Print this page

हरियाणा उपचुनाव : भूपेंद्र हुड्डा के लिए बहुत कुछ दांव पर
Tuesday, 10 November 2020 14:07

नई दिल्ली: हरियाणा उपचुनाव में मंगलवार को बरोदा विधानसभा सीट पर जारी मतगणना में कांग्रेस आगे चल रही है। यह सीट महत्वपूर्ण है क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की छवि दांव पर है। भूपिंदर सिंह हुड्डा ने उपचुनावों में अपनी सारी राजनीतिक ताकत इस सीट पर बरकरार रखने के लिए लगाई क्योंकि पार्टी उम्मीदवार उन्होंने चुना था।

कांग्रेस के मौजूदा विधायक के निधन के बाद उपचुनाव कराना जरूरी हो गया था। 2019 के हरियाणा विधानसभा चुनावों में, श्री कृष्ण ने भाजपा के योगेश्वर दत्त को 4,840 मतों से हराया था।

पूर्व मुख्यमंत्री हरियाणा में पार्टी के मामलों को देख रहे हैं और सीट पर जीत उनके लिए महत्वपूर्ण है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि पार्टी में उनका कद बरकरार है। उन्होंने इससे पहले राज्य अध्यक्ष कुमारी सैलजा को नजरअंदाज करते हुए अपने बेटे दीपेंद्र एस. हुड्डा को राज्यसभा के लिए नामित करने के लिए कांग्रेस बनाई थी, जिनका संसद के ऊपरी सदन में कार्यकाल उस समय समाप्त हो रहा था।

हालांकि, अक्टूबर 2019 में पार्टी छोड़ने वाले पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने आरोप लगाया कि चुनावी मैदान में उतरीं सभी पार्टियां 'जनता को धोखा' दे रही हैं।

यह सीट मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के लिए भी एक प्रतिष्ठा का मुद्दा है। भाजपा इस बार गठबंधन सहयोगी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के समर्थन से अपनी किस्मत आजमा रही है।

इससे पहले, खट्टर ने कहा कि वह जेजेपी समर्थन के साथ सीट जीतने के लिए आश्वस्त हैं।

भाजपा ने 2019 में 90 में से 40 विधानसभा सीटें जीती थीं और जेजेपी के समर्थन से सरकार बनाई थी, जिसने 10 सीटें जीती थीं। कांग्रेस ने 31 सीटें जीती थीं।

--आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी