नई दिल्ली: गूगल ने बुधवार को पृथ्वी की सतह पर एक फूल के एनिमेटेड डूडल के साथ वसंत विषुव को प्रदर्शित किया। वसंत विषुव पर बने डूडल की पहुंच भारत सहित यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका, यानी लगभग पूरे उत्तरी गोलार्ध तक रही, जहां गुरुवार को मौसम का पहला दिन है।

भारत में वसंत विषुव का स्वागत रंगों के त्योहार होली के दिन होगा।

दुनिया भर में करीब हर जगह रात-दिन 12 घंटे के होंगे।

विषुव मौसम के परिवर्तन को चिन्हित करता है, इसमें दिन व रात समान होता है। यह जाड़े के मौसम के समाप्त होने व लोगों को गर्म दिनों की तरफ जाने की सूचना देता है।

हर साल दो विषुव मार्च व सितंबर में होते हैं। मार्च का विषुव सूर्य के काल्पनिक भूमध्य रेखा के दक्षिण से उत्तर पार करने को प्रदर्शित करता है, इसी तरह सितंबर का विषुव इसके उलट होता है।

--आईएएनएस

Published in टेक

वेलिंगटन: न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में 15 मार्च को मस्जिदों पर हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर देश की कुछ बड़ी कंपनियां फेसबुक और गूगल से विज्ञापन हटा रही हैं। इस गोलीबारी में 50 लोगों की मौत हो गई थी। हमलावर ने गो प्रो कैमरे का उपयोग करते हुए अल-नूर मस्जिद में हुए नरसंहार को फेसबुक पर लाइव किया था। लाइवस्ट्रीम हमले के घंटों बाद तक मौजूद रही।

फेसबुक पर लाइव होने के अलावा फेसबुक द्वारा सोशल मीडिया से 17 मिनट के वीडियो को डिलीट करने से पहले इसे यूट्यूब और ट्विटर पर बार-बार शेयर किया जा रहा था।

न्यूजीलैंड हेराल्ड ने सोमवार को कहा कि इन कंपनियों में एएसबी बैंक, लोट्टो एनजेड, बर्गर किंग, स्पार्क ने एक साथ आकर इसका विरोध किया है।

न्यूजीलैंड हेराल्ड ने कहा कि अन्य ब्रांड्स ने भी स्वतंत्र रूप से प्रतिक्रिया दी है।

--आईएएनएस

 

Published in टेक

सैन फ्रांसिस्को: पिछले पिक्सल फोन्स के विपरीत नए 'पिक्सल एक्सएल' मॉडल में दो कैमरे आ सकते हैं और यह बिल्कुल नई डिजाइन में आ सकता है। 'स्लेशलीक्स' पर जारी हुईं इसकी लीक तस्वीरों के अनुसार, एक ड्रॉइंग में 'पिक्सल 4 एक्सएल' में ड्यूअल रियर और फ्रंट फेसिंग कैमरा दिखाया गया और सैमसंग 'गैलेक्सी एस10' जैसी ओवल होल-पंच डिस्प्ले दी गई है।

सीएनईटी ने शुक्रवार को बताया, "ड्रॉइंग में फोन के बैक में फिंगरप्रिंट रीडर नहीं दिखाया। इससे संकेत मिल रहे हैं कि अगले पिक्सल फोन में सैमसंग 'गैलेक्सी एस10' की तरह 'इन-स्क्रीन फिंगरप्रिंट स्कैनर' हो सकता है।"

गूगल ने इसकी तस्वीर पर अभी तक कोई बयान नहीं दिया है।

फोन के पीछे सबसे मजेदार फीचर फिंगरप्रिंट सेंसर की कमी होना है।

लीक हुई तस्वीरों के अनुसार, इसका मतलब या तो इसमें 'अंडर-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर' होगा या जो 'पिक्लस 4' के पॉवर बटन में बनाया गया है।

