Advertisement

IND VS SA 2nd ODI: भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 9 विकेट से धोया, युजवेंद्र चहल बने मैन ऑफ द मैच

दक्षिण अफ्रीका द्वारा दिए गए 119 के आसान विजयी लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने मेजबान को दूसरे वनडे में 9 विकेट से हराकर छह वनडे मैचों की सीरीज में 2-0 से अजेय बढ़त हासिल कर ली. दक्षिण अफ्रीका टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 32.2 ओवरों में सिर्फ 118 रन पर ढेर हो गई थी. जवाब में भारत ने लंच के बाद 20.3 ओवरों में एक विकेट के नुकसान पर आसानी से जीत हासिल कर ली. शिखर धवन 51 और कप्तान विराट कोहली 44 रन बनाकर नाबाद रहे. इससे पहले लंच के समय थोड़ा विवाद भी देखने को मिला. वजह यह थी कि अंपायरों ने तब लंच का ऐलान कर दिया, जब भारत को जीत के लिए सिर्फ 2 ही रन बनाने थे. इससे विराट कोहली काफी नाराज दिखाई पड़े, लेकिन अंपायरों ने कहा कि वह नियमों के हिसाब से अपने काम को अंजाम दे रहे हैं. पांच विकेट लेने वाले युजवेंद्र चहल को मैन ऑफ द मैच चुना गया.
 इससे पहले दक्षिण अफ्रीका टीम सिर्फ 118 रन पर सिमट गई. भारतीय स्पिनर मेजबान बल्लेबाजो पर कहर बनकर टूटे. और इसकी अगुवाई की दाएं हत्था लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने, जिन्होंने पांच विकेट लिए, तो वहीं कुलदीव यादव ने तीन विकेट लिए. मेजबान टीम के लिए सबसे ज्यादा 25 रन जेपी डुमिनी ने बनाए. 
 
दक्षिण अफ्रीकी पारी में युजवेंद्र और कुलदीप का कहर
भारत से पहले बैटिंग का न्यौता पाने के बाद मेजबान टीम ने सतर्क शुरुआत की. उसे पहला झटका 10वें ओवर में लगा, जब हाशिम अमला 10 रन बनाकर आउट हुए. टीवी रिव्यू में अंपायर ने भुवनेश्वर की गेंद पर हाशिम को विकेट के पीछे कैच करार दिया. इसके बाद 12वें और 13वें ओवर के बीच लगे तीन ऐसे बड़े झटके लगे कि मेजबान टीम इससे आखिर तक उबर ही नहीं की. बंयहत्था क्विंटन डि कॉक को 12वें ओवर की आखिरी गेंद पर युजवेंद्र चहल ने क्या आउट किया कि कुलदीप यादव ने फैंके 13वें ओवर में नए कप्तान एडेन मार्करैम और डेविड मिलकर को आउकर मेजबान टीम को पूरी तरह पटरी से उतार दिया. इसके बाद एक छोर पर जेपी डुमिनी ने 25 रन बनाकर अपनी ओर से पूरी कोशिश की, लेकिन यह कोशिश ऊंट के मुंह में जीरे के समान थी, तो वहीं दूसरे छोर पर युजवेंद्र ने विकेट लेना जारी रखा. नियमित अंतराल पर विकेट गिरते रहे और पूरी दक्षिण अफ्रीकी टीम का 32.2 ओवरों में बोरिया-बिस्तर बंध गया. भारत के लिए युजवेंद्र के अलावा कुलदीप यादव ने तीन और जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार ने एक-एक विकेट लिया. 


ये चुनौतियां थीं दक्षिण अफ्रीकी टीम के सामने
मैच शुरू होने से पहले ही मेजबान टीम के सामने कई चुनौतियां थीं. चलिए हम इन तीन चुनौतियों के बारे में बताते हैं. हालांकि इन तीनों चैलेंजों के सामने ही मेजबानों की हवा निकल गई. 

पहला चैलेंज: दो दिग्गजों की सेवाएं नहीं 
दूसरे मैच में मेजबान टीम को नियमित कप्तान फैफ डु प्लेसिस और एबी डि विलियर्स की सेवाएं नहीं मिल सकीं. पहले ही तीन वनडे मैचों से एबी डि विलियर्स को गंवा चुकी मेजबान टीम शेष दौरे से कप्तान फैफ डु प्लेसिस को भी खो चुकी है. लेकिन इस चुनौती मतलब दिग्गज खिलाड़ियों की अनुपस्थिति का असर साफ दिखाई पड़ा. खिलाड़ियों की शारीरिक भाषा बहुत ही ज्यादा खराब थी. और ऐसा लग रहा था कि मानों वरिष्ठों के बिना टीम एकदम अनाथ सी हो गई है. 

दूसरा चैलेंज: नहीं चल रहा मध्यक्रम
भारत का टॉप ऑर्डर इन दिनों दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है, लेकिन टीम इंडिया इन दिनों मैच मिड्ल ओवरों में जीत रही है. और यह दक्षिण अफ्रीका के लिए एक बड़ी समस्या है. पहले मैच में हाशिम अमला अच्छी तरह से स्पिनर खेलने को नहीं मिले, तो एकमात्र सहज दिखे बल्लेबाज फैफ डु प्लेसिस बाहर हो चुके हैं. आज  मेजबान टीम के सामने एक यहा बड़ा चैलेंज यह भी था कि दक्षिण अफ्रीकी मध्यक्रम कैसा प्रदर्शन करता है. लेकिन यह भी बुरी तरह से टांय-टांय फिस्स हो गई. जेपी डुमिनी के सबसे ज्यादा 25 रन हे. 

तीसरा चैलेंज: पिच बन सकती है समस्या
भारतीय स्पिनरों ने पहले वनडे में दक्षिण अफ्रीकियों को रुला कर रख दिया. कुलदीप यादव की रहस्यमयी गेंदों का जवाब मेजबान बल्लेबाज नहीं ढूंढ सके. एक समय दक्षिण अफ्रीका का स्कोर दो विकेट पर 100 रन था, लेकिन  उसके बाद उसने पांच विकेट 79 रन के भीतर खो दिए. 

दोनों देशों की फाइनल इलेवन इस प्रकार हैं :

भारत:  विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, एमएस धोनी, केदार जाधव, हार्दिक पंड्या, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल

दक्षिण अफ्रीका:  एडेन मार्करैम (कप्तान) हाशिम अमला, क्विंटन डि कॉक (विकेटकीपर), खाया जोंडो, जेपी डुमिनी, डेविड मिलर, क्रिस मोरिस, तबरेज शमसी, कैगिसो रबाडा, मॉर्ने मॉर्कल , इमरान ताहिर
 

POPULAR ON IBN7.IN