पर्यटकों पर नए कर से होटल व्यवसायी नाराज

आगरा नगर निगम (एमसीए) सार्वजनिक बुनियादी सुविधाओं के विकास एवं रखरखाव के उद्देश्य से धन इकट्ठा करने का एक नया तरीका अपनाने की प्रक्रिया में है। एमसीए शहर में पांचसितारा, चारसितारा तथा तीनसितारा होटलों में रुकने वाले पर्यटकों पर कर लगाने की तैयारी कर रही है। एमसीए ने कुछ दिनों पहले नए कर के प्रस्तावों को मंजूरी दी थी। उसके बाद से शहर के होटल व्यवसायी नाराज हैं।

होटल व्यवसायियों द्वारा तीखा विरोध किए जाने के बावजूद एमसीए के अध्यक्ष डी. के. सिंह ने कहा कि प्रस्ताव एकदम सही है तथा इससे शायद ही किसी पर कोई बोझ आए।

सिंह ने आईएएनएस से कहा, "अगर उन्हें (होटल व्यवसायियों) किसी तरह की आपत्ति है तो, उन्हें पहले अपने कमरों की दरें कम करनी चाहिए।"

उन्होंने आगे कहा, "हम पांचसितारा होटलों में ठहरने वाले पर्यटकों पर 100 रुपया प्रतिदिन तथा तीनसितारा होटलों में रुकने वालों से 50 रुपये प्रतिदिन की दर से कर लगाने वाले हैं। अपेक्षाकृत सस्ते होटलों तथा सरायों को इसमें छूट रहेगी।"

सिंह ने कहा, "किसी पांच सितारा होटल में ठहरने वाला पर्यटक आराम से यह राशि अदा कर सकता है। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि किस बात को लेकर बवाल मचा हुआ है।"

उन्होंने बताया कि प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है तथा अब इसे बोर्ड के सम्मुख रखा जाएगा, उसके बाद अधिसूचना जारी करने के लिए भेजा जाएगा।

होटल व्यवसायियों को डर है कि कर थोपे जाने से पर्यटन बुरी तरह प्रभावित हो सकता है।

होटल व्यवसायियों के वरिष्ठ नेता राजीव तिवारी ने आईएएनएस से कहा, "यह तो अत्याचार है। यह किसी भी तरह सही नहीं है और प्रत्यक्ष रूप से गलत है। हम पर पहले से इतने करों का बोझ है। हम मंडलायुक्त से मुलाकात कर इस नए कर का विरोध करेंगे तथा मुख्यमंत्री से भी इस सिलसिले में मुलाकात करेंगे।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN