अयोध्या में तय जगह पर बनेगा राम मंदिर : आरएसएस
Monday, 11 March 2019 08:27

  • Print
  • Email

ग्वालियर: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की यहां चली तीन दिवसीय अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में 'हिंदुत्व' का मुद्दा छाया रहा। सभा के अंतिम दिन रविवार को आरएसएस ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का संकल्प दोहराते हुए कहा कि मंदिर निश्चित स्थान पर ही अपने निर्धारित प्रारूप में बनेगा। संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने प्रतिनिधि सभा के बाद संवाददाताओं के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि राम मंदिर निर्माण को लेकर संघ की भूमिका निश्चित है। अयोध्या में राम मंदिर बनेगा, निश्चित स्थान पर बनेगा और निर्धारित प्रारूप में ही बनेगा। मंदिर बनने तक आंदोलन जारी रहेगा।

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मंदिर मसले पर मध्यस्थता के लिए बनाई गई समिति के सवाल पर उन्होंने कहा, "संघ ऐसे किसी भी प्रयास का स्वागत करता है। न्यायालय और सरकार से संघ की अपेक्षा है कि मंदिर निर्माण की बाधाओं को शीघ्रातिशीघ्र दूर किया जाए। साथ ही अपेक्षा है कि समिति के सदस्य हिंदू भावनाओं को समझकर आगे बढ़ेंगे। सत्ता संचालन में बैठे लोगों का राम मंदिर को लेकर विरोध नहीं है, और उनकी प्रतिबद्धता को लेकर भी कोई शंका नहीं है।"

पुलवामा हमले के बाद आतंकी शिविरों पर एयर स्ट्राइक को उन्होंने सरकार व वायुसेना का सराहनीय कदम बताया। उन्होंने कहा, "पुरुषार्थी और साहसी देश इसी भाषा में आतंकियों को जवाब देते हैं।"

धारा 370 से जुड़े सवाल पर जोशी ने कहा कि अभी 35ए को लेकर मामला न्यायालय में विचाराधीन है। अपेक्षा है कि सरकार अधिक प्रखरता के साथ न्यायालय में पक्ष रखेगी, और इस पर निर्णय आने के बाद धारा 370 पर कोई निर्णय होगा।

चुनाव में संघ की भूमिका से संबंधित प्रश्न पर भय्याजी ने कहा कि संघ की भूमिका स्पष्ट है। लोकतंत्र में मतदान के प्रति जागरूकता लाना तथा 100 प्रतिशत मतदान के लिए हम प्रयास करेंगे। पिछले वर्षो में समाज की सूझबूझ बढ़ी है, और जागृत समाज देशहित में मतदान करेगा। आज सामान्य समाज ये सोचने की स्थित में आ गया है कि देशहित में कौन काम करेगा।

प्रतिनिधि सभा में शबरीमला मंदिर प्रकरण को लेकर प्रस्ताव पारित किया गया। इसमें कहा गया है, "कुछ 'अभारतीय शक्तियां' हिंदू आस्था और परंपराओं को आहत एवं इनका अनादर करने के लिए योजनाबद्ध षड्यंत्र चला रही हैं। शबरीमला मंदिर प्रकरण इसी षड्यंत्र का नवीनतम उदाहरण है। शबरीमला मंदिर प्रकरण में सीपीएम अपने क्षुद्र राजनीतिक लाभ एवं हिंदू समाज के विरुद्ध वैचारिक युद्ध का एक अन्य मोर्चा खोला है। केरल की मार्क्‍सवादी सरकार के कार्यकलापों ने अय्यप्पा भक्तों को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया। नास्तिक, अतिवादी वामपंथी महिला कार्यकर्ताओं को पीछे के दरवाजे से मंदिर में प्रवेश करवाकर भक्तों की भावनाओं को आहत किया है।"

जोशी ने कहा कि संघ ने इस बार एक नया विषय हाथ में लिया है। संघ पर्यावरण संरक्षण के लिए देशभर में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से कार्य करेगा। इसमें जलसंवर्धन, वृक्षारोपण और प्लास्टिक, थर्मोकोल मुक्त पर्यावरण के प्रयास में समाज को साथ लेकर कार्य करेगा।

--आईएएनएस

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss