पतंजलि कोरोनिल दवा से कोरोना के इलाज के दावे से पलटा
Monday, 29 June 2020 15:13

  • Print
  • Email

हरिद्वार: पतंजलि योगपीठ की दिव्य फार्मेसी अपने पूर्व में किए गए कोरोना की दवा ईजाद करने के दावों से पलट गया। उत्तराखंड आयुष विभाग की ओर से जारी नोटिस के जवाब में सोमवार पतंजलि ने ऐसी कोई दवा न बनाने की बात कही है। बता दें कि पिछले मंगलवार को कोरोनल की लॉन्चिंग के दौरान योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने कोरोनिल, श्वसारि बटी और अनु तेल से कोरोना के उपचार का दावा किया था। इस पर 24 जून को उत्तराखंड आयुष विभाग ने पतंजलि को नोटिस जारी किया था।

बता दें कि पतंजलि की दिव्य फार्मेसी ने मंगलवार 23 मार्च को कोरोना की दवा ईजाद करने का दावा किया था। मामला सुर्खियों में आया तो केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने इसका संज्ञान लिया। मंत्रालय ने दिव्य फार्मेसी को नोटिस भेजकर तत्काल दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दी। 24 जून को उत्तराखंड आयुष विभाग ने भी दिव्य फार्मेसी को नोटिस भेजकर दवा के प्रचार प्रसार पर रोक लगा दी। साथ ही सात दिनों के भीतर नोटिस का जवाब देने को कहा था। 

 

पतंजलि योगपीठ की दिव्य फार्मेसी की दवा ‘कोरोनिल’ को लेकर उठे विवाद के बीच फिलहाल ‘आर्डर मी’ एप की लांचिंग भी स्थगित कर दी गई है। पहले पतंजलि की ओर से एलान किया गया था कि एप की लांचिंग सोमवार को की जाएगी। इस एप के जरिये कोई भी ग्राहक देश में कहीं से भी दवा के लिए आर्डर बुक कर सकता है। तीन दिन के भीतर दवा की डिलीवरी कर दी जाएगी। पतंजलि योगपीठ के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने बताया कि अभी एप का ट्रायल किया जा रहा है। ट्रायल पूरा होने पर एप की विधिवत लांचिंग की जाएगी।

पिछले सप्ताह मंगलवार को पतंजलि ने कोरोना की दवा बनाने का दावा किया था। मामला सुर्खियों में आया तो केंद्रीय आयुष मंत्रलय ने पतंजलि को नोटिस भेजकर दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दी। 23 जून को ही बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने घोषणा की थी 29 जून को ‘आर्डर मी’ एप लांच किया जाएगा। इस एप की मदद से देश के किसी भी भाग से दवा का आर्डर बुक किया जा सकेगा। रविवार को पतंजलि के प्रवक्ता ने एप की लांचिंग को लेकर स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि ट्रायल पूरा होने के बाद ही एप की विधिवत लांचिंग की जाएगी। हालांकि, इसकी अगली तिथि को लेकर उन्होंने कुछ नहीं कहा। गरीबों को मुफ्त में दवा बांटने संबंधी सवाल पर पतंजलि के प्रवक्ता तिजारावाला ने बताया कि पतंजलि की ऐसी भावना है कि जो दवा खरीदने में सक्षम नहीं हैं उन्हें निश्शुल्क दवा मुहैया कराई जाए।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss