उत्तर कोरिया के खिलाफ अमेरिकी नीति विफल हो गई है : ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उत्तर कोरिया को लेकर अमेरिकी नीति पिछले 25 वर्षो से विफल रही है, जिस वजह से उत्तर कोरिया परमाणु हथियार बनाने में सक्षम हो सका है। समाचार एजेंसी एफे ने ट्रंप के ट्वीट के हवाले से बताया, "हमारा देश पिछले 25 वर्षो से उत्तर कोरिया से निपटने में असफल रहा है। हम उसे अरबों डॉलर दे चुके हैं, लेकिन बदले में कुछ नहीं मिला। हमारी नीति ने काम नहीं किया।"

उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन ने रविवार को कहा कि उनके देश का परमाणु हथियार कार्यक्रम देश की संप्रभुता की रक्षा करने और अमेरिका से हो रहे खतरे से निपटने का सर्वश्रेष्ठ विकल्प है।

ट्रंप ने यह नहीं बताया कि क्या वह उत्तर कोरिया के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने की तैयारी कर रहे हैं, क्योंकि वह ऐसा करने की कई बार संभावना जता चुके हैं।

ट्रंप ने राष्ट्रपति पद संभालने के बाद उत्तर कोरिया को लेकर कड़ा रुख अपनाया है और उत्तर कोरिया लगातार मिसाइल परीक्षण करता रहा है।

अमेरिका के टेनेसी के रिपब्लिकन सीनेटर बॉब कॉर्कर ने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि ट्रंप का बेतुका व्यवहार अमेरिका को तृतीय विश्वयुद्ध की ओर धकेल रहा है।

कॉर्कर ने हाल ही में कहा था कि वह 2018 में मध्यावधि चुनाव नहीं चाहते।

कॉर्कर द्वारा सार्वजनिक रूप से ट्रंप की आलोचना किए जाने के बाद इस सप्ताहांत ट्रंप, कॉर्कर पर जमकर बरसे।

ट्रंप ने लगातार ट्वीट कर कहा, "सीनेटर बॉब कॉर्कर ने मुझसे टेनेसी में दोबारा होने वाले चुनाव में समर्थन करने को कहा, जिस पर मैंने मना कर दिया तो वह पीछे हट गए। वह बिना मेरे समर्थन के नहीं जीत सकते।"

ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, "वह विदेशमंत्री भी बनना चाहते थे। मैंने कहा, नहीं शुक्रिया। वह ईरान सौदे के जिम्मेदार है।"

गौरतलब है कि अगस्त में कॉर्कर ने वर्जीनिया के शारलोट्सविले में हुई हिंसा के लिए ट्रंप की आलोचना की थी।

POPULAR ON IBN7.IN