विश्व के दो बड़े ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जक चीन और भारत बिजली वाहनों के निर्माण में संयुक्त उद्यम के लिए उत्सुक हैं। दोनों देशों ने बीजिंग में आयोजित तीन दिवसीय सम्मेलन में इसके लिए वार्ता की। 

मारुति सुजुकी, टाटा, टीवीएस जैसे भारत के दिग्गज ऑटोमेकर और उद्योग संघों ने बीजिंग में 5वें चीनईवी100 फोरम में भागीदारी की, जहां दुनियाभर की ई-वाहन निर्माता कंपनियां मौजूद थीं।

रविवार को समाप्त हुए तीन दिवसीय सम्मेलन का आयोजन चीन ईवी100 ने किया था, जो कि चीनी इलेक्ट्रिक मोबिलिटी उद्योग की 200 से ज्यादा दिग्गज कंपनियों का एक निजी बिजली वाहन संघ है।

भारतीय प्रतिनिधिमंडल के अध्यक्ष नीति आयोग के प्रधान सलाहकार अनिल श्रीवास्तव ने चीनईवी100 के अध्यक्ष चेन किंगताई से मुलाकात की। 

मैकिन्से के मुताबिक, चीन बिजली वाहनों की मांग और आपूर्ति दोनों में एक दिग्गज के रूप में उभरा है।

हालांकि कुछ चीनी कंपनियों का मानना है कि भारत इन वाहनों की मांग के संदर्भ में चीन को पछाड़ देगा।

इससे पहले आईएएनएस के साथ एक साक्षात्कार में चीन की प्रमुख इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी सुनरा के महाप्रबंधक विक्टर लु ने कहा कि वे भारत को इलेक्ट्रिक बाइक के लिए विश्व के सबसे बड़े बाजार के रूप में उभरते हुए देखते हैं।

फोरम को संबोधित करते हुए श्रीवास्तव ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य के रोडमैप के लिए भारत की नीति के बारे में बात की।

उन्होंने कहा कि भारत वैश्विक पर्यावरण प्रतिबद्धताओं के लिए प्रतिबद्ध है और वह स्वच्छ ऊर्जा व नई ऊर्जा परिवहन के विकास व उसे अपनाने को प्रोत्साहित करेगा।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत द्वारा 2030 तक इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को हासिल करने में चीनी इलेक्ट्रिक वाहन कंपनियां महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती हैं।

उन्होंने उल्लेख किया कि दोनों देशों के ईवी उद्योगों के बीच अधिक बातचीत होनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने दोनों देशों के बीच एक औपचारिक बातचीत तंत्र स्थापित करने का प्रस्ताव रखा।

उन्होंने बीजिंग में इस साल की पहली छमाही में दोनों पक्षों के बीच एक बैठक करने का भी प्रस्ताव रखा, ताकि सहयोग की संभावनाओं को तलाशा जा सके।

श्रीवास्तव के साथ बैठक के बाद चेन ने कहा कि चीनी बिजली वाहन कंपनियों के लिए भारत एक महत्वपूर्ण देश है और उन्होंने भारतीय बाजार में चीनी उद्योगों को भागीदारी और निवेश के लिए प्रोत्साहित किया।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

देश के वाहन पारिस्थितिकी तंत्र को डिजिटाइज करने में अग्रणी कंपनी कारदेखो ने सीरीज 'सी' फंडिंग में 11 करोड़ डॉलर जुटाए हैं, जिसमें सिकोइया इंडिया, हिलहाउस, कैपिटल जी (अल्फाबेट वृद्धि निवेश शाखा) और एक्सिस बैंक का निवेश शामिल है। कंपनी ने गुरुवार को यह जानकारी दी। कारदेखो ने एक बयान में कहा कि इस राशि का उपयोग बाजार के यूज्ड-कार सेगमेंट के विस्तार और बीमा तथा फाइनेंसिंग समेत लेन-देन सेवाओं का मजबूत आधार निर्मित करने पर केन्द्रित होगा। इससे पहले के फंडिंग राउंड्स में कंपनी ने 7.5 करोड़ डॉलर की राशि जुटाई थी। 

बयान में कहा गया कि कारदेखो कार और मोटरसाइकल के आठ से अधिक उत्पादकों के साथ काम कर रही है और उनकी संयुक्त वार्षिक बिक्री में 15-30 प्रतिशत योगदान दे रही है। कारदेखो भारत में 5000 से अधिक डीलरशिप्स के साथ भी सक्रिय रूप से काम करती है और उनके काउंटरों से होने वाले 42 प्रतिशत से अधिक रिटेल को प्रभावित कर रही है। इसके अलावा, यह देश के 10 से अधिक वित्तीय संस्थानों के साथ मिलकर काम करती है, ताकि यूज्ड कार फाइनेंसिंग सुलभ हो और खरीदारों तथा विक्रेताओं का अनुभव सुगम हो।

कारदेखो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं सह-संस्थापक अमित जैन ने कहा, "भारत में कार खरीदने वाले 80 प्रतिशत लोग हमारी किसी न किसी वेबसाइट पर रिसर्च कर रहे हैं। नई कार खरीदने वाले व्यक्ति के लिए हमारी भूमिका विस्तृत हुई है और इससे हमें लाभ होगा। हमारे यूज्ड कार खंड ने भी अच्छी वृद्धि की है और हमें संबद्ध व्यवसायों, जैसे बीमा और फाइनेंस में प्रवेश दिया है, क्योंकि यह हमारे लिए बड़े अवसर हैं। हम औपचारिक अर्थव्यवस्था के लिए नए लोगों, कर्ज और बीमा कवरेज देने पर ध्यान केंद्रित करेंगे।"

कारदेखो गिरनारसॉफ्ट की प्रमुख साइट है, अन्य साइट्स में जिगव्हील्स, गाड़ी, पॉवरड्रिफ्ट और बाइकदेखो शामिल हैं। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

सुजुकी मोटरसाइकिल इंडिया ने गुरुवार को अपने स्पोर्ट्सबाइक मॉडल 'हायाबुसा' का नया संस्करण लांच किया, जिसकी कीमत 13.74 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली) रखी गई है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस बाइक में 1340 सीसी का इन लाइन 4 सिलिंडर फ्यूल इंजेक्टेड, लिक्विड कूल्ड डीओएससी इंजन लगा है। यह दो रंगों मेटेलिक ओर्ट ग्रे और ग्लास स्पार्कल ब्लैक में उपलब्ध होगा। 

सुजुकी मोटरसाइकिल इंडिया प्रा. लि. (एसएमआईपीएल) दोपहिया निर्माता सुजुकी मोटर्स कॉर्पोरेशन, जापान की सहयोगी कंपनी है। इस कंपनी ने भारतीय परिचालन साल 2006 के फरवरी में शुरू किया था। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

ऑटोमोबाइल दिग्गज मारुति सुजुकी इंडिया ने बुधवार को अगली पीढ़ी की मल्टी-युटिलिटी वाहन 'नेक्स जेन अर्टिगा' को लांच किया। 

कंपनी के मुताबिक, नए वाहन के पेट्रोल संस्करण की कीमत 7.44 लाख रुपये से 9.95 लाख रुपये होगी, जबकि डीजल संस्करण की कीमत 8.84 लाख रुपये से 10.90 लाख रुपये होगी।

कंपनी ने कहा कि नया के15 पेट्रोल इंजन 13 फीसदी अधिक शक्ति और 6 फीसदी अधिक टार्क उत्पन्न करता है। 

कंपनी ने एक बयान में कहा, "नए इंजन के पूरक के रूप में प्रोग्रेसिव स्मार्ट हाइब्रिड प्रौद्योगिकी लिथियम आयन बैटरी के साथ दी गई है, जो श्रेणी-में-सबसे-बेहतर ईंधन-दक्षता प्रदान करता है।"

कंपनी ने कहा, "मारुति सुजुकी की नवीनतम पेशकश को सुजुकी की प्रशंसित 5वीं पीढ़ी के 'हार्टेक्ट' प्लेटफार्म पर बनाया गया है। इसमें हाई टेंसाइल स्टील का प्रयोग किया गया है, जो मजबूत और सुरक्षित संरचना प्रदान करता है।"

बयान के मुताबिक, नए अर्टिगा को विकसित करने में कंपनी ने 900 करोड़ रुपये का निवेश किया है। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

वाहन दिग्गज मारुति सुजुकी इंडिया की बिक्री में अक्टूबर में 0.2 फीसदी की मामूली वृद्धि दर्ज की गई है। 

कंपनी ने गुरुवार को कहा कि पिछले महीने उसने कुल 1,46,766 वाहनों की बिक्री की, जबकि पिछले साल अक्टूबर में उसने कुल 1,46,446 वाहनों की बिक्री की थी। 

कंपनी ने एक बयान में कहा, "मारुति सुजुकी इंडिया लि. ने अक्टूबर में कुल 1,46,766 वाहनों की ब्रिकी की, जिसमें घरेलू बाजार में कुल 1,38,100 वाहनों की बिक्री हुई, जबकि 8,666 वाहनों का निर्यात किया गया।"

घरेलू बाजार में कंपनी ने पिछले महीने कुल 1,38,100 वाहनों की बिक्री की, जोकि पिछले साल के इसी महीने के मुकाबले 1.5 फीसदी अधिक है। साल 2017 के अक्टूबर में कंपनी ने कुल 1,36,000 वाहनों की बिक्री की थी। 

हालांकि, निर्यात में पिछले महीने 17 फीसदी की कमी दर्ज की गई और कुल 8,666 वाहनों का निर्यात किया गया, जबकि पिछले साल अक्टूबर में कुल 10,466 वाहनों का निर्यात किया गया था।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को आदेश दिया कि एक अप्रैल, 2020 से देशभर में यूरो-6 ईंधन मानक का अनुपालन करने वाले वाहनों को ही बेचने और पंजीयन करने की अनुमति होगी। सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश मदन बी. लोकुर, न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा, "एक अप्रैल, 2020 से भारत में स्टेज-6 के उत्सर्जन मानक का अनुपालन करने वाले किसी वाहन की बिक्री नहीं होगी।"

दिल्ली-एनसीआर के पेट्रोल पंपों पर पहले से ही यूरो-6 मानक के पेट्रोल और डीजल मिल रहे हैं। 

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अधिवक्ता विजय पंजवानी ने अदालत के आदेश का स्वागत करते हुए कहा कि यूरो-6 मानक का अनुपालन करने वाले वाहनों को अपनाने की आवश्यकता काफी समय से महसूस की जा रही थी, क्योंकि यूरो-6 ईंधन दिल्ली-एनसीआर में पिछले एक साल से उपलब्ध है।

पंजवानी ने कहा कि वाहनों का अंतर्राज्यीय आवागमन सुगम बनाने के लिए यह व्यवस्था की जा रही है। 

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

 इसूजू मोटर्स इंडिया ने मंगलवार को भारत में नई और बहुप्रतीक्षित इसूजू एमयू-एक्स एसयूवी लॉन्च की। नई एमयू-एक्स एसयूवी सामने और पीछे से देखने पर 'ईगल-प्रेरित' स्टाइलिंग और रिफ्रेश्ड डिजाइन के साथ काफी आकर्षक नजर आती है। एमयू-एक्स के नए मॉडल में स्पोर्टी 'लावा ब्लैक' प्रीमियम इंटीरियर अपहोल्स्ट्री दी गई है। एसयूवी में चमड़े से बनी बेहतर गद्देदार सीटें भी लगी हैं। इससे भारत में 7 सीटों वाली फुलसाइज प्रीमियम एसयूवी सेग्मेंट में कंफर्ट लेवल काफी बढ़ गया है। 

एसयूवी के अंदरूनी और बाहरी हिस्से में कई फीचर्स हैं, जिनमें 6 एयरबैग्स और हिल डिसेंट कंट्रोल (एचडीसी) जैसी बेहतरीन सुरक्षा खूबियां भी शामिल हैं, जो आधुनिक भारतीय परिवारों की जरूरतों को पूरा करती हैं।  

यहां के ताज फलकनुमा में हुए लॉन्चिंग इवेंट में भारत में इसूजू के लाइफस्टाइल एंबेसेडर और दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट स्टार जोंटी रोड्स ने अपने परिवार के साथ इसूजू एमयू-एक्स एसयूवी की सवारी का मजा लिया। 

एसयूवी का आगे और पीछे का विशिष्ट एक्सटीरियर नई एमयू एक्स को और ताकतवर बनाता है। इसका अपडेटेड फ्रंट लुक ईगल से प्रेरित है, जिससे यह एसयूवी देखने में काफी आक्रामक और प्रभावशाली नजर आती है। हालांकि इसकी बनावट में ईसुजु की सिग्नेचर ग्रिल डिजाइन को बरकरार रखा गया है। 

यह एसयूवी इसूजू के 3.0 लीटर के शानदार इसूजू 4जेजे1 डीजल इंजन से लैस है, जो 130 केडब्ल्यू (177 पीएस) का सर्वाधिक पावर आउटपुट देती है। यह 390 एनएम का अधिकतम टॉर्क भी मुहैया करती है, जिसे शानदार फ्लैट टॉर्क कर्व के साथ डिजाइन किया गया है। 

नई एमयू-एक्स 5-स्पीड सीक्वेंशियल शिफ्ट ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ 4.2 और 4.4 दोनों वैरिएंट्स में उपलब्ध होगी।

इसूजू मोटर्स इंडिया के प्रबंध निदेशक नाओहिरो यामागुची ने नई एमयू-एक्स के बारे में बताया कि, "नई एमयू-एक्स एसयूवी के साथ हम भारत में एसयूवी के दीवानों को काफी फीचर्स मुहैया करा रहे हैं। हम उन भारतीय परिवारों का लाइफ स्टाइल भी बदलने में कामयाब हुए हैं, जो हमसे कुछ ज्यादा चाहते हैं। एमयू-एक्स उन सभी लोगों के परफेक्शन की कसौटी पर खरी उतरेगी, लोग इसकी क्षमता और इसमें मुहैया कराए गए फीचर्स की तारीफ करेंगे। मुझे पूरा विश्वास है कि नई एमयू-एक्स भारत में कई दिलों को जीतेगी।"

नई इसूजू एमयू-एक्स का 4.2 वैरिएंट की कीमत 26,26,842 रुपये है जबकि इसके 4.4 वैरिएंट की कीमत 28,22,959 रुपये (एक्स शोरूम- हैदराबाद) है।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

Datsun ने भारत में अपनी 2 कार Datsun GO और Datsun GO+ के नए वेरिएंट लॉन्च कर दिए हैं। कंपनी का कहना है कि हैचबैक में 28 नए फीचर जोड़े गए हैं इसके अलावा 100 से भी ज्यादा अपडेट किए गए हैं। कंपनी ने इसके केबिन के डिजाइन को काफी अपडेट किया है। इसके अलावा इसमें एंटरटेनमेंट फीचर्स भी जोड़े हैं। साथ ही सेफ्टी का भी ख्याल रखा गया है, कुछ सेफ्टी फीचर्स भी जोड़े गए हैं। डटसन गो और गो प्लस को पांच वेरिएंट में लॉन्च किया गया है। वहीं इसके अभी मिल रहे कलर्स के अलावा 2 नए ऑप्शन भी जोड़े गए हैं।

अब नई डटसन गो और डटसन गो प्लस में डे टाइम रनिंग लाइट का फीचर ऐड किया है। इसके अलावा इनमें डायमंड कट वाले 14 इंच के एलॉय व्हील का भी ऑप्शन मिलेगा। इसके अलावा कार में 7 इंच का टचस्क्रीम इंफोटेनमेंट सिस्टम और एंड्रॉयड कार प्ले और ऐप्पल कार प्ले दिया गया है। सेफ्टी की बात करें तो डटसन गो और गो प्लस में एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम, पार्किंग सेंसर और डुअल एयरबैग दिए गए हैं। इन दोनों कार के इटीरियर की बात करें तो कारों का इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर अपडेट किया गया है। अब यह प्रीमियम फील दे रहा है।

इंजन की बात करें तो डटसन गो और गो प्लस में 1.2 लीटर का HR12 DE इंजन दिया गया है। कंपनी का दावा है कि इनका माइलेज 19.83 किलोमीटर प्रति लीटर का है। यह इंजन 67 बीएचपी की पावर देता है। इसका टॉर्क 104 न्यूटन मीटर का है। दोनों ही कार्स में 5 स्पीड वाला मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। दोनों ही कार्स के साथ 2 साल की एक्सटेंडेड वारंटी दी जा रही है। कीमत की बात करें तो डटसन गो की शुरूआती कीमत 3.29 लाख रुपए है। डटसन गो प्लस की शुरूआती कीमत 3.83 लाख रुपए है। दोनों ही कार्स को अब अंबर औरेंज और सन स्टोन ब्राउन कलर में खरीदा जा सकेगा।

Published in बिजनेस

मारुति सुजुकी ने अपनी इलेक्ट्रिक कार की टेस्टिंग करना शुरू कर दिया है और इसे भारत में पहली बार टेस्टिंग के दौरान देखा गया है। मारुति सुजुकी की आने वाले इलेक्ट्रिक प्रोटोटाइप को गुरुग्राम में देखा गया है। मारुति सुजुकी की ईवी को टेस्टिंग के दौरान एक अच्छी स्पीड में देखा गया। कार के पीछे बम्पर पर टेल लैंप लगाई गई हैं जो देखने में एलईडी वाली लग रही थीं। कार की पिछली खिड़की को अलग तरीके से डिजाइन किया गया है। यह कार को अच्छा लुक दे रही है। भारत की लीडिंग कार कंपनी ने हाल ही में कहा था कि उसकी करीब 50 गाड़ियां टेस्टिंग के दौर में हैं। इलेक्ट्रिक मारुति सुजुकी को सितंबर में आयोजित 2018 MOVE समिट में पहली बार प्रदर्शित किया गया था।

मारुति सुजुकी की इलेक्ट्रिक कार ग्लोबल मार्केट में बेची जा रही Solio पर बेस्ड है। इसका लुक वेगेनआर से मिलता जुलता है। अभी इसके बैटरी पैक और पावर आउटपुट की सटीक जानकारी नहीं है। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कार 150 किलोमीटर की रेंज के साथ आ सकती है। इसकी टॉप स्पीड कितनी होगी इसकी भी कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। मारुति सुजुकी की इलेक्ट्रिक कार भारत में 2020 में लॉन्च की जाएगी। वहीं सेफ्टी की बात करें तो इसमें वह सभी सेफ्टी फीचर मिलेंगे जो एक फैमली बजट कार में मिलते हैं। मारुति की नई इलेक्ट्रिक कार में एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम मिलेगा। वहीं इसमें डुअल एयरबैग भी मिलेंगे।

आपको बता दें कि मारूति ने अपनी कार वेगनआर का भी एक लिमिटेड एडिएशन लॉन्च किया है। इसके साथ दो एक्सेसरीज किट का विकल्प दिया गया है जिसकी कीमत 15,490 और 25,490 रुपये है। वैगनआर Vxi एक्सेसरीज किट की कीमत 15,490 रुपये है। वहीं, वैगनआर Lxi एक्सेसरीज किट की कीमत 25,490 रुपये है। वैगनआर लिमिटेड एडिशन के साथ कई अतिरिक्त फीचर्स रिवर्स पार्किंग सेंसर, बॉडी ग्राफिक्स, प्रीमियम सीट कवर्स, कुशन सेट आदि दिए गए हैं। साथ ही इसमें ब्लूटूथ कनेक्टिविटी के साथ डबल-डिन म्यूजिक सिस्टम भी दिया गया है। वैगनआर की शुरूआती एक्स शोरूम कीमत 4.15 लाख है जो टॉप मॉडल के लिए 5.39 लाख रुपये तक जाती है।

Published in बिजनेस

सरकार ने देश में सौ फीसदी इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए 2030 का डेडलाइन तय नहीं किया है तथा पारंपरिक ईंधन से चलने वाले वाहनों की प्रौद्योगिकी में निवेश करने वाली कंपनियों को नुकसान पहुंचा कर इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा नहीं दिया जाएगा। भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मत्री अनंत गीते ने गुरुवार को यह बातें कही। 

मंत्री ने यहां ई-वाहन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए आयोजित तीसरे सम्मलेन का उद्घाटन करते हुए कहा, "विभिन्न फोरमों पर मैंने पहले भी कहा है और एक बार फिर मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि मेरे मंत्रालय ने देश के परिवहन का सौ फीसदी विद्युतीकरण करने का 2030 तक कोई डेडलाइन तय नहीं किया है।"

उन्होंने कहा, "कोई भी विकसित देश तब तक अपने 30 फीसदी वाहनों का भी विद्युतीकरण नहीं कर पाएगा। इसलिए हमें जल्दी करने की जरूरत नहीं है, लेकिन हमें अधिक इलेक्ट्रिक मोबिलिटी हासिल करने की दिशा में काम करना होगा। इसके साथ ही हम नहीं चाहते कि जिस प्रकार से कच्चे तेल का आयात किया जाता है, उसी प्रकार से इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरियों (लिथियम ऑयन) का भी आयात किया जाए। लिथियन ऑयन बैटरियों का मुख्य रूप से चीन से आयात किया जाता है। हमें देश में ही इन बैटरियों को बनाने की जरूरत है।"

गीते ने कहा कि उपभोक्ता को केवल किफायती वाहनों की बजाए अच्छी गुणवत्ता के वाहनों की जरूरत है। उन्होंने वाहन उद्योग को आश्वस्त किया कि उनके मंत्रालय से हर तरह का सहयोग मिलेगा। 

इस सम्मेलन में वाहन उद्योग से जु़ड़े 250 लोगों ने भाग लिया, जिसमें नीति निर्माता, वाहन कंपनियां, स्टार्ट-अप, आपूर्तिकता, शिक्षाविद, टेस्ट एचेंसियां, कंसलटेंट्स, प्रौद्योगिकी कंपनी और मीडिया से जुड़े लोग शामिल थे। 

आईसीएटी के निदेशक दिनेश त्यागी ने सम्मेलन में कहा, "इस सम्मेलन का आयोजित करने का मुख्य लक्ष्य दक्षिण भारत में ई-वाहनों को बढ़ावा देना है, खासतौर से ई-रिक्शा को जो टिकाऊ मोबिलिटी का सिद्ध उदाहरण है।"

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

Don't Miss