राहुल गांधी ने विश्वसनीयता खोई : सीतारमण
Monday, 22 April 2019 18:23

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: रक्षामंत्री एवं भाजपा नेता निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है।

राफेल मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष ने सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर की गई अपनी टिप्पणी पर खेद जताया है, जिसके बाद सीतारमण ने उन पर निशाना साधा।

सर्वोच्च न्यायालय ने 'चौकीदार चोर है' बयान को उससे जोड़ने पर कांग्रेस अध्यक्ष से जवाब मांगा था। सोमवार को राहुल गांधी ने अपने जवाब में माना कि अदालत ने ऐसा कभी नहीं कहा।

एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सीतारमण ने कहा कि संबंध बेहतर करने के लिए कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम द्वारा पाकिस्तान के प्रति भारत के व्यवहार को बदलने के आग्रह से पता चलता है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को कांग्रेस गंभीरता से नहीं लेती।

गांधी पर हमला बोलते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि 'राजनीतिक सुविधा' और 'अदालत की अवमानना' से बचने के लिए ही उन्होंने खेद व्यक्त किया।

सीतारमण ने कहा, "अदालत के प्रकोप से बचने के लिए उन्होंने खेद प्रकट किया है। मैं निश्चित रूप से कहूंगी कि यह विश्वसनीयता का मामला है जो तब बुरी तरह से प्रभावित होती है, जब सार्वजनिक जीवन में लोग ऐसी परिस्थिति में पहुंच जाते हैं जहां उन्हें असत्य के आधार पर कही गई अपनी बात पर बाद में खेद जताना पड़ता है। राहुल गांधी की विश्वसनीयता पर विपरीत असर पड़ा है। वह लगातार झूठ बोल रहे हैं। यह दुख की बात है।"

सीतारमण ने कहा कि उन्हें 'अफसोस होता है कि कांग्रेस झूठ पर निर्भर है।'

उन्होंने कांग्रेस से यह स्पष्ट करने को कहा कि पाकिस्तान के संबंध में सरकार से वह कौन सा व्यवहार परिवर्तन चाहती है।

सीतारमण ने पूछा कि क्या वे चाहते हैं कि हम आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करना बंद कर दें? क्या वे चाहते हैं कि हम अपने क्षेत्र को लेकर समझौता करें? क्या वे चाहते हैं कि भारत सरकार यह कहे कि जम्मू एवं कश्मीर एक विवादित क्षेत्र है?

उन्होंने कहा कि यह 'आश्चर्यजनक' है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदंबरम व्यवहार परिवर्तन चाहते थे।

उन्होंने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि चुनाव के दौरान भी कांग्रेस की ओर से ऐसे बयान आते हैं।

--आईएएनएस

 

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss