आईपीएल-6 : सुपर किंग्स को हराकर मुम्बई इंडियंस चैम्पियन
Monday, 27 May 2013 16:32

  • Print
  • Email

मुम्बई इंडियंस टीम ने अपने हरफनमौला प्रदर्शन के दम पर ईडन गार्डन्स स्टेडियम में रविवार को खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के छठे संस्करण फाइनल मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स को 23 रनों से हरा दिया। मुम्बई ने पहली बार यह खिताब जीता है जबकि सुपर किंग्स तीसरी बार चैम्पियन बनने से महरूम रह गए।

मुम्बई ने कीरन पोलार्ड (नाबाद 60) की शानदार बल्लेबाजी के दम पर पहले खेलते हुए सुपर किंग्स के सामने 149 रनों का लक्ष्य रखा, जो सुपर किंग्स के लिए भारी साबित हुआ और एक से एक शानदार खिलाड़ियों से लदी यह टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए 20 ओवरों में नौ विकेट गंवाकर125 रन ही बना सकी।

मुम्बई की ओर से लसिथ मलिंगा, मिशेल जानसन और हरभजन सिंह ने दो-दो विकेट लिए। प्रज्ञान ओझा, पोलार्ड और रिषी धवन को भी एक-एक सफलता मिली। सुपर किंग्स की ओर से सिर्फ चार खिलाड़ी दहाई का आंकड़ा पार कर सके। कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने सबसे अधिक नाबाद 63 रन बनाए।

इस तरह मुम्बई ने सुपर किंग्स से पहले क्वालीफायर के साथ-साथ 2010 के संस्करण के फाइनल में मिली हार का हिसाब बराबर कर लिया। मुम्बई ने दूसरे प्रयास में पहला खिताब जीता है।

सुपर किंग्स की शुरुआत बेहद खराब रही। उसने तीन रन के कुल योग पर तीन अहम विकेट गंवा दिए। लीग और प्लेऑफ दौर में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले माइकल हसी (1)को लसिथ मलिंगा ने बोल्ड किया।

शानदार फार्म में चल रहे सुरेश रैना (0) को मलिंगा ने ड्वेन स्मिथ के हाथों कैच कराया। एस. बद्रीनाथ को मिशेल जानसन ने खाता नहीं खोलने दिया।

गेंदबाजी में कमाल करते हुए चार विकेट झटकने वाले ड्वेन ब्रावो (15) बल्ले के साथ कुछ धमाल नहीं मचा सके और 35 रन के कुल योग पर रिषी धवन की गेंद पर जानसन के हाथों लपके गए। ब्रावो ने 16 गेंदों पर तीन चौके लगाए।

ब्रावो का विकेट छठे ओवर की अंतिम गेंद पर गिरा और फिर सातवें ओवर की चौथी गेंद पर हरभजन सिंह ने रवींद्र जडेजा (0) को पोलार्ड के हाथों कैच करार सुपर किंग्स को पांचवां झटका दिया।

काफी देर तक विकेट पर टिके रहकर एक छोर पर लगातार विकेटों को गिरते देख मुरली विजय (18) को जानसन ने 39 रनोंके कुल योग पर पवेलियन की राह दिखाई। मुरली ने 20 गेंदों पर दो चौके लगाए। जानसन ने अपना दूसरा विकेट हासिल किया। मुरली के रूप में सुपर किंग्स को छठा झटका लगा।

एल्बी मोर्कल (10) के रूप में सुपर किंग्स को सातवां और फिर क्रिस मौरिस (0) के रूप में आठवां झटका लगा। मोर्कल को प्रज्ञान ओझा ने बोल्ड किया जबकि मौरिस को हरभजन ने दिनेश कार्तिक के हाथों कैच कराया।

इसके बाद धौनी और रविचंद्रन अश्विन (9) ने नौवें विकेट के लिए 41 रनों की साझेदारी निभाई लेकिन यह साझेदारी इतनी धीमी और छोटी रही कि सुपर किंग्स की हार को टाल नहीं सकी। अश्विन को 99 के कुल योग पर पोलार्ड ने आउट किया। धौनी ने अपनी 45 गेंदों की पारी में तीन चौके और पांच छक्के लगाए। मोहित शर्मा खाता खोले बगैर नाबाद लौटे। इससे पहले, दूसरी बार फाइनल में पहुंची मुम्बई की टीम ने टॉस जीतकर बल्लेबजी करते हुए खराब शुरुआत के बाद पोलार्ड के नाबाद अर्धशतक की मदद से सम्भलते हुए निर्धारित 20 ओवरों में नौ विकेट पर 148 रन बनाए।

पोलार्ड के अलावा अंबाती रायडू ने 37 रनों का योगदान दिया। सुपर किग्स की ओर से ड्वेन ब्रावो ने चार विकेट हासिल किए जबकि एल्बी मोर्कल को दो विकेट मिले। मोहित शर्मा और क्रिस मौरिस को एक-एक सफलता मिली।

मुम्बई की शुरुआत बेहद खराब रही। उसने 16 रन के कुल योग पर ड्वेन स्मिथ (4), आदित्य तारे (0) और कप्तान रोहित शर्मा (2) के विकेट गंवा दिए थे लेकिन इसके बाद दिनेश कार्तिक (21) ने रायडू के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 36 रन जोड़कर स्थिति को सम्भालने का प्रयास किया।

यह जोड़ी अच्छी करती दिख रही थी लेकिन इसी बीच मौरिस ने कार्तिक को 56 के कुल योग पर आउट करके मुम्बई को करारा झटका दिया। कार्तिक ने 26 गेंदों पर तीन चौके लगाए।

कार्तिक का विकेट गिरने के बाद रायडू का साथ देने पोलार्ड विकेट पर आए। इन दोनों ने तेजी से बल्लेबाजी शुरू की और 34 गेंदों पर 48 रन बटोर डाले लेकिन 100 के कुल योग पर ड्वेन ब्रावो ने रायडू को आउट करके मुम्बई को पांचवां झटका दिया।

रायडू ने अपनी 36 गेंदों की उम्दा पारी में चार चौके लगाए। रायडू का स्थान लेने आए हरभजन सिंह (14) ने भी पोलार्ड का अच्छा साथ दिया। दोनों ने 16 गेंदों पर 25 रन जोड़े। हरभजन आठ गेंदों पर तीन चौके लगाने के बाद ब्रावो की गेंद पर माइकल हसी के हाथों कैच हुए। उस समय कुल योग 125 रन था।

रिषी धवन (3) का विकेट 133, मिशेल जानसन (1) का विकेट 135 और लसिथ मलिंगा (0) का भी 135 रन के कुल योग पर गिरा। धवन रन आउट हुए। जानसन और मलिंगा को ब्रावो ने विकेट के पीछे कप्तान धौनी के हाथों कैच कराया।

पोलार्ड ने ब्रावो द्वारा फेंके गए पारी के अंतिम ओवर के अंत की दो गेंदों पर छक्का लगाकर न सिर्फ अपना अर्धशतक पूरा किया बल्कि उन्होंने अपनी टीम को एक सम्मानजनक योग भी गिया। पोलार्ड ने अपनी 32 गेंदों की नाबाद पारी में सात चौके और तीन छक्के लगाए।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss