Print this page

भारत में दिवाली के बाद कोविड के नए मामलों में 30 प्रतिशत वृद्धि
Wednesday, 18 November 2020 14:58

नई दिल्ली: दिवाली और भाई दूज समारोह के समाप्त होने के बाद भारत में कोविड-19 के नए मामलों में 30 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखी गई। बीते 24 घंटों में कोविड के 38,617 नए मामले सामने आए हैं, जिनके साथ बुधवार को देश में संक्रमण के कुल 89,12,907 मामले हो गए। यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों से मिली। वहीं इसी अवधि में और 474 मौतों के साथ मृत्यु संख्या बढ़कर 1,30,993 हो गई। देश में सक्रिय मामलों की संख्या 4,46,805 है।

इससे अब तक 83,35,109 लोग उबर चुके हैं।

वहीं मंगलवार को यानी बीते दिन भारत में 29,164 नए कोविड-19 मामले और 449 मौतें दर्ज की गई थी। बुधवार को नए आंकड़ों में लगभग 32 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है।

हालांकि, वृद्धि का कारण टेस्टिंग में हुई वृद्धि भी हो सकती है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के आंकड़ों से पता चला है कि लंबे सप्ताहांत के बाद मंगलवार को कुल 9,37,279 नमूनों का परीक्षण किया गया।

दिल्ली-एनसीआर में कोविड-19 की स्थिति खराब है। नई वृद्धि ने स्वास्थ्य सेवा प्रणाली से राहत की सांस छीन ली है। सरकारी और निजी अस्पतालों में वेंटिलेटर के साथ 10 प्रतिशत आईसीयू बेड हैं, जिसे गंभीर मरीजों के लिए रखा गया है।

गंभीर रोगियों के अलावा मध्यम लक्षणों वाले रोगियों को अस्पतालों में प्रवेश से पहले घंटों इंतजार करना पड़ता है। इसके अलावा, गैर-कोविड मरीजों को राजधानी के अस्पताल में बिस्तर के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही है।

इस स्थिति ने दिल्ली सरकार को उन प्रतिबंधों पर फिर से विचार करने के लिए मजबूर कर दिया है, जो उन्होंने बीते महीनों में हटा दिए थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल और केंद्र को एक प्रस्ताव भेजा है, जिसमें शादियों में सिर्फ 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति देने और बाजार क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाने पर विचार करने के लिए कहा गया है। यह स्थल हॉटस्पॉट के रूप में उभर सकते हैं।

इसके अलावा गौतमबुद्धनगर के जिला प्रशासन ने बुधवार से दिल्ली से नोएडा जाने वाले यात्रियों का रैंडम कोविड टेस्ट कराने का फैसला किया है। यह निर्णय राजधानी में कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि को देखते हुए लिया गया है।

जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, वैश्विक स्तर पर कोरोनावायरस मामलों की कुल संख्या 5.55 करोड़ से अधिक हो गई है और वायरस से 13,36,892 लोगों की मौत हुई है।

--आईएएनएस

एमएनएस-एसकेपी