Print this page

ऑयल कंटैंगो : ड्राय बल्क कंटेनर का किराया घटने पर भी टैंकरों की दर बढ़ी
Thursday, 17 September 2020 21:27

नई दिल्ली: कोविड-19 महामारी के कारण ड्राय बल्क और कंटेनर कैरियर्स की चार्टर दरों पर भी असर पड़ा है। यह बात गुरुवार को क्रिसिल रिसर्च ने कही। इसके अनुसार, मांग में कमी आने के कारण ड्राई बल्क और कंटेनर्स कैरियर्स की चार्टर दरों को आर्थिक मंदी का खामियाजा उठाना पड़ा है।

क्रिसिल रिसर्च ने एक रिपोर्ट में कहा, "अभी भी इन सेगमेंट्स में साल के बाकी बचे हुए समय के लिए मंदी की स्थिति बनी हुई है।"

इन परिस्थितियों को 'ऑयल कंटंगा' के रूप में जाना जाता है।

रिपोर्ट में कहा गया है, "इस साल की शुरुआत में कच्चे तेल की कीमतों में कमी के कारण 'ऑयल कंटैंगा' नाम की एक स्थिति पैदा हो गई, जिसमें तेल वायदा अनुबंध की कीमत हाजिर भाव से अधिक हो गई थी। इसने अस्थायी भंडारण के लिए जहाजों की बुकिंग करने को बढ़ावा दिया।"

इसके कारण ड्राय बल्क और कंटेनर की दरों में गिरावट आने के बाद भी टैंकरों की चार्टर दरें 2020 की पहली छमाही में 44 प्रतिशत अधिक रहीं।

रिपोर्ट में कहा गया है, "हालांकि तेल का निर्यात करने वाले व्यापारी और देश अस्थायी भंडारण कर रहे हैं, फिर भी वैश्विक व्यापार में मांग और आपूर्ति की गतिशीलता के कारण दरों के पटरी पर आने उम्मीद है। हमें लगता है कि भारतीय शिपिंग करने वालों के राजस्व में 9 से 11 फीसदी की गिरावट आएगी। लेकिन ईंधन की लागत में कमी से कम व्यापार के कारण इन लोगों को थोड़ा फायदा होगा।"

--आईएएनएस

एसडीजे/एसजीके