मायावती के बाद अब हरीश रावत ने ईवीएम पर उठाए सवाल

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती के बाद अब उत्तराखंड के निवर्तमान मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ईवीएम पर सवाल उठाए हैं। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए हरीश रावत ने कहा, ‘शुक्रिया ‘मोदी क्रांति’ और ईवीएम ‘चमत्कार’। हालांकि, उन्होंने साफ तौर पर ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की बात नहीं कही, लेकिन जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या वे ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की बात कर रहे हैं तो उन्होंने कहा, ‘आप लोग सब कुछ जानते हैं। मैं तुम लोगों को गुमराह नहीं कर रहा। मैं यह समझने के लिए आप लोगों पर छोड़ता हूं।’ इसके साथ ही उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को इस बारे में सफाई देनी चाहिए कि चुनाव प्रक्रिया को इतना लंबा क्यों खींचा गया।

हरीश रावत से पहले बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती ने भाजपा पर ईवीएम से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि ईवीएम पर लोगों ने चाहे किसी भी दल के निशान पर बटन दबाया हो लेकिन ईवीएम ने सिर्फ भाजपा को ही वोट दिया। मायावती ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को चुनौती दी है कि अगर उनमें हिम्मत है तो वो यूपी विधानसभी चुनाव रद्द कराकर फिर से चुनाव कराएं। मायावती ने कहा कि अगर मोदी और अमित शाह दूध के धुले हैं तो बैलेट पेपर से फिर से चुनाव करा लें, सही स्थिति सामने आ जाएगी। इसके साथ ही मायावती ने कहा कि उन्होंने  इस बारे में चुनाव आयोग को पत्र लिखा है कि लोगों को अब ईवीएम मशीन में भरोसा नहीं रह गया है। हालांकि, चुनाव आयोग ने मायावती के पत्र का जवाब देते हुए इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

उत्तराखंड का देखा जाए तो 70 विधानसभा सीटों में से भारतीय जनता पार्टी ने 56 सीटें जीत ली हैं और एक पर बढ़त बनाई हुई हैं। वहीं कांग्रेस ने केवल 11 सीटें जीती हैं। इसके अलावा दो सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीती हैं। उत्तराखंड में मुख्यमंत्री हरिश रावत दोनों सीटों से हार गए।

POPULAR ON IBN7.IN