पंजाब फ्रेंचाइजी के मालिकों को लगा कि मैं अच्छा प्रदर्शन नहीं किया : अश्विन
Friday, 06 December 2019 08:30

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन बेशक सीमित ओवरों में भारतीय टीम की रणनीति का हिस्सा न हों लेकिन उन्होंने अगले साल आस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप के लिए भारतीय टीम में शामिल होने की उम्मीद नहीं छोड़ी है। अश्विन ने कहा कि युवराज सिंह ने उन्हें प्रेरित किया है और अगर वह 2014 टी-20 विश्व कप तथा चैम्पियंस ट्रॉफी-2017 में वापसी कर सकते हैं तो वह भी ऐसा कर सकते हैं।

अश्विन ने अंग्रेजी अखबार मुंबई मिरर से कहा, "मैं हर दिन खेलना पसंद करता हूं, लेकिन अपने करियर में मुझे ऐसा लगने लगा था कि मुझे खेलने में आनंद नहीं आ रहा है और इसका कारण सीमित ओवरों की टीम से बाहर होना और चोटें थीं।"

उन्होंने कहा, "यह ऐसी चीज है जिसका मैं लुत्फ नहीं उठाता। मैं हालांकि इस भावना से बाहर निकला। इसमें लोगों ने मेरी मदद की और मैं इससे बाहर निकल सका। टी-20 विश्व कप टीम में शामिल होना हर किसी का सपना है। इस टूर्नामेंट में कौन भारत का प्रतिनिधित्व करना नहीं चाहता। युवराज ने टी-20 विश्व कप-2014 और चैम्पियंस ट्रॉफी-2017 में वापसी की थी, मैं अभी सिर्फ 33 साल का हूं।"

अश्विन इस बार इंडियन प्रीमियर लीग में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेलते दिखेंगे। पिछले दो सीजन वह किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेल रहे थे। अश्विन ने इस पर कहा कि इस ट्रेड के लिए उन्होंने नहीं कहा था।

अश्विन ने कहा, "पंजाब के साथ मेरा कार्यकाल शानदार रहा था। वहां से मिले अनुभव ने मुझे हर तरीके से फायदा पहुंचाया। मुझे कप्तानी दी गई थी, और यह नई चीज थी जिसे मैंने काफी कुछ सीखा। मुझे लगा था कि अगर मैंने बहुत अच्छा नहीं तो अच्छा काम तो किया है।"

अश्विन ने इस पर आगे कहा, "अन्य चीजें भी थीं। फ्रेंचाइजियों के मालिक को लगा कि मैंने अच्छा काम नहीं किया जो सही था क्योंकि मैं दोनों सीजनों में टीम को प्ले ऑफ में नहीं ले जा सका। आप बहाने बना सकते हो, लेकिन मैं ऐसा इंसान हूं जो जिम्मेदारी लेता हूं और मैंने माना कि मैं अच्छा नहीं कर सका।"

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.