चीन ने बनाया समुद्र के ऊपर दुनिया का सबसे लंबा पुल, 3 घंटे की दूरी 30 मिनट में

चीन ने समुद्र पर दुनिया का सबसे लंबा पुल तैयार कर लिया है. 55 किलोमीटर तक फैले हुए इस पुल का नाम, हॉन्ग कॉन्ग-झुहाई-मकाउ पुल है. चीन से हॉन्ग-कॉन्ग यात्रा करने में 3 घंटे का समय लगता था, अब वह 30 मिनट में पूरा हो जाएगा. समुद्र के ऊपर बने इस पुल को बनाने में 4 लाख टन स्टील का इस्तेमाल हुआ है. इतना स्टील 60 एफिल टॉवर के वजन के बराबर है.

इस पुल को बनाने में 1 लाख 33 हजार करोड़ रुपए का खर्च आया है. इसमें अलग किस्म का स्टील इस्तेमाल किया गया है. विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी उम्र करीब 120 साल है.

पुल के लिए स्पीड लिमिट 100 किलोमीटर प्रति घंटा होगी. इससे केवल बस और कार ही जाएंगे. बाइक और पैदल यात्री इस पर नहीं जा सकते. इस पुल से हर रोज लगभग 40 हजार वाहन गुजरेंगे.

इस पुल पर एक तरफ जहां सड़क है वहीं अंडर-वाटर टनल यानी पानी के भीतर सुरंग भी है. समुद्र के भीतर 7 किलोमीटर लंबा सुरंग बनाने में 80 हजार टन पाइप का इस्तेमाल किया गया है. हॉन्ग कॉन्ग-झुहाई-मकाउ ब्रिज अथॉरिटी के प्लानिंग मैनेजर ने बताया कि इस सुरंग को बनाना काफी चुनौतियों भरा था.

विशेषज्ञों के मुताबिक, पुल के माध्यम से कारखानों से निकले सामान को आसानी से समुद्री बंदरगाहों पर भेजा जा सकेगा. जिससे व्यापार करने में भी आसानी होगी.

पुल बनाने वाले अधिकरियों को पर्यावरण समूहों द्वारा आलोचना का सामना भी करना पड़ रहा है. उनका कहना है कि पुल के निर्माण ने हांगकांग की चीनी सफेद डॉल्फिन की आबादी को और खतरे में डाल दिया है. हालांकि, अधिकारियों ने आरोपों को खारिज कर दिया है.

अधिकारियों ने बताया कि चीनी सफेद डॉल्फिन जिन इलाकों में रहती हैं, उधर के ढांचे को सावधानीपूर्वक डिजाइन किया गया है.

 

POPULAR ON IBN7.IN