Kisan Andolan : अमित शाह का प्रस्ताव खारिज, बुराड़ी गए किसान भी वापस सिंघु बॉर्डर लौटेंगे
Sunday, 29 November 2020 14:05

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: पंजाब, हरियाणा और राजस्थान से आए हजारों किसान रविवार को भी सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर जबरदस्त प्रदर्शन कर रहे हैं। वह यहां से टस से मस होने के लिए तैयार नहीं हैं। वहीं, रविवार को किसानों ने एक बैठक के पाद किसान संगठनों ने  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के उस प्रस्ताव भी ठुकरा दिया है, जिसमें उन्होंने बुराड़ी में मुहैया कराई गई जगह पर सभी किसानों के इकट्ठा होने के बाद बातचीत शुरू करने की बात कही थी। गौरतलब है कि शनिवार शाम को केंद्रीय कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के साथ सरकार की ओर से तत्काल बातचीत के लिए तैयार रहने का इशारा किया था।

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों से धरने के लिए निर्धारित बुराड़ी स्थित संत निरंकारी मैदान में पहुंचने की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि निर्धारित स्थल पर पहुंचने के अगले ही दिन वार्ता होगी वहीं, किसानों ने अमित शाह की इस शर्त को ठुकरा दिया है। सूत्रों के मुताबिक, टीकरी बॉर्डर पर जमा किसान संगठन प्रमुख किसान यूनियन-एकता उगराहा के प्रधान जोगिंदर सिंह से अमित शाह ने बात की थी, वह बुराड़ी में प्रदर्शन करें, लेकिन उन्होंने यह मांग भी ठुकरा दी है।

वहीं, उत्तर प्रदेश के किसान यूपी गेट पर जमा हैं। रविवार दोपहर यूपी के किसानों ने दिल्ली पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड तोड़ डाले, हालांकि भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के कहने पर मामला शांत है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने  उत्तर प्रदेश के किसानों को रोकने के लिए 2 लेयर में बैरिकेड लगाए हैं। अगर एक टूटा तो दूसरे पर हर हाल में किसानों को रोकने का इंतजाम है। 

इस बीच भाकियू के हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने अहम बयान में कहा है कि किसान अब दिल्ली नहीं जाएंगे।  गुरनाम सिंह ने कहा कि बुराड़ी जाने का कोई इरादा नहीं है। सरकार ने पहले डंडे मारे फिर पानी की बौछारें और आंसू गैस छोड़े। अम्बाला से लेकर यहां तक हम पर 30-32 केस दर्ज किए जा चुके हैं। हत्या का केस तक हम पर दर्ज किया गया है। हमें डर है कि जाट आरक्षण की तरह अब कुछ असामाजिक तत्व हमारे बीच न घुस जाएं और कोई अनहोनी न कर दें। इसलिए हम सतर्क हैं। 

गुरनाम सिंह ने कहा कि अब हरियाणा का किसान भी हमारा साथ देने के लिए चल पड़ा है। अमित शाह अगर बुराड़ी आकर बात करना चाहते हैं तो हम नहीं मानेंगे। सरकार ने अब देर कर दी है। संयुक्त मोर्चा के बैनर तले आंदोलन चल रहा है। गुरनाम ने मांग की है कि तीनों कानून रद होंने चाहिए। बिजली बिल, एमएसपी गारंटी कानून लाया जाए, ये भी हमारी मांग है।

वहीं, खबर आ रही है कि 1 दिसंबर को 1 बजे क‍िसानों संगठनों की केंद्रीय गृह मंत्री अम‍ित शाह के साथ बैठक हो सकती है। इस बैठक के लिए क‍िसान नेताओं ने अम‍ित शाह, राजनाथ सिंंह व कृष‍ि मंत्री नरेंद्र तोमर से मुलाकात की थी। यह बैठक कहां पर होगी? यह अभी तय नहीं हुआ है। 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss