दार्जिलिंग में दूसरे दिन भी जनजीवन अस्तव्यस्त

दार्जीलिंग: पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग हिल्स में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) द्वारा आहूत अनिश्चितकालीन बंद के कारण यहां दूसरे दिन रविवार को भी जनजीवन अस्तव्यस्त रहा। पुलिस ने कुछ प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। दुकानें, बाजार, शिक्षण संस्थान और कार्यालय बंद रहे। जीजेएम ने पृथक गोरखालैंड राज्य की मांग के समर्थन में इस बंद का आयोजन कर रखा है।

जीजेएम समर्थकों ने रैलियां आयोजित की और पूरे क्षेत्र में विरोध जुलूस निकाले।

पुलिस ने इस दौरान तीन महिलाओं सहित छह जीजेएम समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया। ये लोग धरने पर बैठे हुए थे और सड़क जाम कर रहे थे।

बंद समर्थकों ने दार्जिलिंग सदर पुलिस थाने का घेराव किया, जहां गिरफ्तार प्रदर्शनकारियों को रखा गया था।

जीजेएम कार्यकर्ताओं ने कलीमपोंग प्रखंड में एक वाहन को भी आग के हवाले कर दिया।

इस बीच राज्य के पंचायत मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने रविवार को पृथक राज्य की जीजेएम की मांग को जिद करार दिया।

मुखर्जी ने कहा, "मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य के विभाजन को खारिज कर दिया है। इससे बड़ी बात यह कि हमें नहीं लगता कि राज्य के लोग इस तरह के किसी विभाजन के पक्ष में हैं। यह केवल जीजेएम की जिद है और मैं आशा करता हूं कि उन्हें सद्बुद्धि आएगी।"

कांग्रेस नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) और कांग्रेस कार्यकारी समिति द्वारा मंगलवार को पृथक तेलंगाना राज्य की मांग का समर्थन करने के बाद जीजेएम ने गोरखालैंड का आंदोलन तेज कर दिया है, जिसके बाद से दार्जिलिंग अस्तव्यस्त है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN