औद्योगिक धातुओं में जोरदार तेजी, 6 महीने के ऊंचे स्तर पर तांबा
Thursday, 09 July 2020 13:24

  • Print
  • Email

मुंबई: कोरोना के गहराते कहर के बीच औद्योगिक गतिविधियां तेज होने से औद्योगिक धातुओं के दाम में जबरदस्त तेजी देखी जा रही है। घरेलू एवं अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तांबा यानी कॉपर का दाम तकरीबन छह महीने के उंचे स्तर पर चला गया है और तमाम बेस मेटल्स के भाव में उछाल आया है।

कमोडिटी बाजार के जानकार बताते हैं कि चिली के खदानों में काम करने वाले मजदूरों में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले पाए जाने के बाद खनन कार्य प्रभावित होने से औद्योगिक धातुओं के दाम में तेजी आई है।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर गुरुवार को कॉपर का भाव 6,314.75 डॉलर प्रति टन चल रहा था जबकि इससे पहले भाव 6330.50 डॉलर प्रति टन तक उछला जोकि 16 जनवरी के बाद का सबसे उंचा स्तर है जब कॉपर का भाव एलएमई 6,342.25 डॉलर प्रति टन तक उछला। कोरोना काल में आर्थिक गतिविधियां चरमराने के कारण कॉपर का भाव 19 मार्च को 4,371 डॉलर प्रति टन तक टूटा था, जिसके बाद करीब 45 फीसदी की उछाल आई है।

इसी प्रकार, जिंक, लेड, निकल और अल्युमीनियम में भी जबदरस्त तेजी आई है। एलएमई पर अल्युमीनियम का भाव पिछले सत्र से 0.57 फीसदी की तेजी के साथ 1,676.75 डॉलर प्रति टन पर कारोबार चल रहा था। जिंक में पिछले सत्र से 0.63 फीसदी की तेजी के साथ 2,142 डॉलर प्रति टन पर, लेड में 0.44 फीसदी की बढ़त के साथ 1,824.25 डॉलर प्रति टन पर और निकल में 0.19 फीसदी की तेजी के साथ 13,505 डॉलर प्रति टन पर कारोबार चल रहा था।

केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि चिली के खदानों में काम करने वाले मजदूरों में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ जाने के बाद खनन कार्य पर प्रभावित होने से तमाम बेस मेटल्स में तेजी आई है।

केडिया ने बताया कि दुनिया में कॉपर के सबसे बड़े उत्पादक चिली की कोडेल्को में करीब 3000 कामगारों के कोरोना से संक्रमण होने की रिपोर्ट आने के बाद कंपनी में सुरक्षा के उपाय बढ़ाने की मांग हो रही है।

उन्होंने कहा कि बेस मेटल्स में तेजी की वजह औद्योगिक गतिविधियां बढ़ने के संकेत मिलने से भी आई है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और चीन में जिस प्रकार से मैन्युुैक्च रिंग पीएमआई के आंकड़े अच्छे आए हैं, जिससे औद्योगिक गतिविधियों में रिकवरी के संकेत मिल रहे हैं।

घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर कॉपर के जुलाई अनुबंध में गुरुवार को पिछले सत्र से 5.60 रुपये यानी 1.17 फीसदी की तेजी के साथ 483.10 रुपये प्रति किलो पर बना हुआ था जबकि कारोबार के दौरान तांबे का भाव 485.80 रुपये प्रति किलो तक उछला जोकि 16 जनवरी के बाद का सबसे उंचा स्तर है।

एमसीएक्स पर निकल के जुलाई अनुबंध में पिछले सत्र से 0.24 फीसदी की तेजी के साथ 1017.20 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था। वहीं, जिंक का जुलाई अनुबंध पिछले सत्र से 0.45 फीसदी की तेजी के साथ 169.70 रुपये प्रति किलो पर बना हुआ था। लेड के जुलाई अनुबंध में 0.48 फीसदी की तेजी के साथ 145.85 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था। अल्युमीनियम का जुलाई अनुबंध भी पिछले सत्र से 0.65 फीसदी की तेजी के साथ 140.30 रुपये प्रति किलो पर बना हुआ था।

कमोडिटी के जानकार और एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने बताया कि दुनियाभर में लॉकडाउन के बाद आर्थिक गतिविधियां पटरी पर लौट रही हंै और धीरे-धीरे औद्योगिक कारोबार में भी सुधार आ रहा है जिसका संकेत अमेरिका और चीन के मजबूत आर्थिक आंकड़ों से देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि औद्योगिक गतिविधियां तेज रहेंगी तो औद्योगिक धातुओं में तेजी बनी रहेगी। उन्होंने कहा कि तमाम बेस मेटल्स की कीमतें इस साल जनवरी के बाद के सबसे उंचे स्तर पर हैं।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss