स्वच्छ शहरों में इंदौर ने फिर बाजी मारी, राजकोट दूसरे स्थान पर
Wednesday, 01 January 2020 10:58

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: स्वच्छता के मामले में इंदौर ने एक बार फिर बाजी मार ली है। मंगलवार को यहां केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने इंदौर को लगातार चौथी बार देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित किया। इंदौर के बाद दूसरे स्थान पर गुजरात का राजकोट और तीसरा सबसे स्वच्छ शहर नवी मुंबई है। शहरी विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप पुरी ने हर तीन महीने पर जारी होने वाली स्वच्छ सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल पिछली तिमाही में दूसरा सबसे स्वच्छ शहर था, लेकिन इस बार तीन पायदान नीचे खिसक कर पांचवें स्थान पर पहुंच गया है। पिछली तिमाही में पांचवें स्थान पर रहा गुजरात का राजकोट इस बार दूसरा सबसे स्वच्छ शहर बन गया है। गुजरात का ही वड़ोदरा शहर भी साफ-सफाई के मामले में भोपाल से एक पायदान ऊपर चौथे स्थान पर है। ये सभी ऐसे शहर हैं, जहा की जनसंख्या 10 लाख से अधिक है।

पुरी के मुताबिक, 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में स्वच्छता के मामले में छठे स्थान पर अहमदाबाद, सातवें पर नासिक, आठवें पर बृहन्मुंबई, 9वें स्थान पर इलाहाबाद और 10वें पर लखनऊ है।

पुरी ने कहा, "एक लाख से 10 लाख तक की आबादी वाले शहरों में झारखंड के जमशेदपुर को सबसे स्वच्छ शहर चुना गया है। महाराष्ट्र का चंद्रपुर इस श्रेणी में दूसरा सबसे स्वच्छ शहर है। मध्यप्रदेश के खरगौन को तीसरा व उत्तर प्रदेश के लोनी को चौथा स्थान मिला है। पांचवे स्थान पर छत्तीसगढ़ का अंबिकापुर है।"

वहीं 10 लाख से कम आबादी वाले शहरों की श्रेणी में दिल्ली का एनडीएमसी क्षेत्र छठां सबसे स्वच्छ इलाका है।

पुरी ने कहा कि जिन शहरों की आबादी 25 हजार से एक लाख के बीच है, उन्हें पांच अलग-अलग जोन में बांटा गया है। ये उत्तर, दक्षिण, उत्तर पूर्व, दक्षिण व पश्चिमी जोन हैं।

उत्तरी जोन में एक लाख तक की आबादी वाले शहरों में उत्तर प्रदेश का गजरौला पहले स्थान पर, पंजाब का रूपनगर दूसरे और पंजाब का ही राजपुरा तीसरे स्थान पर है।

पूर्वी जोन में 50 हजार से एक लाख तक की आबादी वाले शहरों में छत्तीसगढ़ का भिलाई चरोदा पहले स्थान पर रहा है। यहां दूसरा और तीसरा स्थान भी छत्तीसगढ़ को ही मिला है। दूसरे स्थान पर चिरमिरी और तीसरे पर बिरगांव है।

उत्तर पूर्व जोन में एक लाख तक की आबादी वाले शहरों में पहला स्थान नागालैंड के कोहिमा को, दूसरा असम के तेजपुर और तीसरा स्थान भी असम के बोनगै गांव को मिला है।

दक्षिण जोन में एक लाख तक की आबादी वाले शहरों में पहला स्थान आंध्र प्रदेश के चिराला को, दूसरा कर्नाटक के करवार और तीसरा स्थान तमिलनाडु के नमक्कल को मिला है।

पश्चिमी जोन में स्वच्छता के लिए तीनों छोटे शहर महाराष्ट्र से हैं। पहला स्थान तेलेगांव दभाड़े, दूसरा स्थान संगमनेर व तीसरा स्थान बल्लारपुर को मिला है।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.