नई दिल्ली: पिछले सत्र में घरेलू बाजार में जोरदार उछाल के बाद मंगलवार को मुनाफावसूली के दबाव में शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 382.87 अंक फिसलकर 38,969.80 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 119.15 अंकों की गिरावट के साथ 11,709.10 पर बंद हुआ। 

बंबई स्टॉक एक्सचेंज के 30 शेयरों वाला प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 96.78 अंकों की तेजी के साथ 39,449.45 पर खुला, और 382.87 अंकों की गिरावट के साथ 38,969.80 पर बंद हुआ। दिन के कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 39,571.73 ऊपरी और 38,884.85 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मालकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही। मिडकैप सूचकांक 124.02 अंकों यानी 0.89 फीसदी गिरावट के साथ 14,695.42 पर बंद हुआ और स्मॉलकैप सूचकांक 87.96 अंकों यानी 0.61 फीसदी गिरावट के साथ 14,292.55 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी सुबह 35.40 अंकों की तेजी के साथ 11,863.65 पर खुला और 119.15 अंकों की गिरावट के साथ 11,709.10 पर बंद हुआ। दिन भर के कारोबार के दौरान निफ्टी ने 11,883.55 के ऊपरी और 11,682.80 के निचले स्तर को छुआ।

सेंसेक्स के 19 में 17 सेक्टरों में गिरावट और मात्र दो सेक्टरों में तेजी रही।

गिरावट वाले प्रमुख सेक्टरों में ऑटो (2.60 फीसदी), टेलीकॉम (1.61 फीसदी), धातु (1.55 फीसदी), प्रौद्योगिकी (1.50 फीसदी), बैंकेक्स (1.48 फीसदी) शामिल रहे। जबकि तेजी वाले सेक्टर उपभोक्ता टिकाऊं वस्तुएं (0.65 फीसदी) और ऊर्जा (0.19 फीसदी) रहे।

सेंसेक्स के तीन शेयरों में तेजी और 27 में गिरावट रही। तेजी वाले शेयरों में रिलायंस (1.08 फीसदी), बजाज फाइनेंस (0.76 फीसदी) और हिंदुस्तानलीवर (0.62 फीसदी) रहे।

गिरावट वाले प्रमुख शेयरों में टाटा मोटर्स (7.05 फीसदी), टाटा मोटर्स लिमिटेड डीवीआर (6.42 फीसदी), मारुति (3.25 फीसदी), इंडसइंड बैंक (3.02 फीसदी), बजाज फाइनेंस (2.66 फीसदी), और एमएंडएम (2.26 फीसदी) शामिल रहे।

बीएसई में कारोबार का रुझान नकारात्मक रहा। कुल 1,709 शेयरों में गिरावट और 1,053 शेयरों में तेजी रही। जबकि 166 शेयर के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ।

--आईएएनएस

 

 

Published in बिजनेस

नई दिल्ली: पिछले सत्र में घरेलू बाजार में जोरदार उछाल के बाद मंगलवार को मुनाफावसूली के दबाव में शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 282.87 अंक फिसलकर 38,969.80 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 119.15 अंकों की गिरावट के साथ 11,709.10 पर बंद हुआ। 

बंबई स्टॉक एक्सचेंज के 30 शेयरों वाला प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 96.78 अंकों की तेजी के साथ 39,449.45 पर खुला, और 282.87 अंकों की गिरावट के साथ 38,969.80 पर बंद हुआ। दिन के कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 39,571.73 ऊपरी और 38,884.85 के निचले स्तर को छुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी सुबह 35.40 अंकों की तेजी के साथ 11,863.65 पर खुला और 119.15 अंकों की गिरावट के साथ 11,709.10 पर बंद हुआ। दिन भर के कारोबार के दौरान निफ्टी ने 11,883.55 के ऊपरी और 11,682.80 के निचले स्तर को छुआ।

सेंसेक्स के 19 में 17 सेक्टरों में गिरावट और मात्र दो सेक्टरों में तेजी रही।

गिरावट वाले प्रमुख सेक्टरों में ऑटो (2.60 फीसदी), धातु (1.55 फीसदी), प्रौद्योगिकी (1.50 फीसदी), बैंकेक्स (1.48 फीसदी) शामिल रहे। जबकि तेजी वाले सेक्टर उपभोक्ता टिकाऊं वस्तुएं (0.65 फीसदी) और ऊर्जा (0.19 फीसदी) रहे।

--आईएएनएस

 

 

Published in बिजनेस

नई दिल्ली: भारतीय शेयर बाजार में लगातार सातवें सप्ताह तेजी का सिलसिला जारी रहा और सप्ताह के दौरान सेंसेक्स में रिकॉर्ड स्तर 39,270.14 तक उछल दर्ज किया गया। हालांकि उसके बाद मुनाफावसूली के कारण गिरावट दर्ज की गई, फिर भी पिछले सप्ताह के मुकाबले इस सप्ताह घरेलू शेयर बाजार के प्रमुख संवेदी सूचकांकों में बढ़त दर्ज की गई।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज के प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह के मुकाबले इस सप्ताह 189.32 अंक यानी 0.49 फीसदी ऊपर 38,862.23 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 42.05 अंक यानी 0.36 फीसदी की बढ़त के साथ 11,665.95 पर बंद हुआ।

बीएसई का मिड-कैप सूचकांक साप्ताहिक आधार पर 29.74 अंक यानी 0.19 फीसदी बढ़त के साथ 15,509.36 पर बंद हुआ, जबकि बीएसई का स्मॉल कैप सूचकांक 18.51 अंक यानी 0.12 फीसदी बढ़त के साथ 15,045.87 पर बंद हुआ।

सप्ताह के आरंभ में सोमवार को शेयर बाजार में तेजी दर्ज की गई और सेंसेक्स 198.96 अंक यानी 0.51 फीसदी ऊपर उठकर 38,871.87 पर बंद हुआ। निफ्टी सोमवार को 31.70 अंक यानी 0.27 फीसदी की बढ़त के साथ 11,655.60 पर बंद हुआ।

घरेलू शेयर बाजार में तेजी का सिलसिला मंगलवार को भी जारी रहा और सेंसेक्स रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद 39,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर रहा। सेंसेक्स मंगलवार को 184.78 अंक यानी 0.48 फीसदी तेजी के साथ 39,056.65 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 44.05 अंक यानी 0.38 फीसदी की बढ़त के साथ 11,713.20 पर बंद हुआ।

सप्ताह के तीसरे कारोबारी सत्र में बुधवार को मुनाफावसूली के कारण सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट दर्ज की गई। हालांकि कारोबार के दौरान सेंसेक्स अब तक के सबसे ऊंचे स्तर 39,270.14 तक उछला। सेंसेक्स 179.53 अंक यानी 0.46 फीसदी गिरावट के साथ 38,877.12 पर और निफ्टी 69.25 अंक यानी 0.59 फीसदी गिरावट के साथ 11,643.95 पर बंद हुआ।

अगले दिन गुरुवार को भारतीय रिजर्व बैंक ने प्रमुख ब्याज दर यानी रेपो रेट को 6.25 फीसदी से घटाकर छह फीसदी कर दिया। हालांकि इस कटौती के बाद बाजार में गिरावट दर्ज की गई। सेंसेक्स 192.40 अंक यानी 0.49 फीसदी गिरावट के साथ 38,684.72 पर और निफ्टी 45.95 अंक यानी 0.39 फीसदी गिरावट के साथ 11,598 पर रहा।

लगातार दो सत्रों की गिरावट के बाद कारोबारी सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को सेंसक्स 177.51 अंक यानी 0.46 फीसदी गिरावट के साथ 38,862.23 पर रहा, जबकि निफ्टी 67.95 अंक यानी 0.59 फीसदी गिरावट के साथ 11,665.95 पर बंद हुआ।

--आईएएनएस

 

 

Published in बिजनेस

मुंबई: इस बार मानसून कमजोर रहने की आशंकाओं और लगातार चार सत्रों की तेजी के बाद मुनाफावसूली हावी होने के बारण घरेलू शेयर बाजार में बुधवार को गिरावट दर्ज की गई।

प्रमुख संवेदी सूचकांक पिछले सत्र के मुकाबले नीचे बंद हुए हालांकि चीन की अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत और अमेरिका व चीन के बीच व्यापारिक वार्ता की सकारात्मक संभावनाओं से वैश्विक बाजारों से तेजी के रुझान देखने को मिले।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 179.53 अंक यानी 0.46 फीसदी की गिरावट के साथ 38,877.12 पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक निफ्टी भी 69.25 अंक यानी 0.59 फीसदी फिसलकर 11,643.95 पर बंद हुआ।

इससे पहले, बेंचमार्क सेंसेक्स 39,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार करने के एक दिन बाद अब तक के सबसे ऊंचे स्तर तक उछला। निफ्टी भी बुधवार को 11,761 के रिकॉर्ड ऊंचाई तक उछला।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के दीपक जसानी ने कहा, "बहुत कम मार्जिन से निफ्टी सबसे ऊंचे स्तर तक उछला। निजी मौसम पूर्वानुमानकर्ता द्वारा इस साल मानसून के सामान्य से कमजोर रहने का अनुमान करने के बाद बिकवाली का दबाव दिखा।"

स्काइमेट ने बुधवार को कहा कि इस साल मानसूनी बारिश सामान्य से कमजोर रहने की संभावना है।

--आईएएनएस

 

 

Published in बिजनेस

नई दिल्ली: पिछले सप्ताह लिवाली बढ़ने से घरेलू शेयर बाजार गुलजार रहा, लेकिन इस सप्ताह बाजार की नजर विदेशी संकेतों व सप्ताह के दौरान जारी होने वाले आर्थिक आंकड़ों पर होगी। खासतौर से डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल और कच्चे तेल के भाव की तेजी या मंदी से भारतीय शेयर बाजार का रुख तय होगा। घरेलू व वैश्विक आर्थिक आंकड़ों व घटनाक्रमों का भी बाजार पर असर देखने को मिल सकता है। बाजार की नजर विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों और घरेलू संस्थागत निवेशकों के निवेश संबंधी रुझानों पर होगी।

सप्ताह के दौरान मंगलवार को चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में देश के चालू खाते के आंकड़े जारी हो सकते हैं। इससे पहले दूसरी तिमाही में भारत का चालू खाता घाटा बढ़कर 19.1 अरब डॉलर यानी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 2.9 फीसदी हो गया था, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में चालू खाता घाटा 6.9 अरब डॉलर यानी जीडीपी का 1.1 फीसदी था।

भारतीय शेयर बाजार को इस सप्ताह विदेशी संकेतों से दिशा मिल सकती है, क्योंकि अमेरिका और इंग्लैंड के केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दर निर्धारण को लेकर फैसले किए जा सकते हैं।

अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की दो दिवसीय बैठक होने वाली है, जिसमें ब्याज दर को लेकर फैसले किए जा सकते हैं। फेड ने 30 जनवरी, 2019 को ब्याज दर 2.25-2.5 फीसदी के रेंज में रखी थी। उधर, बैंक ऑफ इंग्लैंड गुरुवार को ब्याज दरों के निर्धारण को लेकर फैसला ले सकता है।

इसके अलावा यूके में बेरोजगारी लाभ का दावा करने वालों के फरवरी महीने के आंकड़े मंगलवार को जारी हो सकते हैं। जनवरी में यूके में 14,200 लोगों ने बेरोजगारी लाभ के दावे किए थे। यह आंकड़ा दिसंबर में 20,200 था। यूके में फरवरी महीने की महंगाई के आंकड़े बुधवार को जारी हो सकते हैं। इससे पहले जनवरी में महंगाई दर 1.8 फीसदी दर्ज की गई थी।

जापान में फरवरी महीने के व्यापार संतुलन के आंकड़े सोमवार को आ सकते हैं। जनवरी में जापान में व्यापार घाटा 1,415 अरब येन था। जापान में फरवरी महीने की महंगाई दर के आंकड़े शुक्रवार को जारी हो सकते हैं। जनवरी में वहां महंगाई दर 0.2 फीसदी दर्ज की गई थी।

सप्ताह के दौरान होली के अवकाश के कारण गुरुवार को घरेलू शेयर बाजार में कारोबार बंद रहेगा।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

बीते सप्ताह शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव के बीच अच्छी तेजी दर्ज की गई, जबकि बुधवार को ईद-उल-जुहा के मौके पर शेयर बाजार बंद रहे। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 303.92 अंकों या 0.80 फीसदी की तेजी के साथ 38,251.80 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 86.35 अंकों या 0.75 फीसदी की तेजी के साथ 11,557.10 पर बंद हुआ। साप्ताहिक आधार पर बीएसई का मिडकैप सूचकांक 246.30 अंकों या 1.51 फीसदी की तेजी के साथ 16,552.74 पर तथा स्मॉलकैप सूचकांक 1.78 अंकों या 0.01 फीसदी की तेजी के साथ 16,864.43 पर बंद हुआ। 

सोमवार को शेयर बाजारों की सकारात्मक शुरुआत हुई और सेंसेक्स 330.87 अंकों या 0.87 फीसदी की तेजी के साथ 38,278.75 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 81 अंकों या 0.71 फीसदी की तेजी के साथ 11,551.75 पर बंद हुआ।

मंगलवार को शेयर बाजार में मामूली तेजी का दौर रहा और सेंसेक्स सात अंकों या 0.02 फीसदी की तेजी के साथ 38,285.75 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 19.15 अंकों या 0.17 फीसदी की तेजी के साथ 11.570.90 पर बंद हुआ। 

गुरुवार को शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी रहा और सेंसेक्स 51.01 अंकों या 0.13 फीसदी की तेजी के साथ 38,336.76 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 11.85 अंकों या 0.10 फीसदी तेजी के साथ 11,582.75 पर बंद हुआ।

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को सेंसेक्स 84.96 अंकों या 0.22 फीसदी की गिरावट के साथ 38,251.80 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 25.65 अंकों या 0.22 फीसदी की गिरावट के साथ 11,557.10 पर बंद हुआ। 

बीते सप्ताह सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे -लार्सन एंड टूब्रो (8.26 फीसदी), ओएनजीसी (7.23 फीसदी), विप्रो (4.54 फीसदी), टीसीएस (1.51 फीसदी), महिंद्रा एंड महिंद्रा (0.81 फीसदी), मारुति सुजुकी इंडिया (0.17 फीसदी) और एक्सिस बैंक (1.99 फीसदी)।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे -इंफोसिस (3.59 फीसदी), टाटा मोटर्स (0.68 फीसदी), हीरो मोटोकॉर्प (1.11 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (0.32 फीसदी), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (0.56 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (2.93 फीसदी) और यस बैंक (4.66 फीसदी)। 

आर्थिक मोर्चे पर, अमेरिका और चीन के बीच 23 अगस्त को हुई व्यापार वार्ता में गतिरोध पर कोई प्रगति नहीं देखी गई। इससे पहले चीन और अमेरिका ने एक-दूसरे के देश से आयात किए जानेवाले सामानों पर नए शुल्क लगाए। इससे दोनों ही देशों का करीब 16-16 अरब डॉलर का निर्यात प्रभावित हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन से आयात किए जाने वाले 100 अरब डॉलर के सामानों पर अब तक शुल्क लगा चुके हैं। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

अगले सप्ताह शेयर बाजार की चाल भारत और चीन के बीच चल रही व्यापार वार्ता के नतीजे, घरेलू और वैश्विक बाजारों के व्यापक आर्थिक आंकड़े, प्रमुख कंपनियों के तिमाही नतीजे, मॉनसून की चाल, वैश्विक बाजारों के रुख, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) और घरेलू संस्थापक निवेशकों (डीआईआई) द्वारा किए गए निवेश, डॉलर के खिलाफ रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतों का प्रदर्शन मिलकर तय करेंगे। देश के शेयर बाजार बुधवार (22 अगस्त) को बकरीद के अवसर पर बंद रहेंगे। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने अपनी 16 अगस्त को जारी रिपोर्ट में कहा कि दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के दौरान 1 जून से 15 अगस्त तक कुल बारिश दीर्घकालिक औसत (एलपीए) से 9 फीसदी कम रही है। जून से सिंतबर तक दक्षिण पश्चिम मॉनसून का मौसम देश के कृषि के लिए बेहद महत्वपूर्ण है कि क्योंकि अभी भी देश की खेती का बड़ा हिस्सा सिंचाई के लिए वर्षा के पानी पर ही निर्भर है। 

वैश्विक मोर्चे पर, निवेशकों की अमेरिका और चीन के बीच चल रही व्यापार वार्ता पर नजर है। खबरों के मुताबिक, चीन का एक प्रतिनिधिमंडल वाशिंगटन में अमेरिकी प्रतिनिधियों से 21 और 22 अगस्त को बैठक करेगा। हाल के महीनों में अमेरिका और चीन एक दूसरे पर निर्यात शुल्क बढ़ाते जा रहे हैं, क्योंकि दोनों देशों के बीच व्यापार घाटे को लेकर असहमति है। इसके कारण निवेशक संभावित व्यापार युद्ध की आशंका चिंतिंत है, क्योंकि अगर ऐसा होता है तो वैश्विक आर्थिक मंदी छा सकती है। 

अमेरिका की केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व अपनी मुक्त बाजार समिति की बैठक के मिनट्स 22 अगस्त को जारी करेगी, यह बैठक 31 जुलाई और 1 अगस्त को हुई थी। इस बैठक के मिनट्स से व्यापार से जुड़े संभावित जोखिम को लेकर समिति के आर्थिक मूल्यांकन की जानकारी मिलेगी। फेडरल रिजर्व ने अपनी अगस्त की बैठक में संघीय निधि दर के लिए लक्ष्य सीमा 1.75 फीसदी से 2 फीसदी तय की थी। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

 देश के शेयर बाजारों में इस सप्ताह के पहले कारोबारी दिन पिछले सप्ताह की तेजी का असर देखा जा रहा है. दोनों ही प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी तेजी के साथ कारोबार कर रहे हैं. सुबह 9.17 बजे सेंसेक्स 71 अंक ऊपर 37,408 और निफ्टी 22 अंक ऊपर 11,300 पर काराबोर कर रहा था. आज सुबह 9.25 के करीब सेंसेक्स ने 37496 की ऐतिहासिक ऊंचाई छुई है. वहीं निफ्टी ने भी 11309 की सर्वकालिक ऊंचाई को छुआ था. इसके बाद 9.50 बजे के करीब सेंसेक्स ने 37,352 का नया कीर्तिमान बनाया.

देश के शेयर बाजार सोमवार को मजबूती के साथ खुले. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 9.28 बजे 66.05 अंकों की मजबूती के साथ 37,402.90 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 21.60 अंकों की बढ़त के साथ 11,299.95 पर कारोबार करते देखे गए. 

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 154.54 अंकों की मजबूती के साथ 37,491.39 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 18.3 अंकों की बढ़त के साथ 11,296.65 पर खुला.

बता दें कि नरेंद्र मोदी सरकार के संसद में अविश्वास प्रस्ताव के जीतने से बीते सप्ताह घरेलू बाजारों में मजबूती दर्ज की गई थी. इसके साथ ही 88 वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) की दर में कमी का भी सकारात्मक असर रहा. साथ ही प्रमुख कंपनियों के उम्मीद से बेहतर जून तिमाही के नतीजों ने भी निवेशकों का आत्मविश्वास लौटाया है. साप्ताहिक आधार पर, सेंसेक्स 840.48 अंकों या 2.30 फीसदी की तेजी के साथ 37,336.85 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 268.15 अंकों या 2.44 फीसदी की तेजी के साथ 11,278.35 पर बंद हुआ था. बीएसई का मिडकैप सूचकांक 716.16 अंकों या 4.71 फीसदी की तेजी के साथ 15,912.62 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 728.77 अंकों या 4.64 फीसदी की तेजी के साथ 16,450.20 पर बंद हुआ था.

सोमवार को शेयर बाजार की सकारात्मक शुरुआत हुई था. सेंसेक्स 222.23 अंकों या 0.61 फीसदी की तेजी के साथ 36,718.60 पर तथा निफ्टी 74.55 अंकों या 0.68 फीसदी की तेजी के साथ 11,084.75 पर बंद हुआ था. मंगलवार को सीमेंट और वाहन शेयरों में जोरदार तेजी दर्ज की गई, जिसके असर से सेंसेक्स 106.50 अंकों या 0.29 फीसदी की तेजी के साथ 36,825.10 पर बंद हुआ था. वहीं, निफ्टी 49.55 अंकों या 0.45 फीसदी की तेजी के साथ 11,134.30 पर बंद हुआ था. 

बुधवार को सेंसेक्स में मामूली तेजी और निफ्टी में मामूली गिरावट दर्ज की गई थी. सेंसेक्स 33.12 अंकों या 0.09 फीसदी की तेजी के साथ 36,858.23 पर बंद हुआ और निफ्टी 2.30 अंकों या 0.02 फीसदी की गिरावट के साथ 11,132 पर बंद हुआ था. गुरुवार को शेयर बाजार में तेजी लौटी और सेंसेक्स 126.41 अंकों या 0.34 फीसदी की तेजी के साथ 36,984.64 पर बंद हुआ था. वहीं, निफ्टी 35.30 अंकों या 0.32 फीसदी की तेजी के साथ 11,167.30 पर बंद हुआ था. 

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को बाजार में अच्छी मजबूती दर्ज की गई और सेंसेक्स 352.21 अंकों या 0.95 फीसदी की तेजी के साथ 37,336.85 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 111.05 अंकों 0.99 फीसदी की तेजी के साथ 11,278.35 पर बंद हुआ था. 

 

बीते सप्ताह सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे - आईटीसी (10.51 फीसदी), टाटा मोटर्स (5.64 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (10.26 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (0.54 फीसदी), लार्सन एंड टूब्रो (3.31 फीसदी), एशियन पेंट्स (2.60 फीसदी), भारती एयरटेल (4.76 फीसदी) और अडानी पोर्ट्स (6.58 फीसदी).

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे - मारुति सुजुकी इंडिया (0.76 फीसदी), हीरो मोटोकॉर्प (5.32 फीसदी), बजाज ऑटो (5.74 फीसदी), यस बैंक (4.33 फीसदी) और विप्रो (3.02 फीसदी).

राजनीति के मोर्चे पर, निचले सदन में 12 घंटे तक चली बहस के बाद शुक्रवार (20 जुलाई) को नरेंद्र मोदी सरकार ने लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव जीत लिया. सदन के 451 सदस्यों में, 126 सदस्यों ने प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया, जबकि 325 वोट इसके खिलाफ दिए गए. अविश्वास प्रस्ताव तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) द्वारा लाया गया था और कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों ने इसका समर्थन किया था. 

