खत्म होते जनाधार से चिंतित विपक्ष कर रहा हर निर्णय का विरोध : रमन
Tuesday, 07 January 2020 19:51

  • Print
  • Email

धार: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उपाध्यक्ष और छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि विपक्ष खुद को खत्म होता दिख रहा है, इसलिए हर निर्णय का विरोध कर रहा है। मध्य प्रदेश के धार जिले में मंगलवार को प्रबुद्घजनों की संगोष्ठी में डॉ. रमन सिंह ने कहा, "शरणार्थियों और घुसपैठियों में अंतर समझना होगा। सीएए में शरणार्थी और एनपीआर में घुसपैठियों का मामला है। इन दोनों को जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर प्रताड़ित हो रहे अल्पसंख्यकों के लिए मानवीय पक्ष देखकर नागरिकता देने के लिए इससे पहले भी कानून में संशोधन हुए हैं। लेकिन कभी भी राजनीतिक विरोध नहीं हुआ, लेकिन अब विपक्ष हर निर्णय पर सिर्फ इसलिए विरोध कर रहा है, क्योंकि उसे अपना जनाधार खत्म होते दिखाई दे रहा है।"

डॉ. रमन सिंह ने सीएए की सच्चाई से अवगत कराते हुए विपक्षी दलों द्वारा फैलाए जा रहे भ्रम की जानकारी देते हुए कहा, "सीएए देश के लिए कोई नया नहीं है। कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों में भी कानून में संशोधन हुए है। कांग्रेस नेताओं के नागरिकता कानून के समर्थन में बहुत वक्तव्य हैं, लेकिन भाजपा ने कभी भी राजनीति से प्रेरित होकर विरोध नहीं किया।"

उन्होंने कहा, "कांग्रेस भाजपा के हर उस काम का विरोध करती है, जिसे जनहित में लिया गया है। धारा 370, राम मंदिर ऐसे ऐतिहासिक निर्णय हैं, जिसे देश ही नहीं विश्व की जनता ने समर्थन किया है। जिससे कांग्रेस इसका विरोध नहीं कर पाई। अब वह नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर अपनी खीज उतार रही है। विपक्ष का एकमात्र काम सिर्फ नकारात्मकता फैलाना है।"

भाजपा के वरिष्ठ नेता विक्रम वर्मा ने इस मौके पर कहा कि "मोदी सरकार की लोकप्रियता और ऐतिहासिक निर्णयों से कांग्रेस सहित सारे विपक्षी दल घबराए हुए हैं। तुष्टीकरण की राजनीति से प्रेरित होकर कांग्रेस दुष्प्रचार के अभियान में जुटी हुई है।"

उन्होंने कहा, "सीएए में जिन बातों का उल्लेख ही नहीं है, कांग्रेस उसे कानून का हिस्सा बता रही है। हमें सजग और सतर्क होकर जनता तक कानून की सच्चाई पहुंचानी है। जनजागरण अभियान में हर नागरिक को अपनी हिस्सेदारी करनी है और विपक्ष को कड़ा जवाब देना है।"

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss