Print this page

पटकथा से छेड़छाड़ नहीं करता : अनिल
Thursday, 14 March 2013 11:35

Photo: IANS Photo: IANS

मुम्बई, 11 मार्च (आईएएनएस)| अभिनेता अनिल कपूर का कहना है कि एक फिल्म निर्माता के नाते वह लेखक की पटकथा से न तो कोई छेड़छाड़ करते हैं और न ही उसमें कोई बदलाव ही करते हैं। अनिल ने बतौर निर्माता कुछ फिल्में बनाई हैं। 53 वर्षीय अनिल रविवार को यहां स्क्रीनराइटर्स लैब प्रेस वार्ता में बोल रहे थे। उन्होंने कहा, "मैं पटकथा का पालन करता हूं। मैंने जब 'गांधी माय फादर बनाई थी तब पटकथा में कोई बदलाव नहीं किया था। मैंने यह नहीं सोचा था कि यह व्यावसायिक फिल्म है या नहीं। आपको बस पटकथा में विश्वास होना चाहिए फिर भले ही यह व्यावसायिक हो या न हो।"

उन्होंने कहा, "मैं उन निमार्ताओं में से हूं जो अगर पटकथा पसंद आ जाए तो फिर सब काम निर्देशक पर छोड़ देते हैं। मैं इसमें दखलंदाजी नहीं करता।"

अनिल कपूर ने बतौर निर्माता पहली फिल्म 'बधाई हो बधाई' 2002 में बनाई थी। इसके बाद उन्होंने 'माय वाइफ्स मर्डर', 'शॉर्ट कट: दि कोन इज ऑन', 'आयशा' और 'नो प्रोब्लम' भी बनाईं।

स्क्रीनराइटर्स लैब 2013 ऐसी कार्यशाला हैं जहां छह पटकथा लेखकों को फिल्म विशेषज्ञों की देखरेख में कहानी लिखने का मौका दिया जाता है। इसका आयोजन भारतीय फिल्म विकास निगम करता है।

अनिल का मानना है कि कालकारों को अच्छी पटकथा की तलाश रहती है। उन्होंने कहा, "अब समय आ गया है जब पटकथा लेखक कलाकारों पर छा जाएंगे क्योंकि कलाकारों को अच्छी पटकथा की जरूरत होती है।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।