नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआऱ में एक बार फिर से भूकंप के झटके महसूस कि गए हैं। भूकंप के झटके दिल्ली समेत गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा और गाजियाबाद में भी महसूस किए गए हैं।वनेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ( National Centre for Seismology) के अनुसार, इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.5 मापी गई। भूकंप शुक्रवार शाम 7 बजकर 50 सेकेंड पर आया। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, गुरुग्राम के दक्षिण-पश्चिम में 63 किमी की दूरी पर 4.5 तीव्रता का भूकंप दर्ज किया गया। 

 

कानपुर देहात, जेएनएन। LIVE Kanpur News Today: हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के गांव दबिश के दौरान शहीद आठ पुलिसकर्मियों के पार्थिव शरीर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार की शाम करीब चार बजे पुलिस लाइन पहुंचकर पुष्पचक्र अर्पित करके श्रद्धांजलि दी और उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की।मुख्यमंत्री ने कहा है कि शहीद सभी आठ पुलिस जवान के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी। साथ ही शहीदों के प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को शासकीय सेवा प्रदान की जाएगी और आश्रित को असाधारण पेंशन का लाभ दिया जाएगा। उन्हाेंने कहा कि पुलिस जवानों की शहादत को व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा। इस घटना में दोषी किसी भी व्यक्ति को नहीं छोड़ा जाएगा। उसे कानून के दायरे में कठोर से कठोर सजा दिलाई जाएगी।

पत्रकार वर्ता में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दिनभर की ड्यूटी के बाद अपराधियों और माफिया के खिलाफ जारी पुलिस के अभियान के तहत ही पुलिस टीम छापा मारने गई थी। जिन लोगों ने घटना को अंजाम दिया है, उन्हें कानून के दायरे में कठोर से कठोर सजा दी जाएगी। किसी भी कीमत पर अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि घटना को अंजाम देने वालों को पकड़ने के लिए टीमें बनाई गईं हैं, जो छापेमारी कररही है। पुलिस मुठभेड़ में दो अपराधी मारे गए हैं और हमारे जवानों से छीने गए असहलों में कुछ बरामद हो गए हैं। 

 

 

 

इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानपुर के प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज करा रहे घायल पुलिसकर्मियों से भेंट की। इस दौरान उन्होंने पुलिसकर्मियों को उनकी बहादुरी पर सराहा तथा हौसला भी बढ़ाया। उनके साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी थे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानपुर में डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी के साथ ही शीर्ष पुलिस अधिकारियों को तैनात कर दिया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ कहा है कि अब यह अधिकारी तभी कानपुर से वापस जाएंगे जब तक यह टीम विकास दुबे को पकड़ नहीं लेती या फिर मुठभेड़ में धराशाई नहीं कर देती है। उन्होंने पुलिस कर्मियों की हत्या को लेकर सख्त आदेश दिए और कहा कि सभी आला अधिकारियों से कहा है कि जब तक हिस्ट्रीशीटर विकास दूबे खत्म ना हो जाये तब तक घटनास्थल पर ही कैम्प करें। दरअसल इस घटना से अपराधियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जीरो टालरेंस नीति को खुली चुनौती दी है। जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त तेवर अपनाते हुए बेहद गंभीरता से लिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सुबह जैसे ही इस घटना के बारे में पता चला उन्होंने पुलिस के आलाधिकारियों को सख्त निर्देश देकर तुरन्त कार्रवाई करने को कहा, आनन-फानन में एडीजी ला एण्ड आर्डर प्रशांत कुमार को घटना स्थल रवाना किया गया।

कोलंबो: विश्व कप-2011 के फाइनल में फिक्सिंग के आरोपों की जांच कर रही श्रीलंका खेल मंत्रालय की विशेष जांच ईकाई (एसआईयू) ने इसे खत्म कर दिया है। समिति के अध्यक्ष एसएसपी जगात फोन्सेका ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी।

फोन्सेका ने स्थानीय मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह इसकी जांच कर रहे थे और इसके लिए कुछ श्रीलंकाई खिलाड़ियों के बयान भी दर्ज कराए गए थे लेकिन आरोपों के संबंध में कोई सूबत नहीं मिला।

लंकादीप अखबार ने फोन्सेका के हवाले से लिखा है, "तीन बयान दर्ज किए गए लेकिन पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे ने जो 14 आरोप लगाए थे उन्हें लेकर एक भी सूबत नहीं मिला। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भी इन आरोपों का जवाब नहीं दिया। उसने किसी तरह की जांच भी नहीं की है।

जिन लोगों से इस संबंध में पूछताछ हुई थी उसमें विश्व कप में टीम के कप्तान रहे कुमार संगकारा, सलामी बल्लेबाज उपुल थरंगा, महेला जयवर्धने, और उस समय के मुख्य चयनकर्ता अरविंद डी सिल्वा के नाम शामिल हैं।

फोन्सेका ने कहा कि समिति खेल मंत्रालय के सचिव को अपनी रिपोर्ट भेजेगी।

उन्होंने कहा कि समिति के उच्च अधिकारियों के साथ आज सुबह हुई बैठक के बाद जांच को खत्म करने का फैसला लिया गया है।

खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे ने दावा किया था 2011 में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया फाइनल मैच फिक्स था।

उन्होंने कहा था, "2011 विश्व कप फाइनल फिक्स था, मैं अपनी बात पर कायम हूं। यह तब हुआ था जब मैं खेल मंत्री था।"

उन्होंने पिछले महीने कहा था, "मैं हालांकि देश की खातिर जानकारी साझा नहीं कर सकता। भारत के खिलाफ 2011 में खेला गया मैच, हम जीत सकते थे, लेकिन वो फिक्स था।"

उन्होंने कहा था, "मैं यह पूरी जिम्मेदारी से कह रहा हूं और मैं इस पर बहस करने को भी तैयार हूं। लोग इस बात को लेकर चिंतित हैं कि मैं कहीं इसमें किसी क्रिकेटर को न शामिल कर दूं। हालांकि एक निश्चित समूह मैच को फिक्स करने में शामिल जरूर था।"

इन आरोपों के बाद संगकारा और जयवर्धने ने उन्हें आड़े हाथों लिया जिसके बाद पूर्व मंत्री अपने बयान से बदल गए थे और कहा था कि कुछ अधिकारियों की बात कर रहे हैं न कि खिलाड़ियों की।

--आईएएनएस

नई दिल्ली: आस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज माइक हसी का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी एक चैंपियन क्रिकेटर हैं और मौजूदा ब्रेक उन्हें आत्मनिरीक्षण करने का मौका मिलेगा और देखना होगा कि क्या वह फिर से भारतीय टीम के लिए खेलना चाहते हैं या नहीं। हसी ने क्रिकेट पोडकास्ट हॉटस्पॉट कार्यक्रम में कहा, " मैं कोई भारतीय चयनकर्ता नहीं हूं, लेकिन मुझे नहीं लगता है कि आप धोनी को छोड़ सकते हैं। आपको कभी भी चैंपियन और चैंपियन खिलाड़ी को नहीं छोड़ना चाहिए और एक खिलाड़ी तथा एक कप्तान के रूप में उन्होंने देश को बहुत कुछ दिया है।"

उन्होंने कहा, " वह (धोनी) अभी भी खुद को बहुत अच्छी स्थिति में रखते हैं जितना वह खुद को फिट और स्वस्थ रख सकते हैं। शायद यह ब्रेक उनके लिए आराम करने और विशेष रूप से चीजों के शारीरिक रूप से ब्रेक पाने के लिए सहायक है.. क्योंकि उन्हें बहुत अनुभव है।"

हसी ने आगे कहा, "उन्हें आवश्यक स्तर पर आने में समय लगेगा, लेकिन ज्यादा समय नहीं लगेगा, जितना कि अन्य खिलाड़ी को लगता है जो अपने खेल को नहीं जानते हैं। उन्हें अपने खेल की बहुत अच्छी समझ है। मैं उनके स्किल्स को लेकर चिंतित नहीं हूं।"

- -आईएएनएस

मुंबई: बॉलीवुड कोरियोग्राफर सरोज खान का शुक्रवार तड़के निधन हो गया, लेकिन वह अपनी कला के जरिए अपने प्रशंसकों के दिल में हमेशा बनी रहेंगी। वह एक ऐसी कोरियाग्राफर थीं, जिन्होंने लगातार चार दशकों तक अपनी कला से बॉलीवुड डांस को नई परिभाषा दी। उनमें से कुछ मशहूर गानों पर एक नजर-

- तेजाब (1988) का 'एक दो तीन'

इस गाने ने माधुरी दीक्षित को रातोंरात स्टार बना दिया और उस जमाने की टॉप बॉलीवुड अभिनेत्रियों की सूची में शामिल कर दिया। 2018 में आई फिल्म 'बाघी 2' के लिए जैकलीन फर्नांडीज पर इस गाने का नया वर्जन तैयार किया गया था, लेकिन खान ने बेबाकी से कहा था कि वह इस प्रयास से बहुत प्रभावित नहीं थीं।

- मिस्टर इंडिया (1987) का 'हवा हवाई'

यह गीत 1980 के दशक के सबसे बड़े चार्टबस्टर्स में से एक था और आज भी एक है। इसने श्रीदेवी को 'हवा हवाई' गर्ल के नाम से मशहूर किया।

- नगीना (1986) का 'मैं नागिन तू सपेरा'

हरमेश मल्होत्रा की 'नगीना' बिना अधिक प्रचार वाली एक मामूली-सी फिल्म के रूप आई और कुछ ही समय में इसने रिकॉर्ड सफलता हासिल की। इस फिल्म ने श्रीदेवी को सुपरस्टार बना दिया। खान ने नागिन डांस के लिए जो कोरियोग्राफी की, वह आज भी लोकप्रिय है।

- मिस्टर इंडिया (1987) का 'काटे नहीं कटते'

श्रीदेवी पर फिल्माए गए इस गीत को आज भी बॉलीवुड के सबसे कामुक डांस में से एक माना जाता है।

- चांदनी (1989) का 'मेरे हाथों में नौ नौ चूड़ियां

सरोज खान द्वारा निर्देशित साधरण लेकिन जबरदस्त एक्सप्रेशन वाला श्रीदेवी पर फिल्माया गया यह गाना अभी भी लोगों के दिलों में एक विशेष स्थान रखता है।

-थानेदार (1990) का 'तम्मा तम्मा लोगे'

माधुरी दीक्षित और संजय दत्त पर फिल्माए गए इस गाने को भी सरोज खान ने कोरियोग्राफ किया था। हाल ही में वरुण धवन और आलिया भट्ट की फिल्म 'बद्रीनाथ की दुल्हनिया' में इसे रीक्रिएट किया गया है।

-सैलाब (1990) का 'हमको आज कल है'

सरोज खान ने अन्य अभिनेत्रियों की तुलना में माधुरी दीक्षित के साथ सबसे अधिक डांस एक्सपेरीमेंट किए। इस गाने की कोरियोग्राफी भी ऐसा ही एक एक्सपेरीमेंट था, जिसने धमाल मचा दिया था।

- बेटा (1992) में 'धक धक करने लगा'

इस गाने के बाद ही कई लोगों के लिए माधुरी दीक्षित बॉलीवुड की 'धक धक' गर्ल बन गईं हैं।

- बाजीगर (1993) का 'ये काली काली आंखें'

इस गाने में काजोल और शाहरुख खान ने डांसफ्लोर पर कमाल का परफॉर्मेंस दिया है। सरोज खान को ये गाना इतना पसंद आया था कि इसके लिए समय निकालने उन्होंने अपने कई दूसरे कार्यक्रम छोड़ दिए थे।

- खलनायक (1994) का 'चोली के पीछे'

माधुरी दीक्षित पर फिल्माया ये गाना भी बहुत लोकप्रिय है।

इस लिस्ट में और भी कई गाने हैं। जैसे - अंजाम (1994) का 'चने के खेत में', याराना (1995) का 'मेरा पिया घर आया', हम दिल दे चुके सनम (1999) का 'निम्बूडा', लगान (2001) का 'राधा कैसे ना जले', देवदास (2002) का 'डोला रे डोला', जब वी मेट (2008) का 'ये इश्क हाये', कलंक (2019) का 'तबाह हो गए' आदि।

खान ने माधुरी दीक्षित के साथ कई हिट गाने किए और उनकी आखिरी कोरियाग्राफी भी माधुरी दीक्षित के लिए ही रही। कलंक फिल्म का गाना 'तबाह हो गए' का डांस डायरेक्शन सरोज खान ने ही किया था।

--आईएएनएस

अमरावती: आंध्र प्रदेश में शुक्रवार सुबह 9 बजे बीते 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 837 नए मामले सामने आए, जिसके साथ संक्रमितों की संख्या बढ़कर 16,934 हो गई। यह बात राज्य के नोडल अधिकारी कही। उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न हिस्सों से और 8 कोरोना मरीजों की मौत की खबर है। इसके साथ राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या अब 206 हो गई। स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि शुक्रवार को और 258 मरीज ठीक हुए। अब तक 7,632 लोग संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इस समय कम से कम 9,096 संक्रमित लोगों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है।

उन्होंने बताया कि बीते 24 घंटों में 38,898 नमूनों की जांच की गई। अब तक 9,71,611 जांच की गई हैं।

बीते 24 घंटों के दौरान कुरनूल में 4 मौतें, चित्तूर में 2 और कृष्णा व गोदावरी जिलों में एक-एक मौत होने की खबर है।

--आईएएनएस

मुंबई: रिद्धिमा कपूर साहनी को अपने पति भरत साहनी पर गर्व है, क्योंकि उन्होंने कोविड-19 महामारी के बीच प्लाज्मा दान किया और जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आए। इंस्टाग्राम स्टोरी पर रिद्धिमा ने अपने पति भरत की एक तस्वीर साझा की, जिसमें वह अस्पताल में बिस्तर पर लेटे नजर आ रहे हैं और प्लाज्मा दान करते दिख रहे हैं।

रिद्धमा ने लिखा, "अपना प्लाज्मा डोनेट करने को लेकर और किसी की जिंदगी बचाने को लेकर मुझे आप पर गर्व हो रहा है। बहुत बढ़िया।"

रिद्धिमा फिलहाल मुंबई में अपनी मां नीतू कपूर के साथ समय बिता रही हैं। वह अपने पिता ऋषि कपूर के 30 अप्रैल को निधन के कुछ दिनों बाद यहां पहुंची थीं।

नीतू कपूर ने भी प्लाज्मा दान करने के लिए अपने दामाद की प्रशंसा की। उन्होंने इंस्टाग्राम स्टोरीज पर लिखा, "मेरे दामाद गंभीर रूप से बीमार कोविड रोगियों को अपना प्लाज्मा दान करने को लेकर मुझे आप पर गर्व है। मुझे पूरी उम्मीद है कि यह बहुत से अन्य लोगों को आगे आने और ऐसा करने के लिए प्रेरित करेगा।"

हालांकि, नीतू कपूर ने यह साझा नहीं किया कि भरत भी कोरोनोवायरस से पीड़ित थे या नहीं।

--आईएएनएस

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर में व्यवसायियों को हनी ट्रैप जाल में फंसाने और उसके बाद जबरन धन उगाहने के मामलों की संख्या बढ़ रही है। देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान दिल्ली और गुरुग्राम पुलिस ने ऐसे कई सक्रिय गिरोहों का भंडाफोड़ किया है। हाल ही के एक मामले में, जब एक 19 वर्षीय लड़की शाहदरा जिले के कृष्णा नगर पुलिस स्टेशन में आई और उसने एक स्थानीय व्यापारी के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया, तो पुलिस को उस पर शक करने का कोई कारण नहीं मिला। उन्होंने मामला दर्ज किया और आरोपी को पकड़ लिया। हालांकि, जांच के दौरान पुलिस को पीड़िता पर संदेह हुआ क्योंकि उसके बयानों में विसंगतियां थीं।

बाद में जांच के दौरान पता चला कि पीड़िता आरोपी के बेटे से पैसे मांग रही थी। पुलिस टीम ने फिर अलग-अलग पहलुओं पर काम करना शुरू कर दिया, जिसमें आदमी के हनी ट्रैप में फंसे होने की आशंका और लड़की के एक रैकेट का हिस्सा होने की संभावना भी शामिल थी। पुलिस ने पीड़िता से उसके परिवार और घर के बारे में पूछताछ की। उसने एक महिला को अपनी बड़ी बहन के रूप में पेश किया और पुलिस को एक पता दिया।

शाहदरा के डीसीपी अमित शर्मा ने कहा, "जब हमने आगे पूछताछ की, तो हमें पता चला कि पीड़िता का कोई भाई-बहन नहीं है। टीम को संदेह हुआ और तथाकथित बहन से अच्छी तरह से पूछताछ की गई। निरंतर पूछताछ के दौरान, उसने स्वीकार किया कि पीड़िता उसकी बहन नहीं है। उसने आगे कबूल किया कि पैसे उगाहने के लिए उसने दो अन्य लोगों के साथ मिलकर गांधी नगर के व्यापारी को यौन उत्पीड़न के मामले में फंसाने के लिए आपराधिक साजिश रची थी।"

पुलिस के अनुसार, योजना के अनुसार उसने खुद को प्रिया के रूप में व्यवसायी के सामने पेश किया और एक अन्य लड़की ने खुद को प्रिया की बहन के रूप में पेश किया और दोनों ने नंबर का आदान-प्रदान करने के बाद व्यवसायी को फंसा लिया।

अधिकारी ने कहा, "उन्होंने मामले को निपटाने के लिए 20 लाख रुपये की मांग की।"

दो अन्य सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया गया और उन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने दिल्ली के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में अलग-अलग लोगों के खिलाफ इसी तरह के मामले दर्ज कराए थे।

जगतपुरी में एक दूसरे मामले में, जबरन वसूली की दो शिकायतें पुलिस स्टेशन पहुंचने के बाद एक जोड़े को गिरफ्तार किया गया था।

एक मामले में, एक आदमी और एक 24 वर्षीय महिला ने एक व्यवसायी के कार्यालय में प्रवेश किया और प्रति माह 10,000 रुपये की मांग की और मांग पूरी नहीं करने पर उसे यौन शोषण के झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी। यह सौदा 2,500 रुपये प्रति माह पर तय किया गया था। लेकिन कारोबारी ने पुलिस से संपर्क किया। उसी जोड़े ने तब शेयर मार्केट के एक कर्मचारी को फंसाया और उनसे मामले को निपटाने के लिए पैसे की मांग की। दोनों आरोपियों प्रकाश मंडल और महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मालूम पड़ता है कि एनसीआर में हनी ट्रैप का रैकेट फैल गया है। सिर्फ दिल्ली ही नहीं, गुरुग्राम से सटे इलाकों में भी इस तरह के मामले सामने आए हैं।

जून में, गुरुग्राम के सेक्टर 10 में गदोली खुर्द गांव से दो पुरुषों को शहर और दिल्ली में कई रियल एस्टेट एजेंटों को हनी ट्रैप के जाल में फंसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

रैकेट में शामिल लोग पीड़ित की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने की धमकी देकर उनका शोषण करते हैं। कई लोग पुलिस के पास भी नहीं जाते हैं और हनी ट्रैप गिरोह की ओर से जबरन मांगी गई रकम की मांग पूरी करते हैं।

--आईएएनएस

मुंबई: अभिनेता शाहरुख खान ने शुक्रवार को सरोज खान के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि दिवंगत कोरियोग्राफर फिल्म उद्योग में उनकी 'पहली असल शिक्षिका' थीं।

शाहरुख ने ट्वीट किया, "फिल्म उद्योग में मेरी पहील असल शिक्षिका। उन्होंने मुझे घंटों तक सिखाया कि फिल्म डांसिंग के लिए 'डिप' कैसे किया जाता है। मैं जिन सबसे ज्यादा केयरिंग, प्यार करने वालों और प्रेरक लोगों से मिला हूं, वह उनमें से एक थीं। आपकी याद आएगी सरोज जी। अल्लाह उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। मेरी देखभाल करने के लिए शुक्रिया।"

मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का बीती रात कार्डियक अरेस्ट से निधन हो गया। वह 71 साल की थीं।

मलाड के कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

--आईएएनएस

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शुक्रवार को कहा कि श्रीनगर शहर में अपना ठिकाना स्थापित करने से पहले ही आतंकवादी मारे जा रहे हैं।

आईजीपी (कश्मीर) विजय कुमार ने शुक्रवार को श्रीनगर शहर के मालाबाग इलाके में एक मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए सीआरपीएफ जवान को सम्मान में आयोजित पुष्पांजलि समारोह के मौके पर मीडिया से बात की।

इस दौरान कुमार ने कहा कि श्रीनगर में मुठभेड़ में पुलिस और सीआरपीएफ ने अनंतनाग जिले के एक कमांडर जाहिद दास को मार गिराया।

आईजीपी ने कहा कि वह चार अन्य आतंकवादियों के साथ पुलिस और सीआरपीएफ पर हुए हमलों में शामिल था, जिसमें बिजबेहड़ा में एक नाबालिग लड़का भी शामिल था।

उन्होंने कहा, जाहिद के दो अन्य सहयोगी हाल ही में बिजबेहड़ा में मारे गए थे और उनके समूह के दो और आतंकवादी भाग खड़े हुए और जल्द ही उन्हें भी ढेर कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हिजबुल मुजाहिदीन, जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के 12 शीर्ष कमांडर पुलिस के रडार पर हैं। इनमें हिजबुल मुजाहिदीन के पांच, जैश के चार और लश्कर के तीन आतंकी शामिल हैं।

कुमार ने कहा, हमने पहले ही उनके नामों की घोषणा कर दी है और उन्हें ट्रैक किया जा रहा है।

राजधानी श्रीनगर के बारे में माना जा रहा था कि शहर आतंकियों से मुक्त हो गया है। अब श्रीनगर में हाल ही में हुई मुठभेड़ों पर टिप्पणी करते हुए आईजीपी ने कहा, श्रीनगर कभी भी आतंक मुक्त नहीं हो सकता है, जब तक यहां आतंक व्याप्त है। आतंकी कई उद्देश्यों के लिए शहर में आते रहते हैं।

उन्होंने कहा कि वे कभी-कभी चिकित्सा उपचार के लिए आते हैं, एक-दूसरे के साथ मिलने के लिए और कभी-कभी धनराशि प्राप्त करने के लिए भी आते रहते हैं।

आईजीपी ने कहा, हमारी सक्रिय कार्रवाई हमें समय पर उन्हें ट्रैक करने में मदद करती है।

उन्होंने कहा, श्रीनगर में कोई आतंकवादी हमला नहीं हुआ है। तीनों घटनाएं पुलिस और सीआरपीएफ की सक्रिय कार्रवाई का नतीजा थीं, जहां हमें जानकारी मिली थी और फिर शहर में छिपे आतंकवादियों को ट्रैक कर मार दिया गया।

आईजीपी ने कहा, कल (गुरुवार को) एक लीड (जानकारी) मिली थी और इसके बाद संदिग्ध स्थान को खाली करा दिया गया था। आतंकवादी ने अंधाधुंध गोलीबारी की, जिसकी चपेट में एक सीआरपीएफ जवान आ गया, बाद में वह शहीद हो गया।

उन्होंने कहा कि अगर किसी जिले में कोई मुठभेड़ नहीं होती है तो इसका मतलब यह नहीं है कि यह इलाका या जिला आतंक मुक्त है। श्रीनगर में अपना आधार स्थापित करने से पहले ही आतंकवादियों को ढेर कर दिया जा रहा है।

--आईएएनएस

Page 1 of 15398

Don't Miss