ऑटो एक्सपो 2018 की शुरुआत रही दमदारः मारुति ने दिखाई कॉन्सेप्ट कार की झलक

ऑटो एक्सपो 2018 की शुरुआत इंडिया मार्ट सेंटर, ग्रेटर नोएडा में सुबह आठ बजे हॉल नंबर 9 पर मारुति की कंसेप्ट कार से हुई. मारुति के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि ये गाड़ी भविष्य की गाड़ी है. अभी इसे बाजार में उतारने का कोई प्लान नहीं है. उन्होंने कहा कि ऑटोमोबाइल सेक्टर में आने वाला वक्त काफी अहम होगा जब स्मार्ट गाड़ियां सड़कों पर दौड़ रही होंगी.

 

मारुति सुजुकी अब रैली स्पोर्ट्स में भी हिस्सा लेगी. इसके लिए उन्होंने एक खास गाड़ी तैयार की है. ये गाड़ी हर किस्म के वातावरण और सड़कों के लिए परफेक्ट होगी. इस गाड़ी की खासियतें अभी नहीं बताई गईं है. हालांकि कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि ये गाड़ी काफी दमदार होगी.

 

इसके बाद हॉल नंबर 9 में ही बारी थी होंडा की. होंडा ने तीन गाड़ियों पर से पर्दा उठाया. अमेज, सीआरवी और सिविक गाड़ियों के नए मॉडल पेश किए गए. कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि ये गाड़ियां भविष्य के लिए कंपनी की तैयारी है. बताया गया कि इस वित्तीय वर्ष ये इन गाड़ियों को बिक्री के लिए बाजार में उतारा जाएगा.




amazeअमेज

होंडा के अधिकारियों ने गाड़ियों की कीमतों के बारे में तो कुछ नहीं बताया लेकिन इतना कहा कि भारतीय बाजार में ये गाड़ियां आसानी से पकड़ बनाने में कामयाब हो जाएंगी. इन गाड़ियों में नए सेफ्टी फीचर्स हैं. कंपनी चाहती है कि गाड़ी चलाना पहले से आसान हो इसके लिए गाड़ी में काफी कुछ नया दिया गया है.

 

हॉल नंबर सात है KIA मोटर्स का जहां करीब सुबह 9 बजे बहुत चहल पहल थी. ये कोरिया की कंपनी है जो पहली बार भारतीय बाजार में आई है. कंपनी की योजना जल्द से जल्द अपने उत्पादों को लॉन्च करने की है. हालांकि ये नहीं बताया गया कि कब तक कंपनी इन गाड़ियों को भारतीय बाजार में उतारेगी. कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वे भारतीय बाजार को समझ रहे हैं और यहां के मुताबिक गाड़ियां उतारी जाएंगी. हालांकि कंपनी ने ऑटो एक्सपो में अपने 16 मॉडल दिखाए.

 

इसके बाद हॉल नंबर 5 में रैनो कार प्रदर्शित की गई. जैसे ही कार पर से पर्दा उठा भीड़ ने जोरदार ढंग से कांसेप्ट गाड़ी का स्वागत किया. कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी और डिजाइन प्रमुख ने बताया कि ये गाड़ी कार्बन फाइबर की बनी है. गाड़ी की छत खुल सकती है. इसका डैशबोर्ड लकड़ी का है और सीटें लैदर की हैं. टायरों के लिए भी खास तकनीक का इस्तेमाल किया गया है.

 

रैनो ने इसके बाद जो गाड़ी दिखाई उसका नाम था जोई. ये एक ई-कॉन्सेप्ट गाड़ी है. ये चार्ज होने पर दौड़ेगी और इसकी स्पीड बाकी इलेक्ट्रिक गाड़ियों जैसी नहीं बल्कि किसी स्पोर्ट्स कार जैसी होगी.

 

रैनो ने कैप्चर नाम की गाड़ी दिखाई जो एक एसयूवी है. ये भारतीय बाजार से काफी अच्छी है और महिन्द्रा या टोयोटा की गाड़ियों को टक्कर दे सकती है. ये गाड़ी रैनो की ही डस्टर से भी बेहतर है.

 

रैनो के पवैलियन पर ट्रैजर नाम की गाड़ी भी दिखाई दी जो एक कॉन्सेप्ट कार है. इस कार के बारे में कंपनी के अधिकारियों ने बताने से फिलहाल इंकार किया लेकिन इस बार ऑटो एक्सपो में ये काफी भीड़ खींचने वाली है, यह तय रहेगा.