महिलाओं की स्थिति 18वीं सदी से भी बदतर : मोदी
Monday, 08 April 2013 13:11

  • Print
  • Email

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि समाज में अन्य क्षेत्रों में हुई प्रगति के बावजूद देश में महिलाओं की स्थिति 18वीं शताब्दी से भी बदतर है।

मोदी ने फिक्की महिला संगठन (एफएलओ) की वार्षिक आम बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा, "हमारी संस्कृति में मां सर्वोच्च स्थान पर है, लेकिन हमारे समाज में बहुत सी बुरी चीजें आ गई हैं। 18वीं शताब्दी में बालिका भ्रूण हत्या की शुरुआत हुई थी।"

मोदी ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद ऐसा लगता था कि देश आधुनिक भारत बनने की दिशा में आगे बढ़ेगा। ऐसा लगा था कि "हम दुनिया को दिखाएंगे कि एक महिला का स्थान क्या है। लेकिन ऐसा लगता है कि हमने जैसे-जैसे प्रगति की, वैसे-वैसे हमारे देश में गिरावट आई।"

उन्होंने कहा, "कभी-कभी मुझे लगता है कि हमारी स्थिति 18वीं सदी से भी बदतर हो गई है। 21वीं सदी में बालिकाओं की गर्भ में ही हत्या कर दी जा रही है। पुरुष व महिला दोनों इसके लिए जिम्मेदार हैं।" मोदी ने कहा कि यह समस्या गुजरात में भी मौजूद है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss