बारक्ले के आईसीसी चेयरमैन बनने से रग्बी को नुकसान, क्रिकेट को फायदा
Wednesday, 25 November 2020 22:20

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: ऑकलैंड के रहने वाले वकील क्रिकेट ग्रैग बारक्ले को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का नया चेयरमैन बनाए जाने की बुधवार को घोषणा की गई। वह 2014 में पहली बार आईसीसी बोर्ड से जुड़े थे। उन्हें न्यूजीलैंड क्रिकेट (एनजेडसी) का निदेशक भी नियुक्त किया गया था।

बारक्ले 2016 में एनजेडसी के चेयरमैन चुने गए थे। वहीं, जनवरी 2020 में उन्हें इंटरनेशनल रग्बी लीग (आईआरएल) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। लेकिन अब आईसीसी का चेयरमैन चुने जाने के बाद उन्हें आईआरएल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना होगा।

बारक्ले ने जोर देकर कहा है कि वह उन देशों में मुख्य टूर्नामेंटों का आयोजन करना चाहते हैं, जिन्हें पारंपरिक क्रिकेट का पॉवरहाउस नहीं माना जाता है।

क्रिकइंफो ने बारक्ले के हवाले से कहा, "ऐसा करने का एक प्रमुख कारण यह है कि हम खेल को विकसित करना चाहते हैं, चाहे वह एशिया में हो या अमेरिका में। लेकिन अमेरिका को शुरू करने के लिए ता*र्*क स्थान है।"

उन्होंने कहा, "हो सकता है कि वेस्टइंडीज और अमेरिका के बीच एक सह मेजबानी के रूप में वैश्विक टूर्नामेंट की मेजबानी करने की जरूरत पड़े। लेकिन हमें उन परिणामों पर एक अच्छी नजर रखने की जरूरत है जो हम यहां चलाने की कोशिश कर रहे हैं। ये वैश्विक टूर्नामेंट निर्णय लेने की प्रक्रिया का अभिन्न हिस्सा हैं।"

बारक्ले ने साथ ही कहा कि उनके लिए 'बिग थ्री' की धारणा का कोई अस्तित्व नहीं है। 'बिग थ्री' धारणा के तहत भारत, आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड को वैश्विक संस्था के राजस्व का अधिकांश हिस्सा मिलना था।

उन्होंने कहा, "मेरे लिए 'बिग थ्री' जैसी कोई चीज नहीं है और ये केवल आईसीसी के नंबर हैं। सभी सदस्य महत्वपूर्ण हैं और क्रिकेट परिणाम देने में काफी मदद करते हैं। लेकिन वे आईसीसी के व्यक्तिगत सदस्य हैं। कुछ बड़े देश मेजबानी और राजस्व के मामले में आईसीसी को निश्चित नतीजे देते हैं इसलिए हमें इन पर गौर करने की जरूरत है लेकिन बिग थ्री जैसी कोई चीज नहीं है।"

बारक्ले आईसीसी के चेयरमैन पद पर भारत के शशांक मनोहर का स्थान लेंगे, जिन्होंने इस साल की शुरुआत में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। एनजेडसी में वह अपने पद से इस्तीफा देंगे। मनोहर के जाने के बाद इमरान ख्वाजा ने आईसीसी के अंतरिम चेयरमैन का पद संभाला था।

--आईएएनएस

ईजेडए/एसजीके

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss