ऑकलैंड टेस्ट : किवी निराश, प्रायर की जूझारू पारी ने बचाया मैच
Tuesday, 26 March 2013 17:36

  • Print
  • Email

ऑकलैंड , 26 मार्च (आईएएनएस)| मैट प्रायर (नाबाद 110) और इयान बेल (73) की जूझारू पारियों की बदौलत इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के खिलाफ ऑकलैंड के ईडन पार्क में खेले गए तीसरे टेस्ट को पांचवें दिन ड्रॉ करा दिया। किवी टीम से मिले 481 रनों के लक्ष्य के जवाब में मेहमान टीम ने दिन की समाप्ति तक 9 विकेट खोकर 315 रन बनाए और मैच को ड्रॉ कराने में सफल रही। इस तरह से तीन मैचों टेस्ट श्रंखला 0-0 की बराबरी पर समाप्त हो गई। इंग्लैंड की और प्रायर और बेल के अलावा एलिस्टर कुक ने 43 जोनाथन ट्रॉट ने 37 और जॉए रूट ने 29 रनों की पारियां खेली। वहीं, मेजबान टीम की ओर से केन विलियम्सन को चार, टिम साउदी और वेगनर को दो-दो सफलताएं हाथ लगी।

इससे पहले, पांचवें दिन, इंग्लिश टीम ने अपने चौथे दिन के स्कोर चार विकेट खोकर 90 रन से आगे खेलना शुरू किया। बेल ने रूट के साथ मिलकर अपनी टीम पारी को आगे बढ़ाया।

दोनों ने पांचवे विकेट के लिए 60 रनों की साझेदारी करते हुए लगभग 28 ओवर तक बल्लेबाजी की। 150 रनों के कुल योग पर रूट बोल्ट की गेंद पर पगबाधा हो गए। उन्होंने 79 गेंदों का सामना किया। 159 रनों के कुल योग पर इंग्लैंड को छठा झटका लगा। जॉनी ब्रेस्टो छह रन बनाकर चलते बने।

ब्रेस्टो के आउट होने पर बल्लेबाजी करने आए प्रायर ने अपनी टीम की पारी को संकट से उबारा। बेल और प्रायर ने सातवें विकेट के लिए 78 रनों की साझेदारी की। 237 रनों के कुल योग पर बेल की लगभग छह घंटे तक चली मैराथन पारी की अंत हुआ।

बेल ने 271 गेंदों का सामना करते हुए 9 चौके जड़े। इसके बाद लगा की किवी टीम इस मैच को जीत जाएगी। परंतु इंग्लिश टीम के पुछल्ले बल्लेबाजों ने ऐसा होने नहीं दिया।

बेल की जगह लेने आए स्टुअर्ट ब्रॉड ने किवी गेंदबाजों को जमकर निराश किया। ब्रॉड ने अपना खाता खोलने के लिए 62 गेंदों का सामना किया। आठवें विकेट के लिए दोनों ने 29 ओवरों का सामना करते हुए 67 रन जोड़े।

इस बीच प्रायर ने अपने करियर का सातवां शतक पूरा किया। 304 रनों के कुल योग पर ब्रॉड 77 गेंदों में छह रन बनाकर आउट हुए। वह विलियम्सन का शिकार बने। 304 रनों के ही कुल योग पर विलियम्सन ने मेहमान टीम को नौवां झटका देकर किवी टीम के लिए जीत की उम्मीदें जगा दीं। एंडरसन बगैर खाता खोले आउट हो गए।

इस तरह से इंग्लैंड के नौ विकेट गिर चुके थे और अभी भी दिन का खेल खत्म होने में 21 गेंदों फैंकी जानी थी। अंत में मोंटी पनेसर ने किवी टीम की जीत की उम्मीदों को धराशायी करते हुए मैच को ड्रॉ करा दिया। पनेसर ने 20 गेंदों का सामना किया और 2 रन बनाए। वहीं, एक छोर को मजबूती से थामने वाले प्रायर ने 110 रनों की अपनी पारी में 182 गेंदों का सामना किया और 20 चौके जड़े।

इससे पहले, चौथे दिन किवी टीम ने अपनी दूसरी पारी छह विकेट पर 241 रन बनाकर घोषित कर दी थी। जिसके बाद न्यूजीलैंड को 480 रनों की बढ़त हासिल हुई और मेहमान टीम को जीत के लिए 481 रनों का लक्ष्य मिला। मेजबान टीम की ओर से वर्ष 2006 में अपने टेस्ट करियर का आगाज करने वाले फुल्टन (110) ने अपने करियर का यह दूसरा शतक जड़ा था। फुल्टन के अलावा मैक्लम 67 रन बनाकर नाबाद लौटे थे।

न्यूजीलैंड ने अपनी पहली पारी में 443 रन बनाए थे। मेजबान टीम की ओर से फुल्टन ने 136 और विलियम्सन ने 91 रनों की पारी खेली थी। वहीं, ट्रेंट बॉल्ट (6/68) की घातक गेंदबाजी की बदौलत इंग्लैंड की टीम अपनी पहली पारी में 204 रन ही बना सकी थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss