इस जेल में सजा का विरोध मौत मांगने के बराबर, जलकर मर चुके हैं 140 कैदी

जेल यानी किसी अपराधी को उसके अपराध की सजा देने के लिए उसे जेल भेजा जाता है। दुनियाभर में अपराध साबित होने के बाद जेल में रहने की सजा सुनाई जाती है। जेल का मतलब तो आप सभी जानते हैं लेकिन आज हम जिस जेल के बारे में बता रहे हैं वो बाकी जेलों से अलग है। इस जेल में आने वाला अपराधी अपनी जिंदगी से ही परेशान हो जाता है क्योंकि यहां कैदियों को दी जाने वाली यातनाएं काफी भयानक हैं और जो कोई इसका विरोध करता है उसे जान से मार दिया जाता है। आइए बताते हैं इस जेल के बारे में ऐसी बातें जिसे जानकर आप भी चौक जाएंगे।

हम बात कर रहे हैं सऊदी अरब की अल हायर जेल की। सऊदी अरब की ये जेल मिडिल ईस्ट की खतरनाक जेलों में से एक है। साथ ही इस जेल का नाम दुनिया की सबसे खतरनाक जेलों में शुमार है। कहा जाता है कि अल हायर जेल में सख्त से सख्त कैदी भी टूट जाते हैं और अपनी जान की भीख मांगते नजर आते हैं। इस जेल में कैदियों को काफी भयानक सजा दी जाती है और अगर कोई कैदी गलती से सजा का विरोध करता है तो उसे जान से मार दिया जाता है। बावजूद इसके कैदी गार्ड द्वारा दी जाने वाली यातनाओं का विरोध करते हैं।

साल 2002 में अल हायर जेल में एक कैदी ने यातनाओं से परेशान होकर जेल में आग लगा ली थी। ये घटना इतनी बड़ी हो गई थी कि इस आग की चपेट में आने से करीब 140 कैदी और 40 गार्ड की जलकर मौत हो गई थी। इस जेल में कई कैदियों ने भागने की कोशिश जरूर की लेकिन कभी कामयाब नहीं हो सके।

बता दें कि मौत की सजा देने वाले देशों में से सऊदी अरब 4 नंबर पर है। यहां तलवार से गर्दन काटकर मौत की सजा देना आम बात जैसा है। अक्सर मीडिया में इस तरह की खबरें दिखाई देती हैं, शायद इस वजह से सऊदी अरब में क्राइम रेट काफी कम है।

 

POPULAR ON IBN7.IN