गुरुग्राम में एनडीपीएस छापे दौरान उपस्थित रहने के लिए 17 अधिकारी सूचीबद्ध
Saturday, 19 September 2020 14:13

  • Print
  • Email

गुरुग्राम: गुरुग्राम जिला मजिस्ट्रेट ने एनडीपीएस मामलों में छापे या अपराधियों की गिरफ्तारी के दौरान राजपत्रित अधिकारी / ड्यूटी मजिस्ट्रेट की अनिवार्य उपस्थिति के लिए निर्देशित किया है, जिसके संबंध में 17 अधिकारियों की सूची जारी की गई है। डीएम ब्रह्म प्रकाश ने हाल ही में गुरुग्राम में नारकोटिक ड्रग्स और साइकोट्रॉपिक सबस्टेंस (एनडीपीएस) मामलों के संबंध में संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता की और आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए।

बैठक के दौरान जिले में 17 राजपत्रित अधिकारियों / ड्यूटी मजिस्ट्रेट के नाम सूचीबद्ध किए गए थे जो एनडीपीएस छापे के दौरान पुलिस को समर्थन देंगे।

जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि अधिकारी एनडीपीएस अधिनियम के तहत छापेमारी को गंभीरता से लें और जब भी आवश्यकता हो समय पर उपलब्ध हों।

अधिकारी ने कहा, "ज्यादातर एनडीपीएस मामलों में, सबूतों की कमी के कारण कोर्ट द्वारा दोषियों को बरी कर दिया जाता है। अब, ड्यूटी मजिस्ट्रेट की उपस्थिति छापे की प्रक्रिया को पारदर्शी बनाएगी। उनकी मौजूदगी में संदिग्धों की तलाश की जाएगी या उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा। साथ ही, चयनित अधिकारियों की एक सूची गुरुग्राम पुलिस की डीसीपी (मुख्यालय) नितिका गहलौत को दी गई है।"

उन्होंने कहा कि जिले को नशा मुक्त बनाने के लिए सभी अधिकारियों की भागीदारी आवश्यक है।

एसीपी(अपराध) प्रीत पाल सांगवान ने कहा, "ड्रग्स की लत मानसिक स्वास्थ्य, समाज और परिवार को प्रभावित करती है। ड्रग्स और नशीले पदार्थों के प्रभाव में सड़कों पर ड्राइविंग दुर्घटनाओं का कारण बन सकती है। कम उम्र में नशा करना भी जीवन में कठिनाइयों का कारण बन सकता है और परिवार में अशांति का कारण बन सकता है।"

--आईएएनएस

एमएनएस/जेएनस

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss