उत्तराखंड में एक और सीट जीती बीजेपी: ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत के बाद दोबारा वोटिंग

भारतीय जनता पार्टी के पूरन सिंह फारटयाल बुधवार को चम्पावत जिले की लौहाघाट सीट से विजेता घोषित कर दिए गए। एक पोलिंग बूथ पर दोबारा से चुनाव कराए जाने पर उन्हें 427 में से 400 वोट मिले। इस बूथ पर ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत के बाद नतीजे रोक लिए गए थे और फिर दोबारा चुनाव करवाए गए। उस वक्त वह 26,468 वोटों से आगे चल रहे थे। उनके बाद दूसरे नंबर पर कांग्रेस के कौशल सिंह थे, जिन्हें 26,320 वोट मिले थे। इस बूथ पर दोबारा से चुनाव कराए जाने के बाद भाजपा के 57 विधायक हो गए।

हालांकि, प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम पर सस्पेंस अभी भी बना हुआ है। पर्यवेक्षक केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष सरोज पांडे बुधवार को भी देहरादून नहीं पहुंचे। बताया जा रहा है कि दोनों गुरुवार को देहरादून पहुंचेंगे और विधायकों के साथ बैठक करेंगे।

मुख्यमंत्री उम्मीदवार के लिए तीन लोगों के नाम पर चर्चा है, इन तीन नामों में सतपाल महाराज, त्रिवेंद्र सिंह रावत और प्रकाश पंत शामिल हैं। महाराज कांग्रेस सहित कई पार्टियों में रह चुके हैं। साल 2014 में भाजपा के साथ जुड़ने से पहले वे कांग्रेस के नेता थे। रावत पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं, जिन्होंने डोइवाला सीट से चुनाव जीता है। पिथौरागढ़ विधायक पंत कुमाऊं से हैं। जबकि महाराज और रावत दोनों ठाकुर हैं, जबकि पंत ब्राहम्ण हैं। भाजपा नेता यह स्वीकार कर चुके हैं कि मुख्यमंत्री की घोषणा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह करेंगे।

POPULAR ON IBN7.IN