--आईएएनएस

 

Published in टेक

सैन फ्रांसिस्को: गूगल ने अपने हार्डवेयर कारोबार में भावी योजनाओं पर सवाल उठाते हुए कथित तौर पर अपने लैपटॉप और टैबलेट डिवीजन के कई कर्मचारियों को कंपनी में दूसरी भूमिका तलाशने को कहा है। बिजनेस इन्साइडर के अनुसार, इस कदम का मकसद गूगल के 'क्रिएट' डिवीजन में छंटनी करना है। इस डिवीजन में पिक्सेलबुक लैपटॉप और पिक्सेल स्लेट टैबलेट व अन्य उत्पाद बनाए जाते हैं।

गूगल की अन्य हार्डवेयर टीम पिक्सेल स्मार्टफोन 'होम' स्मार्ट स्पीकर और वीयरेबल्स बनाती हैं।

रिपोर्ट में बुधवार को कहा गया कि एक सूत्र के अनुसार, क्रिएट हार्डवेयर टीम में हार्डवेयर इंजीनियरों और प्रोग्राम मैनेजरों की तादाद में कटौती से उत्पादों की पोर्टफोलियो में कमी आएगी।

प्रभावित कर्मचारियों को गूगल या अल्फाबेट टीम में अस्थायी भूमिका तलाशने को कहा गया है।

हालांकि गूगल के प्रवक्ता ने घटनाक्रम पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

--आईएएनएस

Published in टेक

सैन फ्रांसिस्को: गूगल ने बुधवार को दुनिया भर के उपयोगकर्ताओं द्वारा जीमेल और अन्य सेवाओं में बाधा आने की समस्याओं की शिकायत किए जाने पर माफी मांगी है।

भारत सहित कई देशों के उपयोगकर्ताओं ने जीमेल अटैचमेंट्स और इसे एक्सेस करने के साथ ही ड्राफ्ट ईमेल को एक्सेस, सेव करने और ईमेल भेजने में दिक्कतों की शिकायत की थी।

गूगल ने बताया कि समस्या को सुलझा दिया गया है।

गूगल ने अपनी सर्विस वेबसाइट पर एक बयान जारी कर कहा, "हम असुविधा के लिए क्षमा चाहते हैं। आपके धैर्य और निरंतर समर्थन के लिए धन्यवाद।"

'द गार्डियन' की रिपोर्ट के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, यूरोप और एशिया के कई उपयोगकर्ताओं ने जीमेल, गूगल मैप्स और गूगल ड्राइव में हो रही समस्या की शिकायत की थी।

--आईएएनएस

 

Published in टेक

नई दिल्ली: गूगल ने मंगलवार को डूडल के जरिए वल्र्ड वाइड वेब (डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू) के 30 साल पूरे होने का जश्न मनाया। अंग्रेजी वैज्ञानिक टिम बर्नर्स-ली ने 1989 में डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू का आविष्कार किया और 1990 में पहला वेब ब्राउजर लिखा था। स्विट्जरलैंड स्थित सर्न कंपनी में काम करने के दौरान बर्नर्स-ली ने डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू की मूल अवधारणाओं को एक प्रस्ताव में सामने रखा था जिसमें एचटीएमएल, यूआरएल और एचटीटीपी जैसे फंडामेंटल शामिल थे।

'सूचना प्रबंधन : एक प्रस्ताव' शीर्षक वाले दस्तावेज में उन्होंने डॉक्यूमेंट्स को लिंक करने के लिए हाइपरटेक्स्ट के उपयोग की कल्पना की थी।

डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू जिसे आमतौर पर वेब के रूप में जाना जाता है, एक सूचना स्थान है जहां डॉक्यूमेंट्स और अन्य वेब रिसोर्सेज की पहचान यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर (यूआरएल) द्वारा की जाती है।

पहला वेब ब्राउजर वर्ष 1991 में जारी किया गया था, जिसे पहले शोध संस्थानों और फिर उसी साल इंटरनेट पर आम जनता के लिए शुरू कर दिया गया।

--आईएएनएस

Published in टेक

सैन फ्रांसिस्को: गूगल ने सऊदी अरब के एक विवादित सरकारी एप एब्शेर को अपने स्टोर से यह कहते हुए हटाने से इनकार कर दिया है कि यह प्ले स्टोर के नियमों का उल्लंघन नहीं करता है। यह एप पुरुषों को महिलाओं की यात्रा पर निगरानी और नियंत्रण करने की सुविधा देता है। बिजनेस इनसाइडर में रविवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, गूगल ने एप हटाने की याचिका देने वाले कैलिफोर्निया डेमोक्रेट रिप्रजेंटेटिव जैकी स्पीअर को बताया कि यह एप गूगल के प्ले स्टोर के नियमों का उल्लंघन नहीं करता है।

स्पीअर, इहान उमर, राशिदा तलाइब और 11 अन्य अमेरिकी प्रतिनिधियों ने एप्पल और गूगल से इस एप को हटाने की मांग की।

स्पीअर ने गूगल के जवाब को बेहद असंतोषजनक बताया है।

स्पीअर के हवाले से कहा गया, "एप्पल और गूगल से अब तक मिले जवाब बेहद असंतोषजनक हैं। फिलहाल यह एप एप्पल एप स्टोर तथा गूगल प्ले स्टोर - दोनों पर उपलब्ध है। हालांकि वे इसे आसानी से हटा सकते हैं।"

एप्पल ने अभी तक अपना निर्णय नहीं सुनाया है।

एब्शेर सऊदी यूजर्स को सरकारी सेवाओं को एक्सेस करने तथा एक फीचर ऑफर करता है, जिसके तहत सऊदी पुरुषों को महिलाओं को यात्रा की अनुमति देने या उसे रद्द करने की सुविधा दी जा सकती है और महिलाओं द्वारा पासपोर्ट का उपयोग करने के समय उनके पास एसएमएस अलर्ट पहुंच जाता है।

इससे पहले एक रिपोर्ट आई थी, जिसके अनुसार, सऊदी पुरुष उन पर आश्रित महिलाओं पर नियंत्रण करने के लिए एप का उपयोग कर सकते हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल जैसे मानवाधिकार संगठनों ने भी गूगल और एप्पल को अपने प्लेटफॉर्म पर एप चलाने के लिए उनकी आलोचना की है।

--आईएएनएस

Published in टेक

सियोल: प्रौद्योगिकी कंपनी सैमसंग ने दिग्गज कंपनियों एप्पल और गूगल के सामने अपने फोल्डेबल डिस्प्ले के नमूने पेश किए हैं। मीडिया रपटों में यह जानकारी दी गई है। 'एप्पलइनसाइड' ने दक्षिण कोरियाई के 'ईटी न्यूज' के हवाले से शनिवार को कहा, "नमूने 7.2 इंच के हैं, जो सैमसंग फोल्ड के प्रमुख पैनल से सिर्फ 0.1 इंच छोटे हैं।"

सैमसंग चूंकि आईफोन 'एक्सएस' तथा 'एक्सएस मैक्स' के लिए पहले ही सबसे ज्यादा ओएलईडी घटकों की आपूर्ति करता है, लिहाजा सैमसंग एप्पल को फोल्डेबल पैनल्स उपलब्ध कराने के लिए संभावित उम्मीदवार बन सकता है।

रपट के अनुसार, "सैमसंग फिलहाल लगभग 24 लाख फोल्डेबल डिस्प्लेज का प्रतिवर्ष उत्पादन करती है, जिसे वह एक करोड़ तक पहुंचाने की उम्मीद कर रही है।"

एप्पल सालों से फोल्डेबल ओएलईडी से संबंधित एप्लीकेशंस के पेटेंट लेकर इसमें सालों से रुचि दिखा रही है। 'गैलेक्सी फोल्ड' के लांच होते ही एप्पल पर अब इस श्रेणी के उत्पाद को लांच करने का दवाब आ गया है।

रपट के अनुसार, आईफोन्स के 2019 में पूर्वनिर्धारित पैनलों को बरकरार रखने की उम्मीद है, हालांकि विशिष्ट विश्लेषकों की राय के अनुसार, एप्पल 2020 तक कोई फोल्डेबल आईफोन नहीं ला पाएगा।

--आईएएनएस

Published in टेक

सैन फ्रांसिस्को: आईओएस डिवाइसों में खुद को डिफाल्ट सर्च इंजन बनाए रखने के लिए गूगल ने एप्पल को ट्रैफिक अधिग्रहण लागत (टीएसी) के रूप में साल 2018 में कुल 9.5 अरब डॉलर का भुगतान किया, जिसने आईफोन निर्माता के सेवाओं से प्राप्त राजस्व में महत्वपूर्ण योगदान किया। गोल्डमैन सैक्स ने यह अनुमान लगाया है।

एप्पल चीन जैसे उभरते बाजारों में आईफोन की बिक्री में गिरावट कारण सेवाओं से प्राप्त राजस्व पर ध्यान दे रहा है।

सीएनबीसी में मंगलवार को प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल ने एप्पल को टीएसी के रूप में जो भुगतान किया और वह इस खंड में एप्पल के मुनाफे का एक तिहाई है। 

गोल्डमैन सैक्स ने चेतावनी दी है कि गूगल द्वारा भुगतान किया गया शुल्क 2019 में भी एप्पल के सेवाओं के राजस्व में बड़ी भूमिका निभाएगी, लेकिन इसकी वृद्धि दर कम होगी। 

फर्म ने सलाह दी है कि अगर एप्पल को सेवा खंड में राजस्व को बढ़ावा देना है तो उसे गूगल को योगदान पर कम निर्भर रहना होगा। 

गूगल एप्पल जैसे डिवाइस निर्माताओं को टीएसी का भुगतान डिफॉल्ट सर्च इंजन बने रहने के लिए करती है।

--आईएएनएस

Published in टेक

सैन फ्रांसिस्को: जीमेल में बदलाव करते हुए गूगल ने ईमेलिंग प्लेटफार्म पर राइट क्लिक मेनू जोड़ा है, जिससे आसानी से लेबल को जोड़ने, मूव करने, म्यूट करने और ईमेल को स्नूज करने जैसी सुविधाएं मिलेंगी। गूगल ने जी स्यूट ब्लॉग पोस्ट में सोमवार को लिखा कि यह विकल्प यूजर्स को कई नई विंडो में कई ईमेल खोलने के दौरान सीधे किसी मैसेज से रिप्लाई करने या फॉरवर्ड करने में सक्षम बनाएगा। 

इससे पहले जो राइट-क्लिक मेनू था, उसमें यूजर्स को केवल तीन विकल्प -आर्काइव, मार्क एज अनरीड या डिलिट मिलते थे। 

नए अतिरिक्त विकल्पों में एक ही प्रेषक से या एक ही समय में एक ही विषय से सभी ईमेल्स में से सर्च करने का विकल्प शामिल होगा। 

पोस्ट में कहा गया कि ये फीचर बाई डिफाल्ट सक्रिय रहेंगे और जी सूइट के सभी संस्करणों के सभी यूजर्स को उपलब्ध होंगे। 

गूगल ने जी सूइट यूजर्स के लिए यह रैपिड रिलिज डोमेन के साथ साथ जारी करना शुरू कर दिया है। अन्य यूजर्स के लिए यह फीचर 22 फरवरी को जारी किया जाएगा।

--आईएएनएस

Published in टेक

Don't Miss