जेट एयरलाइन के सीईओ, सीएफओ का इस्तीफा, बहाली की उम्मीदों को धक्का
Wednesday, 15 May 2019 07:42

  • Print
  • Email

नई दिल्ली: जेट एयरवेज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) विनय दूबे ने कंपनी से इस्तीफा दे दिया है। इससे एयरलाइन की बहाली की उम्मीदों को धक्का लगा है।

जेट एयरवेज की ओर से मंगलवार को दाखिल एक बीएसई में कहा गया है, "हम सूचित करना चाहते हैं कि कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय दूबे ने अपने 14 मई 2019 के पत्र में कंपनी की सेवाओं से निजी कारणों से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।"

दूबे का इस्तीफा मंगलवार को एयरलाइन के लिए दोहरा झटका है। इससे पहले दिन में कंपनी के मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) व उप मुख्य कार्यकारी (सीईओ) अमित अग्रवाल ने भी इस्तीफा दे दिया।

कंपनी के संस्थापक नरेश गोयल के करीबी माने जाने वाले शीर्ष कार्यकारी गौरांग शेट्टी के निदेशक मंडल से इस्तीफा देने के कुछ दिनों के बाद मंगलवार को ये इस्तीफे हुए हैं।

नकदी की कमी के कारण जेट एयरवेज ने 17 अप्रैल को अपने परिचालन को निलंबित कर दिया था। इसके बाद सैकड़ों कर्मचारी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों में शामिल हो गए। कंपनी विमान भी धीरे-धीरे विपंजीकृत होते जा रहे हैं। इन घटनाओं ने एयरलाइन के पुनरुद्धार के बारे में अनिश्चितताओं को बढ़ा दिया है।

एसबीआई की अगुवाई में जेट एयरवेज के ऋणदाता 8,400 करोड़ रुपये से अधिक की बकाया राशि की वसूली के लिए एयरलाइन को बेचने की प्रक्रिया में हैं। निजी इक्विटी फर्म टीपीजी कैपिटल, इंडिगो पार्टनर्स, नेशनल इंवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड (एनआईआईएफ) और एतिहाद एयरवेज को अपनी ईओआई देने के बाद अपनी बोली प्रस्तुत करने के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था।

बोली जमा करने की अंतिम तिथि 10 मई को केवल एतिहाद ने अपना प्रस्ताव दिया और वह भी ग्यारहवें घंटे में। एयरलाइन के लिए लगाई गई अन्य दो बोलियां अनचाही थीं।

वेतन में देरी और एयरलाइन के पुनरुद्धार पर अनिश्चितता के कारण जेट एयरवेज के हजारों कर्मचारियों, विशेष रूप से पायलटों और इंजीनियरों ने दूसरी कंपनी में शामिल होने के लिए इस्तीफा दे दिया।

--आईएएनएस

 

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.