इस बीच, शनिवार (21 जुलाई) जीएसटी परिषद की 28 वीं बैठक में 88 सामानों और सेवाओं पर कर दरों में कमी की घोषणा की गई. संशोधित कर दरें 27 जुलाई (शुक्रवार) से लागू हो गई है. 

आर्थिक मोर्चे पर, ब्रिक्स देशों को किए जानेवाले निर्यात में वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 7.5 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है.

विदेशी मोर्चे पर, अमेरिका में वस्तुओं का व्यापार घाटा जून में 5.5 फीसदी या 3.6 अरब डॉलर ढ़कर 68.3 अरब डॉलर हो गया. अमेरिका के वाणिज्य विभाग ने गुरुवार (26 जुलाई) को यह जानकारी दी. यूरोप में, यूरोपीय केंद्रीय बैंक (ईसीबी) ने ब्याज दरों को अपरिवर्तित रखा है.

 

Published in बिजनेस

देश के शेयर बाजारों में गुरुवार को तेजी दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 416.27 अंकों की तेजी के साथ 35,322.38 पर और निफ्टी 121.80 अंकों की तेजी के साथ 10,736.15 पर बंद हुआ। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 177.7 अंकों की तेजी के साथ 35,083.81 पर खुला और 416.27 अंकों या 1.19 फीसदी की तेजी के साथ 35,322.38 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 35,416.03 के ऊपरी और 34,926.08 के निचले स्तर को छुआ।  

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में गिरावट रही। मिडकैप सूचकांक 38.93 अंकों की गिरावट के साथ 16,013.81 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 98.27 अंकों की गिरावट के साथ 17,249.45 पर बंद हुए। 

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 55.75 अंकों की तेजी के साथ 10,670.10 पर खुला और 121.80 अंकों या 1.15 फीसदी की तेजी के साथ 10,736.15 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,763.80 के ऊपरी और 10,620.40 के निचले स्तर को छुआ। 

बीएसई के 19 में से 8 सेक्टरों में तेजी रही। बैंकिंग (1.91 फीसदी), वित्त (1.71 फीसदी), तेल और गैस (1.17 फीसदी), ऊर्जा (0.80 फीसदी) और सूचना प्रौद्योगिकी (0.75 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे - उपभोक्ता टिकाऊ वस्तु (0.97 फीसदी), रियल्टी (0.85 फीसदी), स्वास्थ्य सेवाएं (0.83 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (0.63 फीसदी) और औद्योगिक (0.58 फीसदी)। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

देश के शेयर बाजारों में सोमवार को तेजी दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 240.61 अंकों की तेजी के साथ 35,165.48 पर और निफ्टी 83.50 अंकों की तेजी के साथ 10,688.65 पर बंद हुआ। 

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 149.45 अंकों की तेजी के साथ 35,074.32 पर खुला और 240.61 अंकों या 0.69 फीसदी की तेजी के साथ 35,165.48 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 35,240.96 के ऊपरी और 35,006.50 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में तेजी रही। मिडकैप सूचकांक 214.67 अंकों की तेजी के साथ 16,119.08 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 274.43 अंकों की तेजी के साथ 17,425.86 पर बंद हुए।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 43.2 अंकों की तेजी के साथ 10,648.35 पर खुला और 83.50 अंकों या 0.79 फीसदी की तेजी के साथ 10,688.65 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,709.80 के ऊपरी और 10,640.55 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से 17 सेक्टरों में तेजी रही। पूंजीगत वस्तुएं (2.50 फीसदी), तेल और गैस (2.47 फीसदी), स्वास्थ्य (2.11 फीसदी), उद्योग (1.71 फीसदी) और रियल्टी (1.58 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के सूचना प्रौद्योगिकी (0.72 फीसदी) और प्रौद्योगिकी (1.33 फीसदी) में गिरावट रही।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस