Print this page

भारत के साथ आदान-प्रदान अमेरिका की शीर्ष प्राथमिकता
Saturday, 23 March 2013 18:38

अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारत के साथ साझेदारी करने में वाशिंगटन की शीर्ष प्राथमिकताओं में से एक प्राथमिकता राज्य स्तर पर और स्थानीय स्तर पर आदान-प्रदान बढ़ाना है।

दक्षिण एशियाई मामलों के सहायक विदेश मंत्री रॉबर्ट ब्लेक ने युनिवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया के बर्कले इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज में गुरुवार को एक सम्बोधन में कहा कि भारत-अमेरिका का विस्तारित कारोबारी रिश्ता पहले से ही अमेरिकी लोगों को काफी लाभ पहुंचा रहा है।

ब्लेक ने कहा कि भारत, अमेरिका में सबसे तेजी के साथ पांव पसार रहे निवेशकों में से भी है। उन्होंने कहा, "अमेरिका में काम कर रहीं भारतीय कम्पनियां स्थानीय अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व योगदान कर रही हैं। इसका सर्वाधिक ठोस असर राज्य और राष्ट्र स्तर पर महसूस किया जा रहा है।"

ब्लेक ने कहा, "यही कारण है कि भारत के साथ साझेदारी निर्माण में हमारी शीर्ष प्राथमिकताओं में से एक प्राथमिकता राज्य और स्थानीय स्तर पर आदान-प्रदान बढ़ाने को लेकर है।" उन्होंने कहा कि इस वर्ष कम से कम आठ अमेरिकी गवर्नरों और शहर के मेयरों ने कारोबारी एवं निवेशक शिष्टमंडलों के साथ भारत दौरे की योजना बनाई है।

ब्लेक ने कहा, "हमारे अधिकारी व्यापक तौर पर समझते हैं कि अमेरिकी निर्यात के लिए सबसे तेजी के साथ विकसित हो रहे बाजार के रूप में भारत अमेरिकी रोजगार वृद्धि को गति देने और अमेरिकी श्रमशक्ति के लिए आर्थिक अवसर मुहैया कराने में महत्वपूर्ण अवसर प्रदान कर रहा है।"

ब्लेक ने कहा कि भारत-अमेरिका साझेदारी ने काफी कुछ हासिल किया है, लेकिन अगली पीढ़ी के विद्यार्थियों, शिक्षकों, कारोबारियों, और कलाकारों को नई सहकारिता स्थापित करने की भी अधिक सम्भावनाएं इसमें मौजूद हैं।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।