एक्जिम बैंक ने अन्य विकास बैंकों के साथ की भागीदारी

भारतीय निर्यात-आयात बैंक के प्रबंध निदेशक डेविड रस्कीना ने ब्रिक्स देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) के सदस्य विकास बैंकों के अध्यक्षों के साथ एक बहुपक्षीय सहयोग करार पर हस्ताक्षर किए। बैंक ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि यह करार डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर/ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर मिलकर अनुसंधान करने के लिए किया गया है। इसका उद्देश्य ब्रिक्स अंतरबैंक सहयोग तंत्र के अंतर्गत सहयोग बढ़ाना है। 

इस करार के तहत, हस्ताक्षरकर्ता विकास बैंकों ने एक संयुक्त अनुसंधान कार्यकारी समूह बनाने पर सहमति जताई है, जो अनुसंधान का एजेंडा और लक्षित परिणामों पर काम करेगा। यह कार्यकारी समूह वित्तीय क्षेत्र में और विशेष रूप से अवसंचरना वित्तपोषण के क्षेत्र में डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर/ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के संभावित उपयोगों को चिह्न्ति करने की दिशा में भी शोध करेगा। 

बयान में कहा गया कि डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर/ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पुरानी प्रक्रिया की जगह अपनाई जाने वाली एक अभिनव प्रक्रिया है, जो पेपरवर्क को कम करते हुए अत्यंत शीघ्रता से संव्यवहारों का निपटारा करने में सक्षम है। इस प्रकार इस करार के माध्यम से ब्रिक्स विकास बैंकों के बीच सहयोग बढ़ने तथा प्रक्रिया के सरल होने और इसमें तेजी आने की उम्मीद है। साथ ही ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का प्रयोग करते हुए सीमापार भुगतान की लागत में भी कमी आएगी। 

भारतीय एक्जिम बैंक ब्रिक्स अंतरबैंक सहयोग तंत्र के अंतर्गत नामित विकास बैंक है। ब्रिक्स देशों के अन्य नामित विकास बैंकों में ब्राजील का बीएनडीईएसए रूस का वेनेश्कोनॉम बैंक, चीन का चाइना डेवलपमेंट बैंक और दक्षिण अफ्रीका का डेवलपमेंट बैंक ऑफ सदर्न अफ्रीका शामिल हैं। 

--आईएएनएस