'कमजोर मांग' से सेवा क्षेत्र में गिरावट : पीएमआई

 'कमजोर मांग की स्थितियों' के कारण देश के सेवा क्षेत्र की वृद्धि दर में फरवरी में गिरावट दर्ज की गई है। प्रमुख व्यापक आर्थिक आंकड़े सोमवार को जारी हुए। मौसमी समायोजित निक्केई इंडिया सर्विसेज पीएमआई बिजनेस एक्टिविटी सूचकांक फरवरी में गिरकर 47.8 पर रहा, जबकि जनवरी में यह 51.7 पर था।

इस सूचकांक में 50 से ऊपर का अंक तेजी तथा 50 से कम का अंक मंदी का सूचक है। 

आईएचएस माíकट की अर्थशाी और रिपोर्ट की लेखिका आशना डोढिया ने कहा, "नवंबर के बार कारोबारी गतिविधियों तथा नए काम दोनों में गिरावट आई है और गिरावट की यह अगस्त के बाद से सबसे अधिक है। इससे हाल में भारत के सेवा क्षेत्र में लौटी तेजी का अंत हो गया है। वास्तविक अनुमान के मुताबिक, सेवा क्षेत्र में अंतर्निहित मांग की स्थिति काफी कमजोर है।"

इसके साथ ही निक्केई इंडिया कंपोजित पीएमआई आउटपूट सूचकांक में भी गिरावट दर्ज की गई और यह फरवरी में गिरकर 49.7 पर रही, जबकि जनवरी में यह 52.5 पर थी।