अन्ना की अगुवाई में जनतंत्र यात्रा भिवानी पहुंची
Monday, 08 April 2013 11:32

  • Print
  • Email

समाजसेवी अन्ना हजारे की अगुआई में चल रहे जनतंत्र यात्रा का पड़ाव रविवार को हरियाणा के नत्थू सराय, भाटू कलां, आदमपुर, बालसमांड, हिसार और तोसहम होते हुए भिवानी पहुंचा। अन्ना हजारे के साथ इस जनतंत्र यात्रा में पूर्व सैन्य प्रमुख जनरल वीके सिंह, वल्र्ड सूफी काउंसिल के चेयरमैन मौलाना सूफी जिलानी कत्ताल और चौथी दुनिया के प्रधान संपादक संतोष भारतीय समेत हजारों लोग शामिल है।

अन्ना हजारे ने जनतंत्र यात्रा के दौरान हिसार और भिवानी में विशाल जनसभा को भी संबोधित करते हुए कहा कि उनकी इस यात्रा का मकसद देश के लोगों को जागरूक करना है। अन्ना हजारे के अनुसार, देश में किसानों, मजदूरों, छात्रों और नौजवानों के साथ नाइंसाफी हो रही है।

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार की वजह से आम जनता का जीना दुश्वार हो गया है, लेकिन केंद्र सरकार इस समस्या को खत्म करने की बजाय उसमें खाद-पानी देने का काम कर रही है। यही वजह है कि केंद्र सरकार सशक्त जन लोकपाल विधेयक पारित करने की बजाय उसे ठंडे बस्ते में रखना चाहती है।

अन्ना के अनुसार, देश की जनता को अब आजादी की दूसरी लड़ाई लड़नी होगी, क्योंकि गोरे अंग्रेज तो चले गए, लेकिन ये स्वदेशी अंग्रेज (मौजूदा राजनेता) भारत को दीमक की तरह चाट रहे हैं। इसलिए देश की जनता खासकर युवाओं को अपनी जि़म्मेदारी का एहसास करना चाहिए, ताकि भ्रष्टाचार मुक्त भारत का जो सपना गांधी जी ने देखा था वह पूरा हो सके।

वहीं दूसरी ओर जनतंत्र यात्रा में शामिल पूर्व सेना अध्यक्ष जनरल वीके सिंह ने भिवानी में आयोजित सार्वजनिक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार और महंगाई केंद्र सरकार की गलत नीतियों की देन है और सरकार इसे नियंत्रित इसलिए नहीं करती है, क्योंकि इससे मुनाफाखोरों, भ्रष्ट राजनेताओं एवं कारोबारियों को फायदा होता है।

जनरल सिंह के मुताबिक, बांग्लादेश, नेपाल और पाकिस्तान में चीनी और पेट्रोल-डीजल की कीमतें भारत के मुकाबले सस्ती हैं। आखिर ऐसा क्यों हो रहा है? इसके लिए उन्होंने सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

जनसभा को संबोधित करते हुए वल्र्ड सूफी काउंसिल के चेयरमैन मौलाना सूफी जिलानी कत्ताल ने कहा कि यह मुल्क मेहनतकश किसानों और मजदूरों का है, लेकिन गुरबत के शिकार यही दो वर्ग हैं। मौलाना जिलानी के अनुसार, अन्ना हजारे मुल्क के आम अवाम की लड़ाई लड़ रहे हैं, इसलिए लोगों को चाहिए कि वे अन्ना के साथ मिलकर इस तहरीक को कामयाब बनाएं। उल्लेखनीय है कि समाजसेवी अन्ना हजारे की अगुआई में चल रही इस जनतंत्र यात्रा में लोगों की काफी भीड़ देखी जा रही है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss