नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच सीएम अरविंद केजरीवाल शनिवार को मीडिया के सामने आए। इस दौरान उन्होंने प्राइवेट अस्पतालों को चेतावनी देते हुए कहा कि उन्हें मरीजों को भर्ती करना ही पड़ेगा। उन्हें अपने अस्पतालों में 20 फीसद बेड कोरोना पीड़ितों के लिए रखने ही होंगे और कोरोना मरीजों का इलाज भी करना होगा। दरअसल, पिछले दिनों अस्पतालों द्वारा भर्ती करने से इनकार करने पर एक कोरोना पीड़ित की मौत का सामने आया था। इसको लेकर अरविंद केजरीवाल ने इशारों-इशारों में प्राइवेट अस्पतालों के रुख पर नाराजगी जताई है।

उन्होंने कहा कि समन्वय बनाने के लिए अब कोरोना से संबंधित हर निजी अस्पताल में दिल्ली सरकार का प्रतिनिधि बैठेगा। साथ ही केजरीवाल ने अस्पतालों से कहा कि वे संदेहास्पद कोरोना मरीजों को इधर-उधर न भटकाएं, बल्कि उनका तत्काल इलाज शुरू करें। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कुछ प्राइवेट हॉस्पिटल गलत हरकत कर रहे हैं। एक न्यूज़ चैनल पर एंकर ने लाइव प्रोग्राम के दौरान प्राइवेट अस्पताल को फोन किया तो अस्पताल ने कहा कि आप 800000 दे दो तो मरीज को भर्ती कर लिया जाएगा। पहले कहते हैं बेड नहीं है और फिर भर्ती करने के एवज में 200000 और 500000 मांगने लगते हैं।

केजरीवाल ने प्राइवेट अस्पतालों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कुछ लोगों ने माफिया बनाया हुआ था, उसको तोड़ने में थोड़ा समय लग रहा है। कुछ चंद अस्पताल इतने ताकतवर हो गए हैं कि उनकी सभी पार्टियों में पहुंच है। वह कह रहे हैं कि हम मरीज नहीं लेंगे तो मैं कह रहा हूं कि मरीज तो लेने पड़ेंगे आपको। आपको सस्ती दर पर जमीन इसलिए दी गई थी, ताकि आप जनता की सेवा करें। इस मौके पर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा। इस गुमान में मत रहना कि दूसरी पार्टी में बैठा कोई नेता आपका आका आपको बचा लेगा।

पीसी में सीएम केजरीवाल ने कहा कि रविवार से हम एक-एक अस्पताल के मालिक को बुला रहे हैं। इससे पहले अस्पतालों को कहा गया है कि 20 फीसद बेड रिजर्व करो। अब हम आदेश निकाल रहे हैं कि किसी भी संदिग्ध को कोई अस्पताल मना नहीं करेगा। किसी भी संदिग्ध मरीज को मना नहीं किया जाएगा और अस्पताल खुद उस मरीज का टेस्ट कराएगा और जैसा भी नतीजा होगा उस हिसाब से उसको इलाज दिया जाएगा।

पीसी के दौरान केजरीवाल ने कहा कि कुछ लोग मीडिया में चला रहे हैं कि दिल्ली में टेस्टिंग बंद हो गई है। दिल्ली में कोई टेस्ट बंद नहीं हुआ है। अब कुल 42 सरकारी और प्राइवेट लैब काम कर रही थी, लेकिन गड़बड़ी करने पर 6 के खिलाफ कार्रवाई की गई है। ऐसे में अब 36 लैब काम कर रही हैं। वहीं, दिल्ली सरकार के 17 सेंटर हैं जहां टेस्ट हो रहे हैं। लोग प्राइवेट में भी टेस्ट करवा सकते हैं।

मुंबई: एमेजॉन प्राइम वीडियो ने आज बहुप्रतीक्षित मनोवैज्ञानिक थ्रिलर 'पेंगुइन' का पोस्टर रिलीज कर दिया है। कार्तिक सुब्बाराज, स्टोन बेंच फिल्म्स और पैशन स्टूडियो प्रोडक्शन की इस फिल्म में कीर्ति सुरेश मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। इस रहस्यपूर्ण पोस्टर ने दर्शकों की जिज्ञासा और बढ़ा दी है, इसके साथ ही निर्माता ने उन्हें एक यादगार अनुभव देने का वादा किया है।

फिल्म का टीजर 8 जून को लॉन्च किया जाएगा और फिल्म एक्सक्लूसिव तौर पर 19 जून को तमिल और तेलुगू में मलयालम में डब के साथ एमेजॉन प्राइम वीडियो पर लॉन्च होगी।

एमेजॉन ने अपने सोशल मीडिया पर ट्वीट करते हुए लिखा, "अप्रत्याशित की उम्मीद करिए। हैशटैगपेंगुइनऑनप्राइम तमिल तेलुगू में 19 जून को प्रीमियर, मलयालम डब के साथ।"

--आईएएनएस

नई दिल्ली: भारत और चीन के सैन्य शीर्ष अधिकारियों ने शनिवार को पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में गतिरोध की स्थिति को सुलझाने और वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास सुरक्षा बलों को हटाने के लिए वार्ता शुरू की। यह बैठक चशूल के सामने चीन की तरफ मोल्दो में हो रही है।

भारतीय सैन्य प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह-स्थित 14 कॉर्प के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह कर रहे हैं और चीनियों का नेतृत्व दक्षिण शिनजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर मेजर जनरल लियू लिन कर रहे हैं।

दोनों देश पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में विशेष रूप से पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट पर गतिरोध को हल करने के लिए बातचीत कर रहे हैं, जहां चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने यथास्थिति को बदलने का प्रयास किया है।

जो क्षेत्र अभी तक भारतीय नियंत्रण में हैं, वहां चीनी सैनिकों ने शिविर लगाकर यथास्थिति को बदलने का प्रयास किया है।

इससे पहले दोनों देशों के मेजर जनरल रैंक के अधिकारियों के बीच दो जून को वार्ता हुई थी, जिसका कोई निर्णय नहीं निकल पाया था।

पैंगोंग झील के फिंगर-4 क्षेत्र में बड़ी संख्या में चीनी सैनिक डेरा डाले हुए हैं। पैंगोंग झील को आठ फिंगर क्षेत्रों के हिसाब से विभाजित किया गया है। झील के साथ पहाड़ियों के उभरे हुए हिस्से को ही फिंगर कहा जाता है। अब तक भारत एक से चार फिंगर के क्षेत्र को नियंत्रित करता रहा है और चीन फिंगर पांच से आठ के बीच के क्षेत्र को नियंत्रित करता है।

फिंगर-4 के पास एक भारतीय पोस्ट है। हालांकि भारत फिंगर-8 तक पूरे क्षेत्र पर अपना दावा करता है। फिंगर-4 और फिंगर-8 के बीच का क्षेत्र विवाद का विषय रहा है और यहीं पर अक्सर टकराव देखा गया है।

पैंगोंग झील के पास पांच मई को कथित तौर पर झड़प हो गई थी, जिससे दोनों पक्षों के कई सैनिक घायल हो गए।

सूत्रों ने बताया कि गतिरोध लद्दाख में भारत के सड़क निर्माण के लिए एक सहज प्रतिक्रिया नहीं है। उस झड़प से कुछ हफ्तों पहले ही असामान्य गतिविधियों को देखा गया था।

लद्दाख में मौजूदा गतिरोध सामान्य गश्त का हिस्सा नहीं है, बल्कि डोकलाम के बाद चीन द्वारा शुरू की गई नई रणनीति का हिस्सा है।

--आईएएनएस

भुवनेश्वर: पिछले 24 घंटों में ओडिशा में कोविड-19 के 173 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिससे राज्य में कुल मामलों की संख्या 2,781 हो गई है। शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने इसकी सूचना दी है। राज्?य में यह कोविड-19 पॉजिटिव मामलों की यह अब तक की सबसे अधिक एकल-दिवसीय संख्या है।

173 मामलों में से, 150 मामले क्वारंटीन सेंटर से रिपोर्ट किए गए और 23 मामले स्थानीय संपर्क से हैं।

गंजम में सबसे ज्यादा 64 मामले दर्ज हुए। वहीं जाजपुर (19), कटक (13), मयूरभंज (13), बलांगीर (11), बालासोर (11), गजपति (10), खुर्दा (9), नुआपाड़ा (8), नयागढ़ (7), भद्रक (4), कालाहांडी (2), झारसुगुड़ा (1) और पुरी (1) पर रहा।

अब यहां सक्रिय मामले 1,167 हैं, जबकि 1,604 लोग अब तक ठीक हुए और आठ लोगों की संक्रमण के कारण मौत हुई है।

--आईएएनएस

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकार द्वारा दिये जा रहे पैकेज पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने पूछा है कि 20 लाख करोड़ के पैकेज में गरीबों के लिए कितना है। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने शनिवार को ट्वीटर के माध्यम कहा, "सरकार बस इतना बता दे कि 20 लाख करोड़ के तथाकथित 'महापैकेज' में कितना गरीब के लिए है कितना किसान, दिहाड़ी-प्रवासी मजदूर, छोटे व्यापारी, खुदरा कारोबारी, रेड़ी-ठेले-पटरीवाले व अन्य मजबूरों के लिए है। समाज को बांटने में माहिर लोग कृपया करके इस आर्थिक बंटवारे का हिसाब भी दे दें।"

इससे पहले उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा था, "बाराबंकी से एक परिवार के पांच लोगों के अलावा उप्र के अन्य शहरों से भी आत्महत्याओं की दुखद खबरें आ रही हैं। भाजपा सरकार से अपेक्षा है कि तत्काल लोगों के खाने और कमाने का इंतजाम करे। सबसे पहले प्रदेश में भूख से लोगों का मरना रुकना चाहिए।"

--आईएएनएस

कोझिकोड: कोविड-19 महामारी के कारण पूर्व भारतीय फुटबालर हमजा कोया की मल्लपुरम के एक अस्पताल में मौत हो गई। उन्होंने भारतीय टीम के साथ साथ संतोष ट्रॉफी में महाराष्ट्र का प्रतिनिधित्व किया था। कोरोनावायरस के कारण केरल में अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है।

61 साल के हमजा मुंबई के विभिन्न क्लबों में खेले थे। वह 21 मई को परिवार के साथ मुंबई से लौट आए थे। उनका बेटा मुंबई में काम करते हैं और वह भी अपने परिवार के साथ लौट आए थे।

हमजा को 26 मई को कोविड-19 लक्षण का पता लगने के बाद मल्लपुरम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। दो दिन बाद ही उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने लगी थी और इसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। लेकिन शनिवार सुबह उनका निधन हो गया।

हमजा के परिवार के पांच सदस्य भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं और उनका भी अस्पताल में इलाज चल रहा है और उनकी हालत स्थिर बनी हुई है।

- -आईएएनएस

वाशिंगटन: ईरान के लिए अमेरिका के विशेष ब्रायन हुक ने कहा है कि ईरान के साथ व्यापक रूप से बातचीत के लिए कूटनीतिक दरवाजा अभी भी खुला है। ईरान द्वारा अमेरिकी नौसेना के पूर्व जवान माइकल व्हाइट को रिहा किए जाने के एक दिन बाद शुक्रवार को हुक ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 'कई वर्षो से कूटनीतिक दरवाजा खोल रखा है।' व्हाइट को करीब दो साल बाद रिहा किया गया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, उन्होंने कहा, "हम (ईरानी) शासन को कूटनीति के साथ अपनी कूटनीति पर खरा उतरते देखना चाहते हैं।"

हुक ने कहा कि अमेरिका-ईरानी संपर्क अब तक कैदियों की पारस्परिक रिहाई तक सीमित थे और ईरान के परमाणु कार्यक्रम जैसे मुद्दों पर नहीं।

हालांकि, उन्होंने दोहराया कि अमेरिका ईरान पर सख्त आर्थिक प्रतिबंधों की अपनी नीति पर कायम रहेगा, जिसका मकसद ईरान को परमाणु कार्यक्रम पर तथाकथित वार्ता के लिए मजबूर करना है।

--आईएएनएस

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में रहने वाली अमेरिकी ब्लॉगर सिंथिया डान रिची ने पाकिस्तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। रिची ने पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी और तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री मखदूम शहाबुद्दीन पर भी शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किए जाने के गंभीर आरोप लगाए हैं। उनके इस दावे से पाकिस्तान की सियासत में उफान आ गया है और कई लोग उनके मकसद को लेकर भी सवाल उठा रहे हैं।

सिंथिया के मुताबिक, दोनों घटनाएं 2011 की हैं। इस दौरान बेनजीर भुट्टो की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) सत्ता में थी। फिलहाल, पार्टी की कमान बेनजीर के बेटे बिलावल भुट्टो जरदारी के हाथ में है।

सिंथिया ने शुक्रवार को फेसबुक पर एक वीडियो जारी किया। इसमें गिलानी और रहमान मलिक पर आरोप लगाए गए हैं। सिंथिया के मुताबिक, घटना 2011 में उस वक्त की है, जब वह राष्ट्रपति भवन में रहती थीं।

सिंथिया ने सोशल मीडिया के जरिए कहा है कि यह घटना रहमानी के घर पर हुई थी। अमेरिकी महिला ने दावा किया है कि तब वह रहमानी से मिलने उनके घर गई थीं, जहां उन्हें फूल और ड्रिंक दिया गया था। उन्हें लगा था कि यह मीटिंग उनके वीजा को लेकर है। सिंथिया ने बताया कि तब वह चुप इसलिए रही कि पीपीपी की सरकार थी और वे उनकी सहायता नहीं करते।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, मुझे ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर दिया गया था। मैं चुप रही क्योंकि, तब पीपीपी सरकार थी और कोई मेरी मदद नहीं करता। मैं अब किसी का भी सामना करने के लिए तैयार हूं।

उन्होंने पीपीपी पर गंदी राजनीति का आरोप लगाते हुए कहा कि मैं चाहती हूं कि दुनिया मेरी बात को सुने। सिंथिया के मुताबिक, घटना 2011 में उस वक्त की है, जब वो राष्ट्रपति भवन में रहती थीं।

सिंथिया रिची ने अपने वीडियो में यह भी कहा कि वह तटस्थ और खोजी पत्रकारों के साथ इस मुद्दे के विस्तार में जाकर खुश होंगी। उन्होंने कहा कि जैसा भी कानून के अनुसार आवश्यक है, वह अगले सप्ताह की शुरूआत में सभी जांचकतार्ओं से मिलने के लिए भी तैयार है।

सिंथिया ने इस मुद्दे को लेकर शनिवार को भी कुछ ट्वीट किए। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, पीपीपी नेता मेरे खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं। रेप कल्चर बंद होना चाहिए। महिलाएं एकजुट हों और बच्चों को इस घृणित काम के बारे में जानकारी दें। वैसे यह सिर्फ पीपीपी का मामला नहीं है। कई सियासी पार्टियों ने मेरा शोषण किया। मैंने कभी परिवार को भी इन घटनाओं के बारे में नहीं बताया। मैंने हमेशा पाकिस्तान की एक सॉफ्ट इमेज बनाने के लिए मेहनत की।

उल्लेखनीय है कि सिंथिया पिछले कुछ दिनों से पीपीपी नेताओं की तस्वीरें साझा कर लगातार हमलावर हैं। पीपीपी ने बेनजीर भुट्टो को लेकर एक ट्वीट के बाद सिंथिया के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई है।

--आईएएनएस

मुंबई: भारतीय जनता पार्टी की पूर्व नेता व रेलमंत्री पियूष गोयल की मां चंद्रकांत गोयल का शनिवार सुबह यहां निधन हो गया। वह 88 साल की थीं। गोयल ने अपनी मां के निधन की जानकारी एक सोशल मीडिया पोस्ट के माध्यम से दी, जो काफी भावुक करने वाला था।

गोयल ने ट्वीट में कहा, "अपने स्नेह और प्रेम से मुझे हमेशा राह दिखाने वाली मेरी पूज्य माता जी का आज सुबह स्वर्गवास हो गया। उन्होंने अपना पूरा जीवन सेवा करते हुए बिताया और हमें भी सेवाभाव से जीवन बिताने को प्रेरित किया। ईश्वर उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दें। ओम शांति।"

मुंबई के माटुंगा से 3 बार विधायक रह चुकीं चंद्रकांता गोयल वरिष्ठ भाजपा नेता दिवंगत वेद प्रकाश गोयल की पत्नी थीं। वेद प्रकाश गोयल प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में शिपिंग मंत्री थे।

गोयल परिवार लंबे समय से जनसंघ और भाजपा से जुड़ा हुआ है और उनके बेटे पीयूष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में रेल मंत्री हैं।

--आईएएनएस

जिनेवा: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि दक्षिण एशिया में कोविड-19 के मामले जिस खतरनाक दर से बढ़ रहे हैं, उससे घनी आबादी वाले क्षेत्र में वायरस के विस्फोट का खतरा है। डब्ल्यूएचओ हेल्थ इमर्जेंसी प्रोग्राम के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर माइकल रयान ने शुक्रवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, "विशेष रूप से दक्षिण एशिया में, न केवल भारत में, बल्कि बांग्लादेश, पाकिस्तान और दक्षिण एशिया के अन्य देशों में जहां घनी आबादी में बीमारी का विस्फोट नहीं हुआ है, लेकिन वहां हमेशा ऐसा होने का जोखिम है।"

उन्होंने आगे कहा, "और जब यह बीमारी उत्पन्न होती है और समुदायों में पैर जमाने लगती है, तो यह किसी भी समय तेज हो सकती है।"

"भारत में मामलों की संख्या औसतन प्रति सप्ताह एक तिहाई बढ़ रही है, इसलिए शायद भारत में महामारी का दोगुना समय इस स्तर पर लगभग तीन सप्ताह है। तो महामारी की यात्रा की दिशा घातक नहीं है, लेकिन यह अभी भी बढ़ रही है।"

रयान ने कहा कि भारत में किए गए उपायों का "निश्चित रूप से प्रसार रोकने में प्रभाव पड़ा है और भारत जैसे अन्य बड़े देश जैसे -जैसे खुलते हैं और लोगों का मूवमेंट शुरू होता है तो ऐसे में हमेशा बीमारी के बढने का खतरा बढ़ जाता है"।

डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने कहा, "मुझे लगता है कि वास्तव में महत्वपूर्ण बात यह है कि वायरस की विकास दर, वायरस के दोहरीकरण समय पर नजर रखना और सुनिश्चित करना कि वह बुरी स्थिति में न हो।"

स्वामीनाथन ने कहा कि जैसा कि भारत एक "विविधिता वाला और विशाल देश है जिसमें बहुत घनी आबादी वाले शहर हैं", ऐसे में यहां चेहरे को ढंकना महत्वपूर्ण है।

बता दें कि शनिवार तक भारत ने इटली को पीछे छोड़ते हुए 2.3 लाख से अधिक कोविड-19 मामले दर्ज किए हैं। यह अब दुनिया में सबसे अधिक संक्रमण के मामलों साथ छठे स्थान पर है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अब तक कुल 6,642 मौतें हो चुकी हैं।

भारत के बाद दक्षिण एशिया में पाकिस्तान सबसे बुरी तरह प्रभावित देश है। यहां 89,249 मामले आ चुके हैं और 1,935 लोगों की मौत हुई है।

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुसार, बांग्लादेश 60,391 संक्रमण और 811 मौतों के साथ तीसरे स्थान पर है।

18,969 मामलों और 309 मौतों के साथ अफगानिस्तान वर्तमान में चौथे स्थान पर है।

वहीं नेपाल में 2,912 मामले और 11 मौतें हुई हैं। इसके बाद मालदीव में 1,883 मामले और 7 मौतें शामिल हैं। श्रीलंका में 1,801 मामले आए हैं और 11 मौतें हुईं हैं। भूटान में 48 मामले दर्ज किए गए हैं और अब तक इस वायरस से कोई मौत दर्ज नहीं हुई है।

--आईएएनएस

Page 1 of 15129

Don't Miss