पीएम नरेंद्र मोदी की फैन हुईं प्रिटी जिंटा
Monday, 01 May 2017 08:48

  • Print
  • Email

बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रीति जिंटा ने प्रधानमंत्री द्वारा कई तरह के कदम उठाने के लिए उनकी सराहना की है। एक्ट्रेस का कहना है कि प्रधानमंत्री ने वीआईपी कल्चर को खत्म कर दिया है और उनकी इच्छा आम इंसानों के जीवन को बेहतर बनाने की है। बुधवार 19 अप्रैल को जारी आदेश में सभी अधिकारियों से लाल बत्ती के इस्तेमाल पर 1 मई से रोक लगाने के कदम को भारत में वीआईपी कल्चर को खत्म करने वाला बताया है। इस मामले पर मोदी ने अपने रेडियो शो मन की बात में भी इसका जिक्र किया था। उन्होंने कहा था कि लाल बत्ती वीआईपी कल्चर का प्रतीक बन चुकी हैं और उनपर बैन लगाने के बाद उन्हें पता चला कि यह कितना बड़ा था। उन्होंने कहा कि नए भारत का आईडिया ईपीआई (हर शख्स महत्वपूर्ण है) को प्रमोट करता है बजाए कि वीआईपी (बहुत महत्वपूर्ण शख्स)।

प्रधानमंत्री के कदम की सराहना करते हुए प्रीति ने कहा कि यह बहुत सौभाग्य की बात है कि हमारे पास नरेंद्र मोदी जैसा प्रधानमंत्री है। समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए वीर जारा की एक्ट्रेस ने कहा- पीएम के लिए हर शख्स महत्वपूर्ण है और वो इसका मतलब समझते हैं। एक्ट्रेस ने आगे कहा कि हम बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हमें ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो ना केवल देश को आगे ले जाना चाहता है बल्कि हर नागरिक को आगे लाना चाहता है। प्रीति ने केंद्र सरकार द्वारा शुरु की गई कई पहल की सराहना की। जिसमें स्वच्छ भारत अभियान- देश में सफाई व्यवस्था पर जोर देने के लिए और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान शामिल है जिसमें कि कन्या भ्रूण हत्या को रोकने और महिलाओं को पढ़ाई के लिए प्रेरित करना है।

प्रीति के अनुसार जहां तक महिलाओं की शिक्षा और सुरक्षा का संबंध है बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान बहुत महत्वपूर्ण है। जिंटा ने प्रधानमंत्री द्वारा देश के जवानों के लिए जाहिर की गई चिंता पर अपनी खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि आर्मी किड होने का वजह से यह देखकर अच्छा लगता है कि पीएम देशभक्ति और जवानों के बारे में बात कर रहे हैं।

प्रीति ने अपनी जिंदगी के सबसे बड़े प्रोजेक्ट जोकि महिलाओं की सुरक्षा पर आधारित है उसपर काम करने को लेकर खुलासा किया। 42 साल की एक्ट्रेस ने कहा कि वो इस प्रोजेक्ट पर पांच सालों से काम कर रही हैं और यह फािनली इस साल सामने आएगा।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.