उचित तरीके से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं कर रहे हैं। यह भी हमारे संज्ञान में आया है कि काफिले ने मुख्य सड़क पर वाहनों की आवाजाही को बाधित किया था।"

अधिकारी ने कहा कि सिंह और अन्य अज्ञात पुलिसकर्मियों के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन के आरोपों के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई है।

जुलूस में शामिल अन्य लोगों की पहचान की जा रही है और उन पर भी कार्रवाई होगी।

--आईएएनएस

तिरुवनंतपुरम: केरल में गर्भवती हथिनी की मौत के मामले में एक आरोपी की गिरफ्तारी हुई है। केरल के वन मंत्री के राजू ने इसकी जानकारी देते हुए बताया है कि केरल के पलक्कड में गर्भवती हथिनी की मौत के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले गर्भवती हथिनी के मौत के मामले में तीन संदिग्धों से पूछताछ की गई।

इस घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया। केरल के साइलेंट वैली नेशनल पार्क की एक गर्भवती हथिनी को कुछ लोगों ने पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था। अनानास चबाते ही उसमें हुए विस्फोट से हथिनी का जबड़ा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था। हफ्तेभर बाद 27 मई को मलप्पुरम में वेल्लियार नदी में हथिनी की मौत हो गई थी।

इसके बाद आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि हथिनी गर्भवती थी। मामला सामने आते ही लोगों में गुस्सा फैल गया। केरल ही नहीं देश के हर कोने से दोषियों को सख्त सजा की आवाज उठी। केरल सरकार ने जांच के लिए वन विभाग की विशेष जांच टीम गठित की है।  

इस मामले के सामने आने के बाद केरल के वन विभाग ने ट्वीट कर कहा कि हथिनी की मौत के मामले में वन्यजीव संरक्षण कानून की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। कई संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है।

देश भर में घटना की हो रही निंदा और लोगों के गुस्से के बीच केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने बुधवार को कहा था कि कोझिकोड से वन्यजीव अपराध जांच दल को इस मामले की पड़ताल की जिम्मेदारी दी गई है। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि दोषियों को हर हाल में सजा होगी।

जम्मू: जम्मू एवं कश्मीर के राजौरी जिले में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में एक आतंकवादी को मार गिराया है। पुलिस ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी। पुलिस ने कहा कि मेलारी गांव में आतंकवादियों के एक समूह के छिपे होने की खुफिया जानकारी के आधार पर राष्ट्रीय राइफल्स के सैनिकों, स्थानीय पुलिस के विशेष अभियान समूह और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों की टुकड़ी ने गुरुवार देर रात तलाशी अभियान चलाया।

पुलिस ने कहा, "जिस स्थान में आतंकी छिपे हुए थे, जैसे ही वहां सुरक्षाबल पहुंचे उन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी और मुठभेड़ शुरू हो गई। जवानों ने एक आतंकी को मार गिराया है। मारे गए आतंकी के पास से एक एक-47 राइफल और चार बम बरामद हुए हैं।"

राजौरी और पुंछ रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) विवेक गुप्ता ने कहा, "मारे गए आतंकवादी की पहचान का पता लगाया जा रहा है। इलाके में गोलीबारी बंद हो गई है, लेकिन तलाशी अभियान जारी है।"

--आईएएनएस

नई दिल्ली: भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के एक दिन में 9800 से अधिक मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 2.26 लाख के पार पहुंच गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बात की जानकारी दी। मंत्रालय ने नवीनतम आंकड़े जारी कर कहा, " पिछले 24 घंटों में कुल 9 हजार 851 दैनिक आंकड़ों के साथ ही अब तक संक्रमित हुए लोगों की संख्या शुक्रवार को बढ़कर 2 लाख 26 हजार 770 हो गई है।"

कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर दो महीने तक लागू लॉकडाउन के अनलॉक के पहले चरण में यह उछाल देखने को मिला है। वहीं, सरकार ने अगले सप्ताह से धार्मिक स्थानों को खोलने की योजना बनाई है।

कोविड-19 संक्रमण के सामने आए कुल मामलों में से वर्तमान में 1 लाख 10 हजार 960 लोग महामारी से ग्रस्त हैं, जबकि उपचार के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ हुए 1 लाख 9 हजार 462 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। वहीं, पिछले 24 घंटें में अकेले 273 नई मौतें दर्ज की गई हैं, जिसके बाद महामारी की चपेट में आकर 6 हजार 348 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

भारत में सबसे अधिक प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है, जहां सर्वाधिक 77 हजार 793 मामले आए हैं। इसके बाद 27 हजार 256 मामलों के साथ तमिलनाडु, 25 हजार 04 मामलों के साथ दिल्ली और 18 हजार 584 मामलों के साथ गुजरात का स्थान है।

अकेले महाराष्ट्र में वर्तमान में 41 हजार 402 एक्टिव मामले हैं। इसके बाद 14 हजार 456 मामलों के साथ राष्ट्रीय राजधानी का स्थान है। तमिलनाडु और गुजरात में यह आंकड़ा क्रमश: 12 हजार 134 और 4 हजार 762 है।

कोविड-19 संक्रमण के पांच हजार से अधिक मामलों वाले राज्य में राजस्थान (9,862) मध्य प्रदेश (8,762), उत्तर प्रदेश (9,237) और पश्चिम बंगाल (6,876) शामिल हैं।

--आईएएनएस

मुंबई: 'नीरजा' के निर्देशक राम माधवानी ने अपना प्रोडक्शन हाउस-राम माधवानी फिल्म्स लॉन्च किया है। विज्ञापन की पृष्ठभूमि वाले माधवानी ने 2002 में फिल्म 'लेट्स टॉक' के साथ निर्देशक के रूप में फीचर फिल्मों की दुनिया में प्रवेश किया था।

उन्होंने अमिताभ बच्चन अभिनीत एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'एवरलास्टिंग लाइट' का भी निर्देशन किया था।

इस साल माधवानी अपने प्रोडक्शन हाउस के साथ फीचर फिल्मों, वेब सीरीज, लघु फिल्मों के निर्माता और निर्देशक के रूप में अपनी पहचान बनाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

उन्होंने बताया, "राम माधवानी फिल्म्स की स्थापना फीचर फिल्मों, वेब शो, और लघु फिल्मों के माध्यम से विभिन्न कहानियों को बताने के लिए की गई है। हम विशेष रूप से लंबे फॉर्मेट वाले क्षेत्र में बहुमुखी लेखकों, शोरनर्स, निर्देशकों और निमार्ताओं के साथ कोलाबोरेट करना चाहते हैं। हमारा इरादा सर्वश्रेष्ठ काम को आगे बढ़ाने और दर्शकों का मनोरंजन करने का है।"

राम लॉकडाउन के दौरान नए डिजिटल प्रोजेक्ट 'आर्या' का सह-निर्माण और निर्देशन कर रहे हैं। यह डच ड्रामा सीरीज 'पेनोजा' पर आधारित है, इससे सुष्मिता सेन वापसी कर रही हैं।

--आईएएनएस

Don't Miss