निर्वाचन आयोग ने दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर की बैठक
Friday, 27 December 2019 09:17

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा, निर्वाचन आयुक्त अशोक लवासा और सुशील चंद्र ने गुरुवार को निर्वाचन भवन में दिल्ली विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की, जिसमें सभी जिला निर्वाचन अधिकारी व पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

बैठक में सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों, पुलिस उपायुक्त, संयुक्त पुलिस आयुक्त, नई दिल्ली नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष, दिल्ली छावनी बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सहित विभिन्न संबंधित विभागों के नोडल अधिकारी उपस्थित थे।

निर्वाचन आयोग ने दिल्ली के मुख्य सचिव विजय देव और दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक के साथ भी अलग से बैठक की।

भारत के निर्वाचन आयोग में बुलाई गई बैठक में मौजूद अधिकारियों को संबोधित करते हुए अरोड़ा ने कहा, "भारतीय संविधान के अनुच्छेद 324 के तहत निर्वाचन आयोग पर स्वतंत्र, निष्पक्ष और विश्वसनीय ढंग से दिल्ली विधानसभा चुनाव करवाने का दायित्व आया है। इसे हमें बखूबी और शांतिपूर्ण ढंग से अंजाम दिलवाना है।"

लवासा ने निर्वाचन अधिकारियों को 'सी-विजिल एप' से मिलने वाली शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई करने और ईवीएम/वीवीपैट प्रशिक्षण पर पूरा ध्यान देने का निर्देश दिया।

बैठक में मौजूद दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रणवीर सिंह ने चुनाव की तैयारियों की मुख्य बातों को लेकर एक प्रजेंटेशन दिया। उन्होंने मतदाता सूची, मानव संसाधन व ईवीएम/वीवीपैट की उपलब्धता और सभी मतदान अधिकारियों के प्रशिक्षण सहित स्वीप गतिविधियों के बारे में भी बताया।

गौरतलब है कि कम मतदान वाले विधानसभा क्षेत्रों में मतदान प्रतिशत को बढ़ाने के लिए 'स्वीप' के तहत गतिविधियां चलाई जा रही हैं। चुनाव समीक्षा बैठक में डॉ. रणवीर सिंह ने निर्वाचन आयोग को दिव्यांगों और वरिष्ठ नागरिकों का मतदान सुनिश्चित करने के लिए उन्हें मतदान स्थल तक लाने और फिर उन्हें उनके गंतव्य तक छोड़कर आने की सुविधा पर भी प्रकाश डाला।

उन्होंने आयोग को सभी मतदान केंद्रों में उपलब्ध करवाए जाने वाली सुविधाओं- जैसे क्रैच (शिशु की देखभाल के लिए) की सुविधा। दिव्यांग-जनों के लिए रैंप की सुविधा। पेयजल की उपलब्धता, मोबाइल लॉकर, सेल्फी प्वॉइंट, मतदाताओं के लिए वेटिंग एरिया (प्रतीक्षालय) और व्हील चेयर मुहैया करवाने के बारे में जानकारी दी।

बैठक में मौजूद दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त और नोडल अधिकारी प्रवीर रंजन ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की सामान्य स्थिति और निर्वाचन आयोग के निर्धारित मानदंडों के अनुरूप सभी उपायों को क्रियान्वित करने की दिल्ली पुलिस की कार्य-योजना के बाबत योजना प्रस्तुत की।

आयोग ने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों और जिला पुलिस उपायुक्तों को किसी भी प्रकार की गड़बड़ी को रोकने के लिए तत्काल संवेदनशील क्षेत्रों का आकलन करने का निर्देश दिया। आयोग ने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को एएमएफ मानकों के अनुरूप दिव्यांगजनों के लिए रैम्प की सुविधा और छह से अधिक मतदान केंद्रों में मोबाइल टॉयलेट (सचल शौचालय) की पर्याप्त सुविधा उपलब्ध करवाने का भी निर्देश दिया।

निर्वाचन आयोग ने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को स्थानीय निकायों के साथ पूर्ण समन्वय करने का निर्देश दिया, जिससे ध्यान में आई कोई भी कमी को तुरंत दूर किया जा सके। आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारियों को अपनी व्यक्तिगत निगरानी में ईवीएम व वीवीपैट के प्रशिक्षण देने की जरूरत को रेखांकित किया।

आयोग ने एमसीसी/व्यय निगरानी दलों को सी विजिल ऐप का उचित प्रशिक्षण देने की बात पर जोर देते हुए कहा कि इससे ही किसी नागरिक के सी विजिल ऐप पर दर्ज किसी शिकायत पर तत्काल प्रभावी कार्रवाई निश्चित होगी। आयोग ने सभी जिला चुनाव अधिकारियों को सही समय पर फोटो मतदाता पर्ची के वितरण को भी सुनिश्चित करने की बात पर बल दिया।

आयोग ने दिल्ली परिवहन विभाग को संकरी गलियों में पोलिंग पार्टियों और मशीनों को सुगमता से पहुंचाने के लिए पर्याप्त संख्या में छोटे वाहनों को उपलब्ध करवाने का आदेश दिया। मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों और जिला पुलिस उपायुक्तों सहित सभी दूसरे विभागों को अब चुनाव कार्य को सर्वाधिक वरीयता देने को कहा, ताकि सफल और शांतिपूर्ण चुनाव का आयोजन हो सके।

निर्वाचन आयोग ने दिल्ली के मुख्य सचिव, प्रधान सचिव (गृह) और दिल्ली पुलिस आयुक्त के साथ बैठक में चुनाव के सुचारु और शांतिपूर्ण संचालन के लिए उनसे दिल्ली सरकार के सभी सरकारी विभागों के संपूर्ण पर्यवेक्षण और आपसी समन्वयन की बात कही।

आयोग ने दिल्ली की जिलास्तरीय चुनावी तैयारियों की भी समीक्षा की। सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों ने अपने-अपने जिलों पुलिस उपायुक्तों के साथ जिले की चुनाव तैयारियों की जानकारी दी।

जिला निर्वाचन अधिकारियों ने निर्वाचन आयोग को मतदाता सूची को अंतिम रूप देने, मानव संसाधन की जरूरत, चुनावी प्रशिक्षण और स्वीप गतिविधियों के बारे में प्रारंभिक स्तर पर किए गए कार्यो की जानकारी दी। दिल्ली पुलिस के जिलों उपायुक्तों ने निर्वाचन आयोग को अपने जिलों की कानून व्यवस्था के बारे में सूचित किया।

इस अवसर पर निर्वाचन आयोग ने दिल्ली में हुए लोकसभा चुनाव-2019 से संबंधित एक कॉफी टेबल बुक (सैल्यूटिंग द वोटर्स ऑफ दिल्ली) का भी विमोचन किया।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss