उत्तराखंड त्रासदी के बाद हिमाचल पर्यटन में गिरावट

शिमला/मनाली: उत्तराखंड में बाढ़ व भूस्खलन से हुई तबाही के बाद उपजे भय के बीच हिमाचल प्रदेश में भारी वर्षा के अनुमानों के कारण राज्य में पर्यटकों की संख्या में भारी गिरावट देखने को आई है। इसके साथ ही राज्य में पिछले एक महीने में अक्सर महसूस किए जा रहे हल्की तीव्रता के भूकंपों ने हालात को और भी बदतर बना दिया है।

सेवा क्षेत्र से जुड़े लोगों का कहना है कि ऐसे में पिछले वर्ष की तुलना में इस माह में पर्यटकों की संख्या में 70 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है।

शिमला के होटल और रेस्तरां एसोसिएशन के अध्यक्ष हरमन कुकरेजा ने आईएएनएस को बताया कि मौसम विभाग ने भारी और बहुत भारी वर्षा के अनुमान जाहिर किए थे। लेकिन पिछले 15 दिनों से बारिश सामान्य ही है। उन्होंने कहा कि इससे पर्यटकों के बीच आशंका पैदा हो गई। क्योंकि उत्तराखंड की आपदा (17 जून) के बाद से पर्यटक, विशेषकर विदेशी पर्यटक, मौसम विभाग के अनुमानों पर गंभीरता से नजर रखने लगे हैं।

मनाली ट्रैवेल एजेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल शर्मा के अनुसार विदेशी पर्यटकों ने जम्मू एवं कश्मीर के लेह का रुख कर लिया है।

इसके साथ ही राज्य में भूकंप के हल्के झटके आए हैं। मौसम विभाग कार्यालय के अनुसार 14 अप्रैल को राज्य में भूकंप का हल्का झटका महसूस किया गया। इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.5 थी। इससे पहले नौ जुलाई को भी राज्य में हल्की तीव्रता का भूकंप आया था। राज्य में पांच और छह जून के बीच चार बार भूकंप आया था।

उल्लेखनीय है कि राज्य की अर्थव्यवस्था जल विद्युत परियोजनाओं, बागवानी और पर्यटन पर पूरी तरह निर्भर है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN