दुबई: अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने श्रीलंका के पूर्व कप्तान सनथ जयसूर्या के ऊपर अपने भ्रष्टाचार नियमों के उल्लंघन के आरोप लगाए हैं। आईसीसी ने श्रीलंका के पूर्व कप्तान जयासूर्या को अपने दो नियमों के उल्लंघन में आरोपित किया है।

श्रीलंका क्रिकेट में एनलिस्ट के तौर पर काम कर रहे जयासूर्या को आईसीसी ने तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर रखा है।

जयसूर्या पर आईसीसी के अनुच्छेद 2.1.3 अनुच्छेद 2.1.1, 2.4.7 के उल्लंघन का आरोप लगा है। जयसूर्या के ऊपर श्रीलंका के खेल मंत्री को अंतर्राष्ट्रीय मैच के परिणाम प्रभावित करने के लिए रिश्वत देने, अंतर्राष्ट्रीय मैच के परिणाम को प्रभावित करने, भ्रष्टाचार रोधी समिति की जांच में सहयोग न करने के आरोप हैं।

बाएं हाथ के इस पूर्व बल्लेबाज के पास अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देने के लिए कुल 14 दिनों का समय है।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

डबलिन: विस्फोटक सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल को इंग्लैंड एंड वेल्स में होने वाले आगामी विश्व कप के लिए वेस्टइंडीज का उपकप्तान बनाया गया है।

गेल ने आखिरी बार जून 2010 में वनडे में वेस्टइंडीज की कप्तानी की थी। जेस होल्डर विश्व कप के लिए टीम के कप्तान होंगे।

गेल ने कहा, "किसी भी प्रारूप में वेस्टइंडीज का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए एक सम्मान की बात है और यह विश्व कप मेरे लिए विशेष है। एक सीनियर खिलाड़ी के रूप में कप्तान और टीम का समर्थन करना मेरी जिम्मेदारी है।"

उन्होंने कहा, "यह शायद सबसे बड़ा विश्व कप होगा, इसलिए काफी उम्मीदें होंगी और मुझे पता है कि हम वेस्टइंडीज के लोगों के लिए बहुत अच्छा करेंगे।"

एक अनुभवी खिलाड़ी गेल ने अपने करियर में कुल 289 वनडे मैच खेले हैं। हालांकि, वह आयरलैंड में जारी त्रिकोणीय सीरीज में टीम का हिस्सा नहीं हैं।

विश्व कप में वेस्टइंडीज का पहला मैच 31 मई को पाकिस्तान के खिलाफ होगा।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने सोमवार को हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या की तारीफ की है और कहा है कि उनके आने से भारतीय वनडे टीम संतुलित हुई है। 

गावस्कर ने स्टार स्पोटर्स से कहा, "वह बेहद प्रभावी रहे। आप जानते हैं कि क्यों यह टीम प्रबंधन उन्हें टीम में चाहता है। वह उस छोटे ब्लैंक को भर देते हैं जो टीम में है। इससे टीम संतुलित हो जाती है। वह टीम की हर जरूरत को पूरा करते हैं।"

उन्होंने कहा, "वह शानदार लाइन पर गेंदबाजी करते हैं। वह उछाल का भी अच्छा इस्तेमाल करते हैं। वह मैदान पर लाइव वायर की तरह हैं। हार्दिक पांड्या टीम में यही अतिरिक्त चीज लेकर आते हैं। वह शानदार फील्डर भी हैं। वह आपके लिए असंभव कैच भी पकड़ सकते हैं। कुछ अच्छे रन आउट कर सकते हैं और फिर बल्ले तथा गेंद से शानदार प्रदर्शन कर सकते हैं।"

पांड्या को हाल ही में 'कॉफी विद करण' के शो पर महिलाओं के खिलाफ विवादास्पद बयान देने के कारण प्रतिबंधित कर दिया गया। इस मामले में उन पर जांच जारी है, लेकिन प्रतिबंध हटा लिया गया है। प्रतिबंध हटने के बाद उन्होंने सोमवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ मैदान पर पहली बार कदम रखा। 

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

ऐसे में जबकि टेलीविजन टॉक शो पर महिलाओं के खिलाफ दिए गए बयान पर क्रिकेट स्टार हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल की सब ओर आलोचना हो रही है, भारतीय टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ मानते हैं कि इस विवाद के बाद दोनों बेहतर खिलाड़ी के रूप में सामने आकर मैदान पर अपनी चमक बिखेरेंगे। द्रविड़ ने क्रिकइंफो से कहा, "मैं समझता हूं कि दोनों खिलाड़ियों ने अब तक अपने खेल की पराकाष्ठा नहीं हासिल की है और मौजूदा विवाद से दोनों निखरकर निकलेंगे और एक खिलाड़ी के तौर पर खेल को हर प्रारूप में अपनी काबिलियत को साबित करेंगे।"

फिल्मकार करण जौहर के कार्यक्रम-कॉफी विद करण में किए गए आपत्तिजनक बयान के बाद बीसीसीआई ने तत्काल प्रभाव से दोनों खिलाड़ियों को प्रतिबंध लगा दिया था लेकिन अब वे खेलने के लिए आजाद हैं क्योकि बीसीसीआई ने उन पर से प्रतिबंध हटा लिया है।

द्रविड़ मानते हैं कि इन दोनों खिलाड़ियों को इस खराब दौर के भुलाकर आगे देखना चाहिए और अपने खेल पर ध्यान देना चाहिए।

द्रविड़ ने कहा, "निश्चित तौर पर। मुझे कोई शक नहीं है। मैंने दोनों को प्रशिक्षित किया है। मैं नहीं समझता कि उस इंटरव्यू से दोनों खिलाड़ियों का असल चरित्र सामने आया है। आश है कि ये दोनों इस खराब चैप्टर को भुलाकर आगे देखेंगे और खेल में अपनी चमक दिखाएंगे। अगर वे ऐसा करने में सफल रहे तो वे निश्चित तौर पर रोल मॉडल होंगे।"

द्रविड़ मानते हैं कि खिलाड़ी और सेलिब्रिटी गलती कर सकते हैं क्योंकि यह सीखने और आगे बढ़ने का हिस्सा है। 

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

 भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने शुक्रवार को पृथ्वी शॉ तथा शुभमन गिल जैसे खिलाड़ियों के आने से मिल रही प्रतिस्पर्धा को सराहा और कहा कि प्रतिस्पर्धा के कारण टीम में हर कोई सतर्क है। शॉ ने अक्टूबर में भारत में ही वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज में पदार्पण किया था। गिल को हाल ही में न्यूजीलैंड के साथ हो रही वनडे सीरीज के लिए टीम में शामिल किया गया है।

यह दोनों बल्लेबाज बीते साल न्यूजीलैंड में खेले गए अंडर-19 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे।

धवन ने शनिवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाले दूसरे वनडे मैच की पूर्व संध्या पर संवाददाता सम्मेलन में कहा, "मुझे लगता है कि युवा खिलाड़ी बहुत जल्दी परिपक्व हो रहे हैं और इससे टीम में काफी प्रतिस्पर्धा बढ़ी है। इससे हर कोई सतर्क है।"

उन्होंने कहा, "पृथ्वी शॉ जिस तरह से टेस्ट टीम में आए और पहले मैच में शतक जमाया, इससे पता चलता है कि हमारी बेंच स्ट्रैंथ काफी मजबूत है। इसलिए हम 15 (खिलाड़ियों की टीम) में भी बेहद कड़ी प्रतिस्पर्धा है।"

अपनी फॉर्म पर धवन ने कहा कि वह पिछले मैच में 5,000 रन पूरा करने से खुश हैं। नेपियर में खेले गए पहले मैच में धवन ने 75 रनों की पारी खेली थी। 

सलामी बल्लेबाज ने कहा, "यह उपलब्धि हासिल करने का मतलब है कि मैं अच्छा खेल रहा हूं।"

आस्ट्रेलिया में धवन अच्छी शुरुआत तो कर पा रहे थे लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल पा रहे थे। उनसे जब वनडे को लेकर आस्ट्रेलिया में तकनीक में बदलाव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की स्थितियां लगभग एक जैसी हैं। मुझे लगता है कि मैं अब अनुभवी खिलाड़ी हो चुका हूं। मैं यहां कुछ साल पहले आया था। इसलिए आप को पता है कि क्या करना है क्या नहीं। मुझे पता है कि मेरी तकनीक सभी विकेटों के हिसाब से अच्छी है।"

उन्होंने कहा, "मैंने विशेष तौर पर न्यूजीलैंड के लिए अपने फुटवर्क या तकनीक पर काम नहीं किया है। अगर किया भी होता तो मैं बताता नहीं। एक बार जब आप अनुभवी हो जाते हो तो आपका दिमाग शांत रहता है।"

भारत ने नेपियर में खेले गए पहले वनडे मैच में न्यूजीलैंड को आठ विकेट से मात दी थी।

--आईएएनएस 

 

Published in क्रिकेट

फिल्मकार करण जौहर के टीव शो 'कॉफी विद करण' पर महिलाओं के खिलाफ विवादास्पद बयान देने के बाद प्रतिबंधित किए गए भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल पर से बीसीसीआई ने तुरंत प्रभाव से प्रतिबंध हटा लिया है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने गुरुवार को एक बयान जारी कर बताया कि प्रशासकों की समिति (सीओए) ने दोनों खिलाड़ियों पर से प्रतिबंध हटा लिया है। 

इन दोनों पर से यह प्रतिबंध बीसीसीआई में लोकपाल की नियुक्ति में हो रही देरी के चलते हटाया गया है। साथ ही यह स्पष्ट कर दिया गया है कि इन पर लगे आरोपों की जांच बंद नहीं हुई है। इनका मामला लोकपाल की नियुक्ति और उनके द्वारा मामले में फैसला लेने के अधीन है।

बीसीसीआई ने बयान में कहा, "सीओए ने बीसीसीआई के संविधान के नियम 41 (6) का इस्तेमाल करते हुए हार्दिक और राहुल को दुर्व्यवहार के आरोप के चलते निलंबित कर दिया था।"

बयान में कहा, "किसी भी क्रिकेट खिलाड़ी पर लगे सभी तरह के दुर्व्यवहार के आरोप का मामला सुनने के लिए बीसीसीआई के लोकपाल की जरूरत होती है, लेकिन लोकपाल की नियुक्ति सर्वोच्च अदालत के निर्देशों द्वारा लंबित है। इसलिए प्रशासकों की समिति (सीओए) का मानना है कि इन दोनों खिलाड़ियों पर जो अंतरिम प्रतिबंध लगाया गया था, उसे तुरंत प्रभाव से हटाया जाए।"

बयान में कहा गया है, "उपयुक्त मुद्दे और फैसले को एमिकस क्यूरी पी.एस. नरसम्हिा की सहमति से लिया गया है। दिनांक 11-09-2019 को जारी किया गया निलंबन का आदेश तुरंत प्रभाव से हटाया जाता है और यह बीसीसीआई लोकपाल की नियुक्ति और उनके द्वारा इन आरोपों पर फैसला लेने के अधीन है।"

भारतीय टीम इस समय न्यूजीलैंड में है और पांच मैचों की वनडे सीरीज खेल रही है। सीरीज का दूसरा मैच शनिवार को खेला जाएगा। बीसीसीआई ने पहले ही बता दिया है कि सीरीज के आखिरी दो वनडे मैचों और तीन टी-20 मैचों की सीरीज के लिए कप्तान विराट कोहली को आराम दिया जाएगा। ऐसे में पांड्या और राहुल को टीम में दोबारा शामिल होने का मौका मिल सकता है।

इस विवाद के चलते ही इन दोनों खिलाड़ियों को आस्ट्रेलिया दौरे के बीच में ही वापस बुला लिया गया था। 

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

बल्ले से अपनी फॉर्म वापस पा कर भारत को आस्ट्रेलिया में पहली द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीताने वाले अनुभवी बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने कहा है कि उनके लिए टीम में संतुलन प्राथमिकता है और इसलिए वह किसी भी स्थान पर खेलने को तैयार हैं। धोनी ने कहा कि वह चाहे नंबर-4 या नंबर-6 पर खेलें उनके लिए टीम का संतुलन प्राथमिकता है। धोनी ने इस सीरीज के तीनों मैचों में अर्धशतक जमाए हैं और इसी कारण उन्हें मैन ऑफ द सीरीज चुना गया। 

धोनी ने मैच के बाद पुरस्कार वितरण समारोह में कहा, "यह धीमी विकेट थी इसलिए आपनी मर्जी से खुलकर शॉट खेलना आसान नहीं था। मैच को आखिरी तक ले जाना जरूरी था। अच्छी गेंदबाजी कर रहे गेंदबाजों को मारना आसान नहीं था, इसलिए रणनीति यह थी जिसमें केदार जाधव ने अच्छा साथ दिया।"

पूर्व कप्तान ने कहा, "मैं चाहे नंबर-4 पर खेलूं या नंबर-6 पर, मेरे लिए जरूरी है कि टीम का संतुलन बना रहे। मेरे लिए अहम है कि मैं वहां बल्लेबाजी करूं जहां टीम मुझे चाहती है। मैं नंबर-6 पर भी बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हूं।"

भारत ने तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम की है। 

--आईएएनएस

Published in देश

भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने माना है कि प्रतिबंधित हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या के न होने से टीम का संतुलन बिगड़ा है। धवन ने गुरुवार को कहा है कि उनके न होने से टीम पांचवें गेंदबाज के समस्या से जूझ रही है। 

भारत और आस्ट्रेलिया की बीच इस समय तीन मैचों की वनडे सीरीज खेली जा रही जिसमें दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर हैं। सीरीज का आखिरी और निर्णायक मुकाबला शुक्रवार को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) पर खेला जाएगा। 

दूसरे वनडे में टीम ने खलील अहमद के स्थान पर मोहम्मद सिराज को मौका दिया था। 

मैच की पूर्वसंध्या पर संवाददाता सम्मेलन में धवन ने कहा, "हार्दिक के टीम में होने से जो संतुलन मिलता है वो काफी अहम होता है। केदार जाधव भी जब खेलते हैं तो हमारे पास ऑफ स्पिनर का विकल्प होता है जो हमारे लिए फायदेमंद होता है। मैं कहूंगा कि वो हमारे लिए काफी अहम हैं क्योंकि वह जब भी आते हैं विकेट लेते हैं। उन्होंने कई बार बड़ी साझेदारियां तोड़ी हैं। टेस्ट और वनडे में हरफनमौला खिलाड़ी का होना बराबरी की अहमियत रखता है।"

पांड्या को टीवी शो 'कॉफी विद करण' में महिलाओं के खिलाफ दिए गए विवादास्पद बयान के बाद प्रतिबंधित कर दिया गया है और उनके खिलाफ जांच भी की जाएगी। 

सिराज और खलील के बारे में धवन ने कहा कि यह दोनों युवा खिलाड़ी हैं और समय के साथ परिपक्व हो जाएंगे। 

सलामी बल्लेबाज ने कहा, "उनकी गेंदबाजी को लेकर चिंता नहीं है। वह अभी आए हैं और युवा हैं। हम उनका साथ देंगे। जब वह अच्छी टीम के साथ खेलेंगे तो इसी तरह वह सीखेंगे।"

उन्होंने कहा, "अगर वह रन के लिए जाते हैं तो वहां उन्हें अपने आप को सुधारना होगा और अपने खेल के बारे में सोचना होगा। इसी तरह वह और परिपक्व बनेंगे। उन्हें यहां मौके मिल रहे हैं यह उनके लिए अच्छी बात है।"

धवन ने उम्मीद है कि टीम सीरीज अपने नाम करेगी और आस्ट्रेलियाई जमीन पर पहली द्विपक्षीय सीरीज अपने नाम करेगी। भारत ने टेस्ट सीरीज में भी 2-1 से जीत हासिल की थी। 

उन्होंने कहा, "सीरीज जीतना हमारे लिए बड़ी बात है। अगर हम कल जीतते हैं तो हमारे लिए टेस्ट और यह सीरीज जीतना बहुत बड़ी उपलब्धि होगी। हमें इसकी अहमियत समझते हैं और इसे लंबे समय तक याद रखेंगे।"

बाएं हाथ के बल्लेबाज ने कहा, "पिछले मैच में टीम का प्रदर्शन देख काफी अच्छा लगा। खासकर धोनी ने जिस तरह से दोनों मैचों में बल्लेबाजी की। हम इस बात से खुश हैं कि धोनी अपनी लय में दोबारा आ रहे हैं क्योंकि उनके जैसा खिलाड़ी दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज को काफी आत्मविश्वास देता है।"

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

क्रिकेटर हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी के लिए इंतजार करना होगा क्योंकि प्रशासकों की समिति (सीओए) ने गुरुवार को सर्वोच्च अदालत से इस मामले में लोकपाल नियुक्त करने की अपील की है। न्यायाधीश एस.ए. बोब्डे और ए.एम. सापरे की पीठ ने इस मामले की सुनवाई को अगले सप्ताह तक के लिए टाल दिया है। 

पांड्या और राहुल को टीवी शो 'कॉफी विद करण' में महिलाओं के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी करने का खामियाजा प्रतिबंध के तौर पर उठाना पड़ा है। इसी कारण यह दोनों आगामी न्यूजीलैंड दौर पर वनडे सीरीज में नहीं खेल पाएंगे। 

अदालत में सीओए का पक्ष रख रहे वरिष्ठ वकील पराग त्रिपाठी ने कहा कि इस मुद्दे को लोकपाल के लिए जिम्मे सौंप देना बेहतर होगा। 

पराग ने अदालत में कहा, "सीओए ने फैसला किया है कि वह इस मसले पर कोई और टिप्पणी तब तक नहीं करेगी जब तक लोकपाल कोई फैसला नहीं ले लेता। इस मामले में लोकपाल की जरूरत है।"

गुरुवार को हुई सुनवाई में जब पूर्व महान्यायवादी पी.एस. नरसिम्हा को इस मामले में वरिष्ठ वकील गोपाल सुब्रामण्यम के स्थान पर एमिकस क्यूरी बनाने का सुझाव दिया गया तो अदालत ने कहा कि उनसे पूछा जाना चाहिए क्या वह इस पद को ग्रहण करने को तैयार हैं। 

सुब्रामण्यम ने एमिकस क्यूरी बने रहने पर अपनी असमर्थता जाहिर की है। 

बीसीसीआई के नए संविधान को राज्यों द्वारा अपनाने की स्टेटस रिपोर्ट पर ही चर्चा हुई। 

इस बीच राज्य संघों का पक्ष रख रहे महान्यायवादी तुषार मेहता ने कहा है कि सीओए ने अपना काम कर दिया है और अब बीसीसीआई के चुनाव कराए जाने चाहिए। 

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

हाल ही में रिलीज हुई फिल्म 'कैबरेट' में अभिनय कर चुके पूर्व भारतीय क्रिकेटर और अभिनेता एस. श्रीसंत ने उनके उस बयान का मजाक उड़ाए जाने को नजरंदाज कर दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह हॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता स्टीवन स्पीलबर्ग के साथ काम करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि लोग तो उनका मजाक तब भी उड़ा रहे थे, जब वह भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने का प्रयास कर रहे थे। उस समय वह केरल की अंडर-19 क्रिकेट टीम में थे।

पूर्व तेज गेंदबाज ने संवाददाताओं से कहा, "मैंने कहा था कि मैं स्टीवन स्पीलबर्ग के साथ काम करना चाहता हूं। हां, क्योंकि यह मेरा सपना है.. अगर आप मेरे दोस्तों से पूछें तो वे आपको बताएंगे कि जब मैं अंडर-19 टीम में था तो उस समय जब मुझसे कोई पूछता था कि मैं क्या करना चाहता हूं तो मैं बोलता था कि मैं देश के लिए खेलना चाहता हूं और वे हंसते थे।"

उन्होंने कहा, "मैं पहले ही दो बॉलीवुड फिल्में कर चुका हूं। मैं दक्षिण सिनेमा की फिल्में कर चुका हूं, मैं हॉलीवुड में काम करना चाहता हूं।"

अभिनय में करियर तलाश रहे प्रतिबंधित क्रिकेटर ने यह भी कहा कि हॉलीवुड में जाने के अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए वह 'न्यूयॉर्क फिल्म अकादमी' में दाखिला लेंगे। उन्होंने कहा कि वह नेटफ्लिक्स या अमेजन पर अंग्रेजी भाषा की सीरीज में अभिनय करने के लिए उत्सुक हैं।

उन्होंने कहा, "मेरी फिल्म 'कैबरेट' रिलीज हो चुकी है और अच्छी कमाई कर रही है। मेरी कन्नड़, तमिल, तेलुगू फिल्म 'केम्पेगॉडा-2' मार्च के पहले सप्ताह में रिलीज होगी। मैं एक मराठी फिल्म कर रहा हूं, जो फरवरी तक फ्लोर पर आ जाएगी। मैं कन्नड़ की एक और फिल्म कर रहा हूं। मैं दो बॉलीवुड फिल्में करने वाला हूं।"

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट