बनने से पहले ही रिलायंस के जियो इंस्टिट्यूट को प्रतिष्ठित शैक्षिक संस्थान का दर्जा
Tuesday, 10 July 2018 09:59

  • Print
  • Email

केंद्र सरकार ने तीन सार्वजनिक और तीन प्राइवेट विश्वविद्यालयों को इंस्टीट्यूशन्स ऑफ इमिनेंस का दर्जा दिया।इन विश्वविद्यालय को वैश्विक स्तर की गुणवत्ता हासिल करने के लिए विशेष रूप से फंडिंग के साथ स्वायत्तता हासिल होगी।इस सूची में दो आइआइटी के साथ रिलायंस फाउंडेशन का जियो इंस्टीट्यूट भी है, जो कि अभी लांच भी नहीं हुआ है। इसको लेकर कांग्रेस ने सरकार पर सवाल उठाए हैं। इन विश्वविद्यालय का चुनाव विश्वविद्यालय अनुदान आयोग(यूजीसी) ने किया है।

जैसे ही केंद्र सरकार के इस फैसले की मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने जानकारी दी तो जियो ट्विटर पर ट्रेंड होने लगा। तमाम लोगों ने मंत्री जावड़ेकर को टैग कर पूछना शुरू किया कि जियो इंस्टीट्यूट आखिर हैं किस जगह पर। जियो के साथ सूची में जगह बनाने वाले अन्य संस्थानों में बिट्स पिलानी, मनीपाल एकेडमी ऑफ हायर एजूकेशन, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरु और आइआइटी मुंबई तथा दिल्ली शामिल हैं।

इस मसले पर कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा- बीजेपी सरकार ने मुकेश और नीता अंबानी को फिर पक्ष लिया है।जिस जियो इंस्टीट्यूट का अभी निर्माण होना है, उसे इमिनेंट इंस्टीट्यूट का दर्जा दे दिया गया। सरकार को बताना होगा कि किस आधार पर इस विश्वविद्यालय का ग्रांट के लिए वर्गीकरण किया गया।

उधर, यूजीसी ने कहा कि जियो इंस्टीट्यूट का चयन ग्रीनफील्ड इंस्टीट्यूशन्स के नियमों के तहत किया गया।एक अधिकारी के मुताबिक कुल 11 संस्थानों ने इस कटेगरी के लिए आवेदन किया था था, जिसमें से जियो को चुना गया। सोमवार को कई ट्वीट कर मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इंस्टीट्यूट्स ऑफ इमिनेंस के बारे में जानकारी दी थी। जावड़ेकर ने ट्वीट कर कहा था-इमिनेंस इंस्टीट्यूट्स देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। देश में आठ सौ विश्वविद्यालय हैं, मगर विश्व की शीर्ष सौ या दो सौ विश्वविद्यालयों में एक भी भारतीय विश्वविद्यालय नहीं है। आज का फैसला इस उपलब्धि को हासिल करने में मदद करेगा।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss