अंतरिक्ष में ऊंची छलांग : संचार उपग्रह GSAT-17 का सफल प्रक्षेपण, ISRO की एक महीने में तीसरी बड़ी लांचिंग

बेंगलुरु: फ्रेंच गुयाना के कोरू से आधी रात के बाद एरियनस्पेस रॉकेट के जरिये भारत के आधुनिक संचार उपग्रह जीसैट-17 का प्रक्षेपण किया गया. इससे पहले भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने इसकी घोषणा करते हुए कहा था, ''एरियन-पांच प्रक्षेपण यान के जरिए 29 जून को भारतीय समयानुसार तड़के दो बजकर 29 मिनट पर जीसैट-17 का प्रक्षेपण किया जाएगा.'' जीसैट-17 का भार करीब 3,477 किलोग्राम है. यह उपग्रह सामान्य सी बैड, विस्तारित सी बैंड और एस बैंड में विभिन्न संचार सेवाएं उपलब्ध कराएगा.
 

isro gsat 17


अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि यह मौसम संबंधी और उपग्रह आधारित तलाशी एवं बचाव कार्य से जुड़े आंकड़े भेजने वाले उपकरण भी लेकर गया है. इनसैट उपग्रह पहले ये सेवाएं उपलब्ध कराते थे.

श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से जीएसएलवी एमके-3 और पीएसएलवी सी-38 के बाद इसरो ने इस महीने में तीसरी बार किसी उपग्रह का प्रक्षेपण किया है.