छेडछाड़ मामला : पुलिस के दबाव के बाद विधायक का जनसंपर्क कार्यालय बंद

उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की नरैनी सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक के प्रतिनिधि और उनके बेटे दो नाबालिग छात्राओं के साथ छेड़छाड़ और मारपीट के मामले में फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी को लेकर चल रहे कमोबेश के बीच मंगलवार को विधायक का जनसंपर्क कार्यालय बंद कर दिया गया। नरैनी से भाजपा विधायक राजकरन कबीर के बांदा रोड स्थित जनसंपर्क कार्यालय में उनके प्रतिनिधि नंदकिशोर ब्रह्मचारी के अलावा मुख्य सेवादार भोला प्रसाद बसराही, बाबू जी और रसोइया रामचरन तैनात थे।

इन्हीं सेवादारों पर संघ, पार्टी पदाधिकारियों और अन्य जनप्रतिनिधियों की खातिरदारी का जिम्मा था, कार्यालय में विधायक तो बहुत कम हाजिर रहते थे।

पिछले 23 सितंबर को विधायक के प्रतिनिधि और उनके बेटे राहुल के खिलाफ दो ब्राह्मण नाबालिग छात्राओं से छेड़छाड़ करने और उनके घर में घुसकर मारपीट करने के मामले में अदालत में पीड़ित पक्ष का बयान दर्ज होने से पुलिस हरकत में आई।

गिरफ्तारी से घबराकर प्रतिनिधि अपने बेटे सहित फरार हो गए। कार्यालय में तैनात सेवादारों से पुलिस अब तक कई बार पूछताछ कर चुकी है।

कार्यालय के मुख्य सेवादार भोला प्रसाद ने बताया कि पुलिस उन्हें बार-बार परेशान कर रही है, मामले में दर्ज चार अज्ञात आरोपियों के नाम पर फंसाने की धमकी दे रही है। पुलिस के ही भय से विधायक ने मंगलवार से जनसंपर्क कार्यालय बंद करवा दिया है।

मामले के विवेचना अधिकारी/उपनिरीक्षक रामआसरे त्रिपाठी ने बताया कि विधायक कार्यालय में तैनात कर्मचारियों को परेशान नहीं किया गया। नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश जरूर दी गई है।

उन्होंने बताया कि पीड़िता के घर में घुसकर मारपीट करने के मामले में दर्ज अज्ञात चार आरोपी यही कर्मचारी हो सकते हैं, शायद इसी से घबराकर उन्होंने कार्यालय बंद कर दिया हो।

POPULAR ON IBN7.IN