फेसबुक और एफबी मैसेंजर लगातार खा रहा आपके फोन की बैटरी और तेजी से चार्ज भी नहीं होने दे रहा, जानिए कैसे

एंड्रॉयड यूजर्स अक्‍सर फोन का बैटरी बैकअप सही न होने की शिकायत करते हैं। अक्‍सर फोन का धीरे हो जाना, एप्‍स देर से खुलना और कुछ एप्‍स के इस्‍तेमाल पर फोन का हैंग होना आम समस्‍याओं में से एक है। ज्‍यादातर एंड्रॉयड डिवाइसेज के स्‍लो होने के पीछे फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर की सर्वर-साइड अपडेट है जो कि बैकग्राउंड में चुपचाप चलती रहती है। इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप इन एप्‍स का इस्‍तेमाल करते हैं या नहीं, दोनों लगातार चलती रहती हैं और फोन के सीपीयू पर भारी दबाव डालकर उसे धीमा कर देती है। एक टेक ब्लॉगर के अनुसार, फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर की एप्‍स को सर्वर पर अपडेट नहीं किया गया है, सिर्फ गूगल प्‍ले स्‍टोर पर मौजूद वर्जन में अपडेट्स मुहैया कराई जा रही हैं। ऐसा लगता है कि फेसबुक ने कोई बैकग्राउंड फीचर या अपडेट शुरू की है जिसकी वजह से एंड्रॉयड यूजर्स के सामने ऐसी समस्‍याएं आ रही हैं।

अपडेट के चलते आपके फोन को न सिर्फ उच्‍च फ्रीक्‍वेंसी पर रहने के लिए मजबूर किया जा रहा है, इससे पैदा होने वाली हीट की वजह से फोन तेज चार्ज भी नहीं हो पा रहे। किसी भी इलेक्‍ट्रानिक डिवाइस के गर्म होने का मतलब बिजली की बर्बादी है, इस‍ वजह से बैटरी भयानक तरीके से ड्रेन हो रही है।

Battery Saver, Facebook App, Messenger App, FB Messenger, Battery Usage, Android Battery Saving, Battery saving Tips, Facebook Killing Battery, Battery Consumption, Android, Technology, Jansatta एंड्रॉयड के बैटरी मेन्‍यू में देखने पर फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर का नाम नीचे दिखाई देता है। (Source: Screenshot)

हालांकि मजे की बात यह है कि जब आप एंड्रॉयड के बैटरी मेन्‍यू में सबसे ज्‍यादा बैटरी खाने वाली एप्‍स देखेंगे तो उसमें फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर का नाम नीचे दिखाई देता है। हालांकि अन्‍य बैटरी सेविंग सॉफ्टवेयर्स के प्रयोग से यह बात साफ हो जाती है कि फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर ही सबसे ज्‍यादा सीपीयू और बैटरी खा रहे हैं।

Battery Saver, Facebook App, Messenger App, FB Messenger, Battery Usage, Android Battery Saving, Battery saving Tips, Facebook Killing Battery, Battery Consumption, Android, Technology, Jansatta फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर ही सबसे ज्‍यादा सीपीयू और बैटरी खा रहे हैं।

आप जितनी देर तक कोई एप इस्‍तेमाल करते हैं, वह मेन मेमोरी में रहती है। उसके बाद एप बैकग्राउंड मेमोरी में चली जाती है और सीपीयू उसपर कार्रवाई रोक देता है। हालांकि फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर के मामले में ऐसा नहीं हो रहा। ऐसे में आपके पास इन दोनों एप्‍स को फोर्स स्‍टॉप या अन-इंस्‍टॉल करने के सिवा दूसरा रास्‍ता नहीं है।

  • Agency: IANS