विदेशी संकेतों से चाल पकड़ेगा घरेलू शेयर बाजार, आरबीआई के फैसले का रहेगा इंतजार (आउटलुक)
Sunday, 27 September 2020 15:52

  • Print
  • Email

मुंबई: भारतीय शेयर बाजार की चाल इस सप्ताह भी मुख्य रूप से वैश्विक संकेतों से ही तय होगी, हालांकि निवेशकों को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की 29 नवंबर से होने जा रही मौद्रिक समीक्षा बैठक के फैसलों का इंतजार रहेगा। साथ, ही ऑटो कंपनियों की बिक्री के आंकड़े और प्रमुख आर्थिक आंकड़ों से भी बाजार को दिशा मिल सकती है। वहीं, दो अक्टूबर को गांधी जयंती के अवकाश पर शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार में कारोबार बंद रहेगा। कोरोना के कहर के साये में निराशाजनक वैश्विक संकेतों से बीते सप्ताह घरेलू बाजार में कोहराम का आलम रहा और प्रमुख संवेदी सूचकांकों में साप्ताहिक आधार पर तकरीबन चार फीसदी की गिरावट रही। इस सप्ताह भी बाजार की चाल तय करने में वैश्विक संकेतों का प्रभाव ज्यादा रहेगा। हालांकि बाजार को दिशा देने में घरेलू कारकों की भी अहम भूमिका होगी।

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक 29 नवंबर से शुरू होने जा रही है जिसके नतीजे एक अक्टूबर को आएंगे। निवेशकों को आरबीआई के नतीजों का इंतजार रहेगा। वहीं, अगले महीने के आरंभ से ही ऑटो कंपनियां सितंबर महीने की बिक्री के आंकड़े जारी करेंगी जिसका असर ऑटो कंपनियों के शेयरों पर देखने को मिलेगा।

इससे पहले इस महीने के आखिर में 30 सितंबर को भारत क इन्फ्रास्ट्रक्चर आउटपुट के अगस्त महीने के आंकड़े जारी होंगे। इसके अगले दिन एक अक्टूबर को मार्किट मैन्युफैक्च रिंगपीएमआई के सितंबर महीने के आंकड़े जारी होंगे। इन दोनों आंकड़ों से घरेलू शेयर बाजार को दिशा मिल सकती है।

उधर, शीर्ष अदालत में सोमवार को लोन मॉरेटोरियम की अवधि के दौरान ब्याज दर माफ करने की मांग से संबंधित मामले में सुनवाई होने वाली है जो पिछले सप्ताह टल गई थी। बाजार की नजर इस फैसले पर भी रहेगी।

विदेशी मोर्चे पर देखें तो चीन में सप्ताह के दौरान बुधवार को एनबीएस मैन्युफैक्च रिंग और नॉन-मैन्युफैक्च रिंग पीएमआई के सितंबर महीने के आंकड़े जारी होंगे। वहीं, कैक्सिन मैन्युफैक्च रिंग पीएमआई के सितंबर महीने के आंकड़े भी इसी दिन जारी होंगे। चीन के बाद अमेरिका में मार्किट मैन्युफैक्च रिंग पीएमआई के सितंबर महीने के आंकड़े गुरुवार को जारी होंगे। इन आंकड़ों का असर वैश्विक बाजार पर देखने को मिलेगा जिसका असर भारतीय बाजार पर भी देखने को मिल सकता है।

बीते सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार में जबरदस्त रिवकरी आने के बाद भी बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स साप्ताहिक आधार पर 1,457.16 अंकों यानी 3.75 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 37,388.66 पर बंद हुआ। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सप्ताह के मुकाबले 454.70 अंकों यानी 3.95 फीसदी की गिरावट के साथ 11,050.25 पर बंद हुआ। बीएसई मिडकैप सूचकांक साप्ताहिक आधार पर 711.12 अंकों यानी 4.73 फीसदी टूटकर 14,336.68 पर बंद हुआ जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 804.40 अंक यानी 5.26 फीसदी लुढ़ककर 14,495.58 पर ठहरा।

कोरोना का कहर लगातार बना हुआ है और इस बीच बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख की घोषणा हो चुकी है। लिहाजा, बाजार की नजर कोरोना के बढ़ते मामले के साथ-साथ राजनीतिक घटनाक्रमों पर भी रहेगी।

--आईएएनएस

पीएमजे-एसकेपी

 

 

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss