नई दिल्ली: रक्षामंत्री एवं भाजपा नेता निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है।

राफेल मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष ने सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर की गई अपनी टिप्पणी पर खेद जताया है, जिसके बाद सीतारमण ने उन पर निशाना साधा।

सर्वोच्च न्यायालय ने 'चौकीदार चोर है' बयान को उससे जोड़ने पर कांग्रेस अध्यक्ष से जवाब मांगा था। सोमवार को राहुल गांधी ने अपने जवाब में माना कि अदालत ने ऐसा कभी नहीं कहा।

एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सीतारमण ने कहा कि संबंध बेहतर करने के लिए कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम द्वारा पाकिस्तान के प्रति भारत के व्यवहार को बदलने के आग्रह से पता चलता है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को कांग्रेस गंभीरता से नहीं लेती।

गांधी पर हमला बोलते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि 'राजनीतिक सुविधा' और 'अदालत की अवमानना' से बचने के लिए ही उन्होंने खेद व्यक्त किया।

सीतारमण ने कहा, "अदालत के प्रकोप से बचने के लिए उन्होंने खेद प्रकट किया है। मैं निश्चित रूप से कहूंगी कि यह विश्वसनीयता का मामला है जो तब बुरी तरह से प्रभावित होती है, जब सार्वजनिक जीवन में लोग ऐसी परिस्थिति में पहुंच जाते हैं जहां उन्हें असत्य के आधार पर कही गई अपनी बात पर बाद में खेद जताना पड़ता है। राहुल गांधी की विश्वसनीयता पर विपरीत असर पड़ा है। वह लगातार झूठ बोल रहे हैं। यह दुख की बात है।"

सीतारमण ने कहा कि उन्हें 'अफसोस होता है कि कांग्रेस झूठ पर निर्भर है।'

उन्होंने कांग्रेस से यह स्पष्ट करने को कहा कि पाकिस्तान के संबंध में सरकार से वह कौन सा व्यवहार परिवर्तन चाहती है।

सीतारमण ने पूछा कि क्या वे चाहते हैं कि हम आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करना बंद कर दें? क्या वे चाहते हैं कि हम अपने क्षेत्र को लेकर समझौता करें? क्या वे चाहते हैं कि भारत सरकार यह कहे कि जम्मू एवं कश्मीर एक विवादित क्षेत्र है?

उन्होंने कहा कि यह 'आश्चर्यजनक' है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदंबरम व्यवहार परिवर्तन चाहते थे।

उन्होंने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि चुनाव के दौरान भी कांग्रेस की ओर से ऐसे बयान आते हैं।

--आईएएनएस

 

 

Published in देश

लखनऊ: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राहत देते हुए चुनाव आयोग ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के अमेठी लोकसभा क्षेत्र से उनका नामांकन वैध है। 

एक निर्दलीय उम्मीदवार ने शनिवार को राहुल गांधी द्वारा भरे गए नामांकन पत्र में उनकी नागरिकता और शैक्षणिक योग्यता को लेकर सवाल उठाये थे।

शिकायतकर्ता ध्रुव राज के वकील रवि प्रकाश ने दावा किया था कि उनके पास ऐसे दस्तावेज हैं, जिन से यह पता चलता है कि राहुल गांधी ब्रिटिश नागरिक थे।

मामले पर सवाल खड़ा करते हुए भाजपा के प्रवक्ता जी.वी.एल. नरसिंह ने भी कांग्रेस से जवाब मांगा था।

अमेठी के जिला कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्र मिश्रा ने सोमवार को कहा कि आरोपों का कानूनी रूप से जवाब दिया गया था, जिसके बाद राहुल गांधी का नामांकन वैध घोषित किया गया।

--- आईएएनएस

 

 

Published in देश

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मामले में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर की गई 'चौकीदार चोर है' वाली अपनी टिप्पणी को लेकर सोमवार को सर्वोच्च न्यायालय से माफी मांग ली। उन्होंने माना कि 'अदालत ने कभी ये शब्द नहीं कहे।'

राहुल गांधी ने उनके खिलाफ भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी द्वारा दायर याचिका के जवाब में यह कहा।

राहुल ने कहा कि राफेल मामले में प्रधानमंत्री के खिलाफ उनकी राजनीतिक बयानबाजी एक चुनाव प्रचार अभियान की गहमा-गहमी के दौरान की गई थी।

हालांकि, उन्होंने कहा कि उनका और उनकी पार्टी का रुख अब यही है कि 'चौकीदार चोर है'।

---आईएएनएस

 

 

Published in देश

अमेठी: लोकसभा चुनाव 2019 में दस अप्रैल को अमेठी से अपना नामांकन करने वाले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर रहेंगे। राहुल गांधी अमेठी में आज तीन चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ रहे हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर है। इसी दौरान राहुल का काफिला सड़क मार्ग से बाराबंकी-हैदरगढ़ के रास्ते निकला। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बाराबंकी में मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने यहां पर चौकीदार चोर है के नारे लगवाए।

सुप्रीम कोर्ट में चौकीदार चोर है के बयान को लेकर खेद जताने वाले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज अमेठी जाते समय बाराबंकी में चौकीदार चोर है के नारे लगवाए। राहुल गांधी ने कहा कि मोदी जी ने सिर्फ 15 लोगों का 5 लाख 55 हजार करोड़ रुपये माफ किया। राफेल विमान खरीद में चोरी की। हवाई जहाज फ्रांस में बनवाया, लेकिन गरीबों के लिए उनके पास पैसा नहीं है। नोटबंदी कर किसान और मजदुरों को लाइन में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद हम दो बजट लाएंगे। जिसमें एक नेशन और दूसरा किसान के लिए होगा। कांग्रेस की सरकार बनी तो कर्जदार किसान कर्ज न चुका पाने पर जेल नहीं जाएंगे। हम आपकी जेब में पैसा डालने वाले हैं। हिंदुस्तान के 20 फीसद लोगों के खातों में सीधे 7200 हजार रुपये डालना चाहते हैं। हम पांच करोड़ महिलाओं के खाते में 6 हजार रूपये प्रतिमाह और सालाना 72 हजार देंगे। 22 लाख सरकारी नौकरी के पद खाली हैं। उन्हें एक साल में भरेंगे। इस दौरान राहुल गांधी ने चौकीदार चोर के नारे लगवाए।

वायनाड (केरल): कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने रविवार को कहा कि अगर उनके भाई और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी कहेंगे तो वह वाराणासी से चुनाव लड़ने को तैयार हैं।

वायनाड लोकसभा क्षेत्र में अपने भाई के समर्थन में प्रचार के लिए दो दिवसीय दौरे पर आईं प्रियंका ने यहां से रवाना होने से पहले यह बात कही। राहुल अपनी पारंपरिक सीट अमेठी के अलावा वायनाड से भी चुनाव लड़ रहे हैं।

प्रियंका गांधी ने कहा, "अगर राहुल गांधी कहेंगे तो मैं चुनाव लड़ने के लिए तैयार हूं और मैं वाराणासी से लड़ूंगी।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणासी से चुनाव लड़ रहे हैं।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री पद के लिए सीधी टक्कर में आंध्र प्रदेश, पंजाब, केरल और तमिलनाडु के अधिकांश मतदाता राहुल गांधी को वोट देंगे, लेकिन देश के बाकी हिस्सों में नरेंद्र मोदी पसंदीदा विकल्प बने हुए हैं। सीवोटर-आईएएनएस पोल ट्रैकर में यह खुलासा हुआ है।

19 अप्रैल को किए गए एक सर्वेक्षण में, मतदाताओं से पूछा गया था कि अगर उन्हें सीधे भारत के प्रधानमंत्री का चुनाव करने का मौका दिया जाए तो वे राहुल और मोदी में से किसे चुनेंगे। राष्ट्रीय स्तर पर मोदी राहुल से 26.10 प्रतिशत के साथ आगे पाए गए।

लेकिन राज्य स्तर पर अलग-अलग आंकड़े दर्शाते हैं कि केरल में 64.96 प्रतिशत मतदाता राहुल को प्रधानमंत्री बनता देखना चाहते हैं जबकि सिर्फ 23.97 प्रतिशत ने मोदी का समर्थन किया।

राष्ट्रीय स्तर की पसंद से अलग राय रखने वाले अन्य राज्यों में तमिलनाडु शामिल है जहां सर्वे में शामिल 60.91 प्रतिशत लोगों ने राहुल को पसंद किया और केवल 26.93 प्रतिशत ने मोदी को अपनी पसंद बनाया। पंजाब में 37.04 प्रतिशत ने राहुल को और 36.05 प्रतिशत ने मोदी को अपनी पसंद बताया।

चारों ही राज्यों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का शासन नहीं है।

जहां राष्ट्रीय स्तर पर 11,192 लोगों से सवाल पूछा गया, वहीं राज्य स्तर पर आंध्र प्रदेश में 451 लोगों से, केरल में 701 लोगों से, तमिलनाडु में 533 लोगों से और पंजाब में 502 लोगों से सवाल पूछा गया।

मोदी आंध्र प्रदेश में राहुल से 11.00 प्रतिशत से, केरल में 40.99 प्रतिशत से, तमिलनाडु में 33.93 प्रतिशत से और पंजाब में 0.99 प्रतिशत से पीछे हैं। सबसे ज्यादा हरियाणा में राहुल से ज्यादा मोदी (61.50 प्रतिशत) के पक्ष में लहर है।

हरियाणा में कांग्रेस अध्यक्ष को भी कम से कम पसंद किया जाता है क्योंकि केवल 14.92 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने उनका पक्ष लिया।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: भाजपा ने शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर उनके चुनावी शपथ-पत्र में नागरिकता और शैक्षणिक योग्यता के संबंध में कथित विसंगतियों को लेकर निशाना साधा। 

पार्टी मुख्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए भाजपा प्रवक्ता जी.वी.एल. नरसिम्हा राव ने कहा, "आज पूरा देश स्तब्ध है कि राहुल गांधी और उसके वकील राहुल कौशिक अमेठी के निर्वाचन अधिकारी द्वारा मांगी गई नामांकन पत्र की कुछ जानकारियों को बता नहीं पाए।"

राव ने कहा कि अमेठी में उम्मीदवारों द्वारा उठाए गए प्रश्न वास्तव में गंभीर हैं, इतने गंभीर हैं कि राहुल के कानूनी प्रतिनिधि भी इन आपत्तियों के जवाब नहीं दे पाए।

उन्होंने यह बयान ऐसे समय दिया है, जब एक निर्दलीय उम्मीदवार ध्रुव लाल ने अमेठी की एक अदालत में राहुल गांधी की शैक्षणिक योग्यता और नागरिकता को लेकर स्पष्टीकरण मांगा है।

राहुल गांधी के प्रतिनिधि ने जवाब और स्पष्टीकरण के लिए समय मांगा और उन्हें 22 अप्रैल 10.30 बजे तक का समय दिया गया है।

उन्होंने कहा, "हम चाहेंगे कि कांग्रेस इन प्रश्नों का जवाब आज दे और हम राहुल गांधी से भी इसका जवाब आज चाहते हैं।"

राव ने राहुल द्वारा 2004 के चुनावी शपथ-पत्र में संदर्भित कंपनी, जिसमें उन्होंने निवेश किया था, के बारे में जानकारी मांगी।

भाजपा नेता ने कहा कि कंपनी का नाम बैकऑप्स लिमिटेड है। यह कंपनी लंदन में पंजीकृत है, जिसके राहुल गांधी एक निदेशक हैं।

उन्होंने कहा, "इस कंपनी द्वारा ब्रिटेन के अधिकारियों को जमा कराया गया आधिकारिक दस्तावेज एसोसिएशंस के ज्ञापन के रूप में और 21 अगस्त, 2005 को समाप्त हुए वार्षिक रिटर्न की अवधि के रूप में है। इसलिए 2005 में ब्रिटेन के अधिकारियों को जमा कराया गया दस्तावेज स्पष्ट बताता है कि वह ब्रिटेन के एक नागरिक हैं। और अगर वह ब्रिटेन के नागरिक हैं तो वह खुद ब खुद भारत की नागरिकता खो चुके हैं, क्योंकि नागरिकता अधिनियम विधेयक 1955 स्पष्ट रूप से बताता है कि भारत का कोई भी नागरिक जिसके पास दूसरे देश की भी नागरिकता है, वह भारत की नागरिकता से वंचित हो जाता है।"

कांग्रेस नेता पर निशाना साधते हुए, भाजपा प्रवक्ता ने कहा, "हम राहुल गांधी से पूछना चाहते हैं कि क्या आप वास्तव में 2005 में ब्रिटेन के नागरिक थे या इससे पहले या बाद में? और क्या यह आपको यहां का गैर-नागरिक नहीं बनाता?"

उन्होंने कहा, "एकबार जब आप अपनी नागरिकता खो देते हैं, तो आप कोई भी चुनाव लड़ने के योग्य नहीं रहते। उन्हें आज इस बारे में स्पष्ट बताना चाहिए और लोगों को उनकी नागरिकता की असली कहानी बतानी चाहिए।"

उन्होंने कहा, "2004 के चुनावी शपथ-पत्र में, केवल दो शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेज दिए गए थे। एक 1989 का माध्यमिक स्कूल सर्टिफिकेट और दूसरा ब्रिटेन के ट्रिनिटी कॉलेज से 1995 में प्राप्त एम.फिल की डिग्री। इसबीच उन्होंने किसी भी अन्य शैक्षणिक योग्यता का दस्तावेज पेश नहीं किया।"

उन्होंने कहा, "2009 और 2014 के शपथपत्रों में एक फिर अनियमतिता देखने का मिली। 2009 में उन्होंने एक और शैक्षणिक योग्यता दस्तावेज पेश कर दिया। उन्होंने 1994 में रोलिंग्स कॉलेज से प्राप्त बैचलर ऑफ आर्ट्स की डिग्री पेश कर दी। और फिर ट्रिनिटी कॉलेज से डेवलपमेंट इकोनोमिक्स से एम. फिल की डिग्री पेश कर दी।"

उन्होंने कहा, "2014 में उनके अगले शपथपत्र में यह डेवलपमेंट इकोनोमिक्स अब एम.फिल इन डेवलपमेंट स्टडीज बन गया।"

भाजपा नेता ने कहा कांग्रेस अध्यक्ष को या तो यह याद नहीं है कि उन्होंने क्या पढ़ाई की या फिर उनके पास अपनी डिग्री दिखाने के लिए दस्तावेज नहीं हैं।

राव ने कहा, "उन्होंने खुद को ब्रिटेन के बैकऑप्स कंपनी का एक निवेशकर्ता और निदेशक बताया। आय का क्या हुआ? क्या उन्होंने उस कंपनी में अपने मुनाफे को बेच दिया?"

--आईएएनएस

Published in देश

सुपौल (बिहार): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को यहां एक चुनावी सभा में केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार की गलत नीति के कारण 45 साल में आज देश में सबसे अधिक बेरोजगारी है। उन्होंने कहा कि आज गरीबों की जेब से पैसा निकालकर अमीरों की जेब में डाला जा रहा है। 

राहुल ने कांग्रेस की उम्मीदवार रंजीत रंजन के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि आज गरीबों के पास पैसा नहीं है, जिस कारण उनकी क्रयशक्ति समाप्त हो गई है, जिससे देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गई।

राहुल ने वादा किया कि कांग्रेस सत्ता में आई तो न्याय योजना लागू करेगी, जिसके तहत 12,000 रुपये से कम कमाने वाले लोगों को प्रत्येक वर्ष 72,000 रुपये की धनराशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस योजना से देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट आएगी, जिससे रोजगार भी बढ़ेगा।

राहुल ने कहा, "अगर कांग्रेस की सरकार आती है तो अगले साल देश में दो बजट पेश होंगे। एक सामान्य बजट और एक किसानों के लिए अलग से बजट होगा। आज किसान 20 हजार रुपये ऋण लेता है और उसे लौटा नहीं पाता है, तो सरकार उसे जेल में डाल देती है। चुनाव के बाद कर्ज नहीं चुकाने पर किसी भी किसान को जेल नहीं जाना पड़ेगा।"

राहुल ने कहा कि आज देश में बेरोजगारों की संख्या बढ़ी है। उन्होंने कहा कि 45 साल में आज देश में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। राहुल ने आरोप लगाया कि अभी जनता का पैसा पूंजीपतियों के खाते में जा रहा है, जबकि कांग्रेस की सरकार बनी तो उनका पैसा जनता के खाते में आएगा।

उन्होंने कहा कि अगर अमीरों के खाते में पैसे डाले जा सकते हैं, तो गरीबों के खाते में पैसे क्यों नहीं डाले जा सकते।

इससे पहले, राहुल के सुपौल पहुंचने पर निवर्तमान सांसद रंजीत रंजन ने उनका स्वागत किया।

इस चुनावी सभा में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी, रालोसपा के प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा उपस्थित रहे। हालांकि, राजद के नेता तेजस्वी यादव सभा में नहीं पहुंचे।

बिहार में लोकसभा चुनाव के सभी सात चरणों में मतदान होना है। सुपौल में तीसरे चरण में यानी 23 अप्रैल को मतदान होगा। 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे।

--आईएएनएस

Published in बिहार

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव-2019 के मद्देनजर आम आदमी पार्टी (AAM AADMI PARTY) के साथ गठबंधन नहीं होने की स्थिति में कांग्रेस (Congress) ने दिल्ली की सभी सातों सीटों (नई दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली, चांदनी चौक, उत्तर पूर्वी दिल्ली और उत्तर पश्चिमी दिल्ली) पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी कर ली है और सभी नाम तय कर लिए हैं। इनमें दो नामों में बदलाव किया गया है। सातों उम्मीदवारों की सूची को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी हस्ताक्षर कर दिया है। अब सातों सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों के नामों का एलान रविवार को बाकायदा पत्रकार वार्ता में किया जाएगा। 

मिली जानकारी के मुताबिक, नई दिल्ली से अजय माकन, दक्षिणी दिल्ली से रमेश कुमार, पश्चिमी दिल्ली से सुशील कुमार, उत्तर पूर्वी दिल्ली से जेपी अग्रवाल, चांदनी चौक से शीला दीक्षित, उत्तर पश्चिमी दिल्ली से राजेश लिलोठिया और पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से अरविंदर सिंह लवली उम्मीदवार होंगे।

वहीं, नई सूची में पश्चिमी दिल्ली से महाबल मिश्रा और उत्तर पश्चिमी दिल्ली से राजकुमार चौहान का टिकट कट गया है। महाबल के स्थान पर सुशील कुमार और राजकुमार के स्थान पर राजेश लिलोठिया चुनाव ल़ड़ेंगे।

यहां पर बता दें कि लोकसभा चुनाव-2019 की कड़ी में दिल्ली की सातों सीटों पर 12 मई को मतदान होना है। इसके लिए 16 अप्रैल से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, जो 23 अप्रैल तक चलेगी।

बताया जा रहा है कि दिल्ली की चार सीटों पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआइसीसी) की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक में 11 अप्रैल को ही उम्मीदवार कर दिए गए थे। इनमें नई दिल्ली से अजय माकन, चांदनी चौक से कपिल सिब्बल, उत्तर पूर्वी दिल्ली से जयप्रकाश अग्रवाल और उत्तर पश्चिमी दिल्ली से राजकुमार चौहान के नाम पर मुहर लगाई गई थी, जबकि तीन सीटों का फैसला इस बैठक में नहीं हो पाया था। अब नई सूची में राजकुमार चौहान टिकट कटा है और इनके स्थान पर राजेश लिलोठिया लड़ेंगे।

 

पटना: बिहार में लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के चुनाव को लेकर प्रचार अभियान ने जोर पकड़ लिया है। इसी क्रम में शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी बिहार पहुंच रहे हैं, जहां वे अपनी-अपनी चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अररिया लोकसभा के फारबिसगंज में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। उनकी सभा स्थानीय हवाई अड्डा परिसर में लगभग 11.30 बजे होगी। इसको देखते हुए पूरे इलाके की सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है।

इस सभा में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के प्रमुख रामविलास पासवान तथा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय भी हिस्सा लेंगे।

इधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी शनिवार को बिहार पहुंचेंगे जहां दोपहर को वे सुपौल में आयोजित एक चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे। यहां वे कांग्रेस की प्रत्याशी और सुपौल से निवर्तमान सांसद रंजीत रंजन के लिए वोट मांगेगे।

गांधी की इस सभा में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी और कांग्रेस के कई नेताओं के शामिल होने की संभावना है। गांधी की चुनावी सभा को लेकर आवश्यक सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

बिहार में लोकसभा चुनाव के सभी सात चरणों में मतदान होना है। सुपौल और अररिया में तीसरे चरण यानी 23 अप्रैल को मतदान होगा। 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे।

--आईएएनएस

 

 

Published in बिहार

Don't Miss