सीओ हत्याकांड : सीबीआई हिरासत में भेजे गए दोनों आरोपी

लखनऊ, 12 मार्च (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश में कुंडा के सीओ जिया उल हक सहित तीन हत्याओं के मामले में गिरफ्तार दोनों आरोपियों को लखनऊ स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने छह दिन के लिए सीबीआई की हिरासत में भेजने का आदेश दिया।

मामले की जांच कर रही सीबीआई ने विशेष अदालत से अनुरोध किया था कि पूछताछ के लिए दोनों आरोपियों को 14 दिन के लिए रिमांड पर भेजा जाए। मगर अदालत ने मंगलवार को सुनवाई के बाद दोनों आरोपियों को गुड्डू सिंह और राजीव सिंह को मात्र छह दिन के लिए सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया।

अदालत के आदेश के मुताबिक, दोनों आरोपियों को सीबीआई बुधवार सुबह 10 बजे रिमांड पर लेगी और 18 मार्च की शाम चार बजे के बाद न्यायिक अभिरक्षा में वापस प्रतापगढ़ जेल भेजेगी।

कुंडा के तिहरे हत्याकांड की जांच कर रही सीबीआई को हालांकि पांच दिन बाद भी कोई ठोस सुराग या साक्ष्य हाथ नहीं लगा है। जांच एजेंसी को लगता है कि जेल में बंद दोनों गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में हत्याकांड के बाबत कुछ अनसुलझे सवालों से जवाब मिल सकते हैं।

सीबीआई कुंडा के स्थानीय पंचायत कार्यालय में अपना शिविर कार्यालय खोलकर घटना की पड़ताल कर रही है। घटना के दिन सीओ को अकेला छोड़कर भागने के आरोप में निलंबित चार पुलिसकर्मियों से सीबीआई कई बार पूछताछ कर चुकी है।

इसके अलावा सोमवार को सीबीआई अधिकारियों ने सीओ के शव का पोस्टमार्टम करने वाले डक्टरों से भी पूछताछ की, लेकिन सूत्र बताते हैं कि अभी तक न तो हत्याओं की वजह का पता चल सका है और न ही कोई गवाह मिला है।

इस बीच सीबीआई ने कई लोगों से भी पूछताछ की है, लेकिन कोई राजा भैया के बारे में अपनी जुबान नहीं खोल रहे हैं। सीबीआई की तरफ से अपील जारी कर ग्रामीणों से सहयोग मांगा गया है, लेकिन अभी तक कोई शख्स सामने नहीं आया है।

हत्या में नाम आने के बाद पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। उनसे अभी तक पूछताछ नहीं हुई है।

गौरतलब है कि विगत दो मार्च को वलीपुर गांव में ग्राम प्रधान नन्हें यादव की हत्या के बाद गांव में जमकर हंगामा हुआ था। इसी दौरान ग्राम प्रधान के भाई रमेश को समझाने और बवाल को रोकने गए सीओ जिया उल हक की भीड़ ने कथित तौर पर हत्या कर दी थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN